Saturday, May 18, 2024
a

Homeहटके ख़बरेजमीन में दफनाए जा रहे सफेद अंडरवियर, हर घर में भेजे जा...

जमीन में दफनाए जा रहे सफेद अंडरवियर, हर घर में भेजे जा रहे हैं 2 चड्डी, जानिए क्यों किया जा रहा है ये Research

जमीन में दफनाए जा रहे सफेद अंडरवियर, हर घर में भेजे जा रहे हैं 2 चड्डी, जानिए क्यों किया जा रहा है ये Research

न्यूज़ डेस्क:- सफेद अंडरवियर को खेतों में, घास के मैदानों में और पौधों के नीचे दफन किया जाएगा। पहले एक अंडरवियर को मिट्टी से बाहर निकाला जाएगा और फिर उसकी एक तस्वीर ली जाएगी।

खेती और बागवानी से जुड़े लोगों को पता होना चाहिए कि किसी भी फसल या पौधे को लगाने से पहले मिट्टी की जांच करना कितना महत्वपूर्ण है। यदि मिट्टी की जांच के बाद संबंधित फसल लगाई जाए, तो अच्छी पैदावार होती है। मिट्टी की जांच के लिए वैज्ञानिकों ने कई तरह की किट विकसित की हैं। ऐसी किट आपके नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र में मौजूद हो सकती हैं या कृषि विभाग की मदद से आप अपने खेत, बगीचे की मिट्टी की जांच करवा सकते हैं।

आपके देश में मिट्टी परीक्षण के कमोबेश इसी तरह के तरीके हैं। लेकिन मिट्टी की जांच के लिए स्विट्जरलैंड में एक अजीब तरीका अपनाया जा रहा है। स्विट्जरलैंड में मिट्टी की जांच कैसे हो रही है, यह सुनकर आप भी चौंक गए होंगे! दरअसल, वहां की मिट्टी की जांच के लिए अंडरवियर को जमीन में गाड़ दिया जा रहा है। स्विस सरकार यहां के घरों में 2 सफेद अंडरवियर भेज रही है, जिसे लोग जमीन में दफन कर रहे हैं। यह मिट्टी की गुणवत्ता परीक्षण की प्रक्रिया का हिस्सा है।

ये भी देखे:-बिजनेस (business) करने वालों के लिए 4 और 6 अंकों का यह कोड आवश्यक है, अगर गलती की गई तो भारी जुर्माना लगाया जाएगा।

मृदा स्वास्थ्य का पता लगाना

अंग्रेजी वेबसाइट द टाइम्स डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, स्विट्जरलैंड में करीब 2000 सफेद अंडरवियर मिट्टी में दफन किए जा रहे हैं। यह सब वैज्ञानिकों की देखरेख में किया जा रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, स्विट्जरलैंड के बागवान और किसान मिट्टी की गुणवत्ता की जांच के लिए एक शोध के लिए जमीन में सफेद अंडरवियर बांध रहे हैं। इसके जरिए मिट्टी की सेहत का पता लगाना होता है।

रिपोर्ट के अनुसार, इस अध्ययन में शामिल स्वयंसेवकों को मिट्टी को दफनाने के लिए सरकार के राज्य अनुसंधान संस्थान, एग्रोस्कोप द्वारा सफेद अंडरवियर भेजा जा रहा है। बाद में इन अंडरचाइजर्स को हटाकर जांच की जाएगी। इसमें यह पता लगाया जाएगा कि मिट्टी में मौजूद कितने सूक्ष्म जीव नष्ट हुए हैं।

विशेषज्ञ क्या कहते हैं?

परियोजना का नेतृत्व कर रहे इकोलॉजिस्ट मार्सेल हेडन का कहना है कि ऐसा प्रयोग कनाडा में भी किया गया है। हालांकि इस स्तर पर शोध नहीं किया गया है। वह कहते हैं कि टी-बैग्स को जमीन में दफनाने से पहले से ही मिट्टी के स्वास्थ्य के बारे में पता है, लेकिन यह एक अलग प्रकार का शोध है।

रिपोर्ट के अनुसार, एग्रोस्कोप द्वारा किए गए इस शोध में भाग लेने वाले किसान और बाग मालिक मिट्टी में चाय की थैलियों को भी दफन करेंगे ताकि उनकी तुलना अंडरवियर से की जा सके। वे अंडरवियर अनुसंधान की विश्वसनीयता का परीक्षण करने के लिए बाद में अपने साथ मिट्टी के नमूने भी ले सकेंगे।

ये भी देखे :- Google का नया फीचर भारत में आया, ड्राइविंग करते समय कॉल और मैसेज करना आसान होगा

इसका उपयोग कैसे किया जा रहा है?

इस शोध के तहत, सफेद अंडरवियर को खेतों, घास के मैदानों और पौधों के नीचे दफन किया जाएगा। पहले एक अंडरवियर को मिट्टी से बाहर निकाला जाएगा और फिर उसकी एक तस्वीर ली जाएगी। एक महीने बाद, अन्य अंडरवियर हटा दिए जाएंगे।

अंडरवियर को मिट्टी से हटाने के बाद, मिट्टी में इसके प्राकृतिक फाइबर को खोजने के लिए डिजिटल रूप से विश्लेषण किया जाएगा। वैज्ञानिकों के अनुसार, अगर अंडरवियर में अधिक छेद हैं या यह अधिक क्षतिग्रस्त है तो इसे स्वस्थ मिट्टी माना जाएगा। यह प्रयोग कैसे काम करता है, इसकी अंतिम रिपोर्ट भी जारी की जाएगी।

ये भी पढ़े:- अगर आपके पास भी है Amazon ऐप तो आप जीत सकते हैं 15,000 रुपये! जानें घर बैठे कैसे आपको फायदा होगा

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments