Friday, February 23, 2024
a

Homeराज्य शहरराजस्थानJaipur जयपुर का इतिहास

Jaipur जयपुर का इतिहास

Jaipur जयपुर का इतिहास


Jaipur जयपुर, जिसे गुलाबी शहर के नाम से भी जाना जाता है, भारत के राजस्थान राज्य की राजधानी है। यह भारत के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है, जो अपने आश्चर्यजनक किलों, महलों और मंदिरों के लिए जाना जाता है। जयपुर का समृद्ध इतिहास 12वीं शताब्दी से है।

आरंभिक इतिहास

राजपूतों का कछवाहा वंश 12वीं शताब्दी में अरावली पहाड़ियों में आमेर के पुराने किले महल में पहुंचा। कच्छवाहा क्षत्रिय या हिंदुओं की योद्धा जाति से संबंधित थे, और उनकी उत्पत्ति कुसा के माध्यम से सूर्य से हुई, जो भगवान राम के जुड़वां पुत्र थे।

कच्छवाहा राजपूत एक शक्तिशाली कबीला थे, और सदियों से अंबर के उनके साम्राज्य का महत्व बढ़ता गया। 16वीं शताब्दी में कच्छवाहा राजपूतों ने मुगल सम्राटों के साथ गठबंधन बनाया। इस गठबंधन ने कछवाहा राजपूतों को अपने राज्य का विस्तार करने और भारत में सबसे शक्तिशाली रियासतों में से एक बनने में मदद की।

Jaipur जयपुर की स्थापना

18वीं सदी की शुरुआत में, महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय ने अपने राज्य के लिए एक नई राजधानी बनाने का फैसला किया। आमेर की पुरानी राजधानी अत्यधिक भीड़भाड़ वाली होती जा रही थी और पानी की कमी थी। जयसिंह ने नई राजधानी के लिए आमेर से लगभग 11 किलोमीटर दूर एक स्थान चुना। नए शहर को डिज़ाइन करने के लिए उन्होंने कई वास्तुकारों और विद्वानों से परामर्श किया।

नए शहर की आधारशिला 1727 में रखी गई थी। शहर को वास्तुकला के प्राचीन हिंदू विज्ञान वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों के अनुसार डिजाइन किया गया था। शहर को नौ आयताकार खंडों में विभाजित किया गया था, जिसमें चौड़ी सड़कें और सार्वजनिक चौराहे थे। शहर की सभी इमारतें गुलाबी रंग से रंगी गईं, जिससे शहर को गुलाबी शहर का उपनाम मिला।

Jaipur जयपुर आधुनिक भारत के पहले नियोजित शहरों में से एक था। यह अच्छे बुनियादी ढांचे वाला एक अच्छी तरह से डिज़ाइन किया गया शहर था। Jaipur जयपुर शीघ्र ही व्यापार और वाणिज्य का केंद्र बन गया। यह शिक्षा और संस्कृति का भी केंद्र था।

ब्रिटिश औपनिवेशिक काल

ब्रिटिश औपनिवेशिक काल के दौरान, Jaipur जयपुर एक रियासत बनी रही। ब्रिटिश शासकों ने Jaipur जयपुर के महाराजा को अपनी स्वायत्तता बनाए रखने की अनुमति दी, लेकिन वह ब्रिटिश सर्वोपरि के अधीन थे।

Jaipur जयपुर के महाराजा ने ब्रिटिश शासकों के साथ सहयोग किया और ब्रिटिश राज से लाभ उठाया। ब्रिटिश शासकों ने महाराजा को अपने राज्य को विकसित करने और अपनी सेना को आधुनिक बनाने में मदद की।

आज़ादी और उसके बाद

1947 में भारत को अंग्रेजों से आजादी मिलने के बाद, Jaipur जयपुर नवगठित राज्य राजस्थान की राजधानी बन गया। Jaipur जयपुर के महाराजा भारतीय संघ में शामिल हो गए और Jaipur जयपुर राज्य भारत गणराज्य का हिस्सा बन गया।

आजादी के बाद से Jaipur जयपुर का तेजी से विकास हुआ है। अब यह 30 लाख से अधिक लोगों की आबादी वाला एक प्रमुख महानगर है। Jaipur जयपुर व्यापार, उद्योग और पर्यटन का एक प्रमुख केंद्र है। यह एक प्रमुख शैक्षिक और सांस्कृतिक केंद्र भी है।

आज Jaipur जयपुर

Jaipur जयपुर एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, जो अपने आश्चर्यजनक किलों, महलों और मंदिरों के लिए जाना जाता है। यह शहर अपनी खरीदारी और अपने व्यंजनों के लिए भी जाना जाता है। Jaipur जयपुर एक समृद्ध इतिहास और संस्कृति वाला एक जीवंत और महानगरीय शहर है।

यहां Jaipur जयपुर के कुछ सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण हैं:

1.आमेर किला: आमेर किला एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है और Jaipur जयपुर में सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों में से एक है। यह किला शहर की ओर देखने वाली एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है और आसपास के ग्रामीण इलाकों का अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है।


2. हवा महल: हवा महल, जिसे हवाओं के महल के रूप में भी जाना जाता है, एक अद्वितीय वास्तुशिल्प चमत्कार है। इसके अग्रभाग में 953 जालीदार खिड़कियाँ हैं जो शाही महिलाओं को बिना देखे शहर की सड़कों को देखने की अनुमति देती हैं।


3.सिटी पैलेस: सिटी पैलेस महलों, उद्यानों और आंगनों का एक परिसर है। यह जयपुर के महाराजा का पूर्व निवास था और अब एक संग्रहालय है।


4.जंतर मंतर: जंतर मंतर 18वीं शताब्दी में महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा निर्मित एक खगोलीय वेधशाला है। यह दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे अच्छी तरह से संरक्षित खगोलीय वेधशालाओं में से एक है।


5.नाहरगढ़ किला: नाहरगढ़ किला एक और पहाड़ी किला है जो शहर के आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करता है। इसे बॉलीवुड फिल्म रंग दे बसंती के साथ जुड़ाव के लिए भी जाना जाता है।
अपने ऐतिहासिक आकर्षणों के अलावा, Jaipur जयपुर अपनी खरीदारी और अपने व्यंजनों के लिए भी जाना जाता है। यह शहर कई बाज़ारों का घर है जहाँ आप पारंपरिक हस्तशिल्प से लेकर डिज़ाइनर कपड़ों तक सब कुछ खरीद सकते हैं। Jaipur जयपुर अपने स्वादिष्ट भोजन के लिए भी जाना जाता है, जिसमें दाल बाटी चूरमा, लाल मास और घेवर जैसे व्यंजन शामिल हैं।

    Jaipur जयपुर एक समृद्ध इतिहास और संस्कृति वाला एक जीवंत और महानगरीय शहर है। भारत की यात्रा करने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए यह एक अवश्य घूमने योग्य गंतव्य है।

    Read also:- https://ainrajasthan.com/exploring-the-richness-of-national-parks-in-india/

    Read also:- https://ainrajasthan.com/dc-vs-csk-csk-became-the-second-team-to-reach-the-play-offs/

    Read also:- https://ainrajasthan.com/anand-mahindra-a-visionary-leader-redefining-success/

    Read also: – https://ainrajasthan.com/rahul-gandhi-wikipedia/

    india/

    Read also :- https://ainrajasthan.com/government-announced-twice-still-not-completed-in-10-years-panchayati-raj-ldc-2013-recruitment/

    Read also :– https://ainrajasthan.com/600-crore-robbery-failed/

    Read also :– https://ainrajasthan.com/2000-note-now-just-a-piece-of-paper/

    Read also :– https://ainrajasthan.com/inflation-relief-camp-effective-in-liberating-people-from-inflation/

    Read also :– https://ainrajasthan.com/national-president-rampal-jat-ordered-by-the-central-government-to-the-state-government/

    Ashish Tiwari
    Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
    आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -spot_img

    Most Popular

    Recent Comments