राजस्थान का अगला Cheif Minister मुख्यमंत्री कौन होगा?

0
277
Cheif Minister
File Photo by Google

राजस्थान का अगला Cheif Minister मुख्यमंत्री कौन होगा?

राजस्थान का अगला Cheif Minister मुख्यमंत्री वह व्यक्ति होगा जो 2023 के राजस्थान विधानसभा चुनावों में अधिकांश सीटें जीतने वाली पार्टी का नेतृत्व करेगा। राज्य में दो मुख्य दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) हैं। वर्तमान में कांग्रेस सत्ता में है और अशोक गहलोत Cheif Minister मुख्यमंत्री हैं। भाजपा मुख्य विपक्षी दल है और राज्य में इसकी वर्तमान नेता वसुंधरा राजे सिंधिया हैं।

अशोक गेहलोत

अशोक गहलोत कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राजस्थान की राजनीति के दिग्गज नेता हैं। उन्होंने 1998-2003, 2008-13 और 2018-वर्तमान में तीन बार राजस्थान के Cheif Minister मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया है। वह अपने मजबूत राजनीतिक कौशल और जनता से जुड़ने की क्षमता के लिए जाने जाते हैं। गहलोत कांग्रेस कार्यकर्ताओं और समर्थकों के बीच भी एक लोकप्रिय व्यक्ति हैं।

वसुन्धरा राजे सिन्धिया

वसुंधरा राजे सिंधिया भाजपा की एक अन्य वरिष्ठ नेता और राजस्थान की पूर्व Cheif Minister मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने 2013 से 2018 तक राजस्थान की Cheif Minister मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया। राजे को उनके करिश्मे और प्रशासनिक कौशल के लिए जाना जाता है। वह भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों के बीच भी एक लोकप्रिय शख्सियत हैं।

अन्य दावेदार

कुछ अन्य नेता भी हैं जिन्हें राजस्थान के Cheif Minister मुख्यमंत्री पद के संभावित दावेदारों के रूप में देखा जा रहा है। इसमे शामिल है:

1.सचिन पायलट: पायलट एक युवा और गतिशील कांग्रेस नेता हैं। वह राजस्थान के वर्तमान उप Cheif Minister मुख्यमंत्री हैं। पायलट युवाओं के बीच लोकप्रिय हैं और उन्हें कांग्रेस के संभावित भावी नेता के रूप में देखा जाता है।


2.राजेंद्र राठौड़: राठौड़ भाजपा के वरिष्ठ नेता और राजस्थान विधानसभा में वर्तमान विपक्ष के नेता हैं। वह अपने सशक्त वक्तृत्व कौशल और राजपूत समुदाय के बीच अपनी लोकप्रियता के लिए जाने जाते हैं।


3.गुलाब चंद कटारिया: कटारिया भाजपा के एक अन्य वरिष्ठ नेता और राजस्थान विधानसभा में विपक्ष के वर्तमान उपनेता हैं। वह अपने प्रशासनिक कौशल और वाल्मिकी समुदाय के बीच अपनी लोकप्रियता के लिए जाने जाते हैं।


कारक जो चुनाव के नतीजे को प्रभावित करेंगे

ऐसे कई कारक हैं जो 2023 के राजस्थान विधानसभा चुनावों के नतीजे को प्रभावित करेंगे और परिणामस्वरूप, राजस्थान के अगले Cheif Minister मुख्यमंत्री की पहचान को प्रभावित करेंगे। इन कारकों में शामिल हैं:

मौजूदा सरकार का प्रदर्शन: मौजूदा कांग्रेस सरकार का प्रदर्शन चुनाव में एक प्रमुख कारक होगा। यदि सरकार अपने वादों को पूरा करने और मतदाताओं के बीच सकारात्मक छवि बनाए रखने में सक्षम है, तो इससे कांग्रेस के चुनाव जीतने की संभावना बढ़ जाएगी। हालाँकि, अगर सरकार को खराब प्रदर्शन करने वाली या भ्रष्ट के रूप में देखा जाता है, तो इससे कांग्रेस की संभावनाओं को नुकसान होगा।


सत्ता विरोधी लहर: राजस्थान की राजनीति में सत्ता विरोधी लहर का इतिहास रहा है. मौजूदा सरकार पांच साल से सत्ता में है और ऐसी संभावना है कि कुछ मतदाता बदलाव की उम्मीद कर रहे होंगे।


जातिगत गतिशीलता: राजस्थान एक जाति-संवेदनशील राज्य है, और जातिगत गतिशीलता चुनावों में भूमिका निभाएगी। कांग्रेस और भाजपा का अपना-अपना जातीय गढ़ है। जो पार्टी अपने जातीय आधार को अधिक प्रभावी ढंग से संगठित करने में सक्षम होगी, उसे चुनाव में लाभ होगा।


राष्ट्रीय मूड: राजस्थान विधानसभा चुनाव पर राष्ट्रीय मूड का भी असर पड़ेगा. यदि कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर पर अच्छा प्रदर्शन कर रही है, तो इससे राजस्थान में चुनाव जीतने की पार्टी की संभावना बढ़ जाएगी। हालाँकि, अगर भाजपा राष्ट्रीय स्तर पर अच्छा प्रदर्शन कर रही है, तो इससे कांग्रेस की संभावनाओं को नुकसान होगा।
भविष्यवाणी

राजस्थान का अगला Cheif Minister मुख्यमंत्री कौन होगा इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है. चुनाव में अभी कई महीने बाकी हैं और अब से लेकर तब तक बहुत कुछ हो सकता है। हालाँकि, मौजूदा कारकों के आधार पर, ऐसा लगता है कि राजस्थान का अगला मुख्यमंत्री या तो अशोक गहलोत या फिर वसुंधरा राजे सिंधिया होंगे।

निष्कर्ष

राजस्थान का अगला Cheif Minister मुख्यमंत्री वह व्यक्ति होगा जो 2023 के राजस्थान विधानसभा चुनावों में अधिकांश सीटें जीतने वाली पार्टी का नेतृत्व करेगा। राज्य में दो मुख्य दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) हैं। वर्तमान में कांग्रेस सत्ता में है और अशोक गहलोत Cheif Minister मुख्यमंत्री हैं। भाजपा मुख्य विपक्षी दल है और राज्य में इसकी वर्तमान नेता वसुंधरा राजे सिंधिया हैं।

ऐसे कई कारक हैं जो चुनाव के नतीजों को प्रभावित करेंगे, जिनमें मौजूदा सरकार का प्रदर्शन, सत्ता विरोधी लहर, जातिगत गतिशीलता और राष्ट्रीय मूड शामिल हैं। मौजूदा कारकों के आधार पर ऐसा लग रहा है कि राजस्थान का अगला Cheif Minister मुख्यमंत्री या तो अशोक गहलोत होंगे या फिर वसुंधरा राजे सिंधिया.

Read also:- https://ainrajasthan.com/exploring-the-richness-of-national-parks-in-india/

Read also:- https://ainrajasthan.com/dc-vs-csk-csk-became-the-second-team-to-reach-the-play-offs/

Read also:- https://ainrajasthan.com/anand-mahindra-a-visionary-leader-redefining-success/

Read also: – https://ainrajasthan.com/rahul-gandhi-wikipedia/

india/

Read also :- https://ainrajasthan.com/government-announced-twice-still-not-completed-in-10-years-panchayati-raj-ldc-2013-recruitment/

Read also :– https://ainrajasthan.com/600-crore-robbery-failed/

Read also :– https://ainrajasthan.com/2000-note-now-just-a-piece-of-paper/

Read also :– https://ainrajasthan.com/inflation-relief-camp-effective-in-liberating-people-from-inflation/

Read also :– https://ainrajasthan.com/national-president-rampal-jat-ordered-by-the-central-government-to-the-state-government/

Previous articleJaipur जयपुर का इतिहास
Next articleNational Film Award 2023: A Celebration of Indian Cinema
Ashish Tiwari
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here