Tasmanian Devil

Tasmanian Devil का जन्म 3000 साल बाद ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में हुआ

Tasmanian Devil का जन्म 3000 साल बाद ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में हुआ

ऑस्ट्रेलिया से एक बड़ी खुशखबरी आई है। वहां के खुले जंगलों में 3000 साल बाद तस्मानियाई डेविल नाम के प्राणी का जन्म हुआ। आप इसे ‘तस्मानिया का शैतान’ कह सकते हैं। छोटे आकार का यह कुत्ता मांसाहारी होता है। इसे दुनिया का सबसे बड़ा मार्सुपेल मांसाहारी भी कहा जाता है। खैर, यह उनके नाम और खाने की बात है। मुद्दा यह है कि नए तस्मानियाई डेविल्स का जन्म हुआ है। उनकी स्थिति क्या है? आखिर 3000 हजार साल बाद खुले जंगल में इस जीव का जन्म क्यों हुआ? आइए जानते हैं इस खुशखबरी पर क्या कहते हैं विशेषज्ञ..

ये भी देखे :- नई गाइडलाइन: सरकार के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचा WhatsApp

डेविल्स आर्क सेंचुरी ऑस्ट्रेलिया के तस्मानिया में है। यहां एक छोटी सी पहाड़ी जैसी जगह है, जिसे बैरिंगटन टॉप कहा जाता है। इस जगह पर तस्मानिया के शैतान के सात शैतान पैदा हुए हैं। इसकी सूचना मिलते ही इस सदी के अधिकारी और एक संरक्षण समूह के लोग मौके पर दौड़ पड़े। उसने गुलाबी रंग के सात छोटे शावकों को उनके पक्के घर में एक साथ लेटे हुए देखा। उसकी मां जरूर आसपास रही होगी लेकिन वह कहीं नजर नहीं आई।

अब वन्यजीव विशेषज्ञ इन शावकों को देखकर खुश हैं क्योंकि उन्हें उम्मीद थी कि अब इस लुप्तप्राय प्रजाति की आबादी बढ़ सकती है। ऑस्ट्रेलिया के खुले जंगलों की वजह से इनकी आबादी कम हो गई है क्योंकि इनका काफी शिकार किया गया है. इसके अलावा जंगली कुत्तों की एक प्रजाति डिंगो इन्हें बड़े चाव से खाते हैं। इसके बाद इन छोटे शैतानों की आबादी तस्मानिया राज्य तक ही सीमित रह गई।

ये भी देखे:- Business : चायपत्ती से बना धंधा! सिर्फ 5000 रुपये लगाकर हर महीने कमाएं 25000<


तस्मानिया में इन शैतानों के सामने दूसरी सबसे बड़ी समस्या चेहरे का कैंसर है। अगर ये जीव शिकार से बच जाते हैं, तो उनके लिए एक और खतरा चेहरे पर ट्यूमर है। माना जा रहा है कि तस्मानिया समेत पूरे ऑस्ट्रेलिया में अब इनकी आबादी 25 हजार के आसपास होगी. ओस्सी आर्क कंजर्वेशन ग्रुप के अध्यक्ष टिम फॉल्कनर ने कहा कि यहां बहुत कुछ दांव पर लगा है। जितना हम कर सकते हैं बचाने के लिए वे लगातार ऐसा कर रहे हैं।

यह भी देखे:- क्या बंद हो जाएगा आपका Twitter, Facebook, सरकार का डेडलाइन आज खत्म हो रही है?

टिम ने बताया कि सात शावक स्वस्थ और सुरक्षित हैं। इन पर अगले कुछ हफ्तों तक फॉरेस्ट रेंजर्स की नजर रहेगी। ओस्सी आर्क कंजर्वेशन ग्रुप ने पिछले साल 26 वयस्क तस्मानियाई डेविल्स को खुले जंगल में छोड़ा था। ऐसा माना जाता है कि इनमें से केवल एक जोड़े ने प्रजनन प्रक्रिया पूरी की है। क्योंकि आमतौर पर ये जीव प्रजनन की प्रक्रिया से दूर भागते हैं।

2008 में, संयुक्त राष्ट्र ने तस्मानियाई डेविल्स को लुप्तप्राय जानवरों की लाल सूची में डाल दिया। इनका सिर बहुत बड़ा और गर्दन बहुत मजबूत होती है। जिसके कारण इनके जबड़ों की पकड़ काफी दमदार होती है। ये जमीन पर तेजी से दौड़ सकते हैं। पेड़ों पर चढ़ सकते हैं। इतना ही नहीं ये अच्छे तैराक भी हैं

ये भी देखे:- Rajasthan: पान-मसाले, बीड़ी, सिगरेट और गुटखा होगा महंगा, गहलोत सरकार लगाएगी नई फीस

Leave a Reply

Your email address will not be published.