Monday, April 15, 2024
a

HomeदेशGovernment Jobs के लिए केवल एक भर्ती परीक्षा होगी

Government Jobs के लिए केवल एक भर्ती परीक्षा होगी

सरकारी नौकरियों (Government Jobs) के लिए केवल एक भर्ती परीक्षा होगी, एनआरए साल में 2 बार सीईटी आयोजित करेगा, जानिए क्या होगा परीक्षा पैटर्न, क्या होंगे फायदे

न्यूज़ डेस्क :- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को कई महत्वपूर्ण फैसले किए। अब केंद्र सरकार की सरकारी नौकरियों के लिए एक ही परीक्षा होगी। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भर्ती के लिए राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (एनआरए) के गठन को मंजूरी दे दी है।

एनआरए केंद्र सरकार की सरकारी नौकरियों के लिए एक सामान्य पात्रता परीक्षा (सीईटी) आयोजित करेगा। यह लगभग 25 मिलियन उम्मीदवारों को एक से अधिक परीक्षाओं में उपस्थित होने से राहत देगा।

यह रेलवे, बैंकिंग और एसएससी की प्रारंभिक परीक्षाओं को मर्ज करने से शुरू होगा। बाद में अन्य परीक्षाओं को भी इसमें शामिल किया जाएगा। इस साल बजट में इस एजेंसी के गठन की घोषणा की गई थी।

वर्ष में दो बार परीक्षा:

सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कैबिनेट के फैसलों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि एनआरए साल में दो बार कॉमन सीईटी आयोजित करेगा। वर्तमान में, रेलवे भर्ती बोर्ड (RBS) इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल सेलेक्शन (IBPS) और कर्मचारी चयन आयोग (SSC) द्वारा आयोजित प्रारंभिक परीक्षाओं का विलय कर दिया जाएगा।

इन परीक्षाओं में लगभग 2.5 मिलियन उम्मीदवार 1.25 लाख ग्रुप बी और सी पदों के लिए बैठते हैं। लेकिन अभी उन्हें प्रत्येक परीक्षा के लिए अलग से प्रारंभिक परीक्षा देनी होगी।

नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर, राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी को केंद्रीय कैबिनेट से मिली मंजूरी

यह भी देखे :- Sushant Singh Rajput Case की जांच-CBI करेगी

prakash javadekar
File Photo prakash javadekar

मेरिट लिस्ट तीन साल के लिए मान्य होगी

कार्मिक राज्य मंत्री डॉ। जितेंद्र सिंह ने कहा कि नए फैसले के अनुसार, सीईटी में सफल उम्मीदवारों की एक मेरिट सूची तैयार की जाएगी, जो तीन साल के लिए वैध होगी।

हालांकि, जो उम्मीदवार अपने स्कोर में सुधार करना चाहते हैं, वे पुन: परीक्षा में बैठ सकेंगे। प्रारंभिक परीक्षा में अर्हता प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों को बैंक, रेलवे या एसएससी के दूसरे चरण की परीक्षा में बैठने का अवसर मिलेगा। उन्होंने यह स्पष्ट किया कि केवल प्रारंभिक परीक्षा एक होगी, अन्य औपचारिकताएं और नियम पहले की तरह रहेंगे।

कई एजेंसियां ​​वर्तमान में परीक्षा आयोजित करती हैं:

जावड़ेकर ने कहा कि अब तीन परीक्षाओं का विलय किया जा रहा है, बाद में अन्य परीक्षाओं को भी इसमें शामिल किया जाएगा। केंद्र की लगभग 20 एजेंसियां ​​भर्ती परीक्षा आयोजित करती हैं जिन्हें चरणबद्ध तरीके से मर्ज किया जाएगा। जितेंद्र सिंह ने कहा कि राज्यों और निजी क्षेत्र को भी इसी तरह के कदम उठाने चाहिए। निजी क्षेत्र भी इस परीक्षा के स्कोर से उम्मीदवारों का चयन कर सकते हैं।

सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, देश में सरकारी नौकरियों के लिए 20 से अधिक भर्ती एजेंसियां ​​हैं। सरकारी नौकरी के लिए युवाओं को बहुत परीक्षा देनी पड़ती थी। इसे खत्म करने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ऐतिहासिक फैसला लिया है।

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी युवाओं के लिए वरदान होगी, पारदर्शिता को बढ़ावा मिलेगा: पीएम मोदी

यह भी देखे :- CM Shivraj का फैसला मूल निवासी को मिलेगी सरकारी नौकरी

Government jobs
File Photo prakash javadekar

दिल्ली में मुख्यालय:

एनआरए एक स्वायत्त संस्थान होगा, जिसका मुख्यालय दिल्ली में होगा। इसके अध्यक्ष एक सचिव स्तर के अधिकारी होंगे। एनआरए पूरे देश में एक हजार परीक्षा केंद्र स्थापित करेगा। एक जिले में कम से कम एक परीक्षा केंद्र सुनिश्चित किया जाएगा। प्रारंभिक परीक्षा 12 क्षेत्रीय भाषाओं में आयोजित की जाएगी। एनआरए के गठन पर तीन वर्षों में लगभग 1517 करोड़ रुपये खर्च होंगे। उद्देश्य यह है कि उम्मीदवार को परीक्षा के लिए जिला मुख्यालय से आगे नहीं जाना पड़ेगा।

क्या होगा फायदा

-कैंडिडेट्स को अलग-अलग प्रारंभिक परीक्षाओं से मुक्ति मिलेगी
– एग्जाम डेट्स एक साथ आने की वजह से एग्जाम छोड़ना पड़ा, जो अब नहीं होगा।
– परीक्षा केंद्र अलग-अलग शहरों में पड़ते थे। अब यह समस्या खत्म हो गई है
परीक्षाओं के लिए अब हर जिला मुख्यालय पर एक केंद्र होगा। चले जाओगे नहीं
– एक ही परीक्षा के लिए फीस का भुगतान किया जाना है। यात्रा व्यय में भी कमी आएगी
– रेलवे भर्ती बोर्ड, कर्मचारी चयन आयोग और आईबीपीएस प्रतिनिधि गवर्निंग बोर्ड में शामिल होंगे
अभी परीक्षा आवेदन से परिणाम तक 12-18 महीने लगते हैं। सीईटी इस बार कम करेगा

ग्रुप बी और सी के लोगों को बड़ी राहत

ग्रुप बी और सी की प्रारंभिक परीक्षा के लिए योग्यता समान है, लेकिन प्रत्येक बोर्ड के अलग पैटर्न के कारण, उम्मीदवारों को परीक्षा के लिए अलग तरह से तैयारी करनी होती है। एक परीक्षण के बाद एक प्रकार की तैयारी की आवश्यकता होगी।

एक परीक्षण योजना सफल रही

केंद्र सरकार ने अतीत में एमबीबीएस में प्रवेश के लिए भी एक परीक्षा दी है। जो सफल रहा हो। जबकि पहले हर राज्य अपनी परीक्षा आयोजित करता था। इसी तरह, NTA ने प्रतियोगी परीक्षाओं के संचालन के लिए एक एजेंसी का गठन किया है। पहले यह काम सीबीएसई या अन्य एजेंसियों को करना पड़ता था।

 

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments