animals

तारबंदी योजना से किसानों की फसल बचेगी आवारा पशुओं (animals) से, जानिए कैसे उठा सकते हैं लाभ

तारबंदी योजना से किसानों की फसल बचेगी आवारा पशुओं (animals) से, जानिए कैसे उठा सकते हैं लाभ

राजस्थान में आवारा पशुओं से फसलों को बचाने के लिए कृषि विभाग तारबंदी के लिए अनुदान दे रहा है.

आवारा पशुओं के कारण किसान खेती नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि मवेशियों का झुंड पूरी फसल को नष्ट कर देता है। फसलों की रक्षा के लिए किसान बाड़ लगाते हैं, लेकिन हर किसान के लिए बाड़ लगाना मुश्किल होता है, क्योंकि इससे लागत बढ़ जाती है। लेकिन सरकार की इस योजना से हर कोई अपनी फसल बचा सकता है।

राजस्थान सरकार ने तारबंदी योजना शुरू की है, जिसमें किसान तिलहन पर राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत अपने खेतों के चारों ओर कांटेदार/चेनलिंक जाल लगा सकते हैं। इस पर सरकार कृषि विभाग के माध्यम से किसानों को लागत का 50% या अधिकतम 40000 रुपये प्रति किसान सब्सिडी देती है।

यह भी पढ़े :-  ₹5 हजार खर्च कर इस जबरदस्त बिजनेस (business) की शुरुआत करें, रोजाना 3,000 हजार रुपये कमाएं

कैसे लें इस योजना का लाभ

यह योजना पहले आओ पहले पाओ के आधार पर चलती है, इसलिए जो किसान पहले राज साथी पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करेगा उसे पहले इस योजना का लाभ मिलेगा। इस योजना के लिए पात्र किसान कौन है

नियम और शर्तें क्या हैं

कम से कम तीन किसानों का समूह होना चाहिए, किसानों की संख्या तीन से अधिक हो सकती है। किसानों के समूह के लिए 3 हेक्टेयर (12 बीघा पक्की) जमीन होना अनिवार्य है। किसान तार के माध्यम से बिजली का कनेक्शन नहीं बना सकता है।

कैसे तार करें
बाड़ लगाने के लिए डंडे लोहे, सीमेंट या पत्थर के हो सकते हैं। किसानों के लिए कम से कम 150 सेंटीमीटर ऊंची बाड़ लगाना अनिवार्य है।

जिसमें एक पोल से दूसरे पोल के बीच की दूरी कम से कम 3 X 3 मीटर रखी जाएगी, जिसमें कम से कम 30 सेमी हिस्सा जमीन के अंदर होना चाहिए। दो खंभों के बीच 6 तार क्षैतिज और 2 तार लंबवत रेखाएं लगाना आवश्यक है।

किसान के अपने नाम पर भूमि का स्वामित्व न होने की स्थिति में (किसान के पिता के जीवित या अनुवाद के बाद की अनुपस्थिति में) यदि आवेदक किसान के पास अपने पक्ष में भूमि स्वामित्व में काल्पनिक शेयर धारक का प्रमाण पत्र है राजस्व / प्रकाश पटवारी यदि वह आवेदन के साथ जमा करता है तो ऐसे किसान को भी अनुदान के लिए पात्र माना जाएगा। या उसे सरपंच से इस आशय का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा कि वह परिवार से अलग रहता है और राशन कार्ड और मनरेगा जॉब कार्ड अलग रहता है।

यह भी पढ़े :-  नौकरी के तनाव के बारे में भूल जाओ ! 50 हजार में शुरू करें यह कारोबार, मासिक कमाएगा 1 लाख, सरकार देगी 35 फीसदी subsidy

आवश्यक दस्तावेज क्या हैं

खेत की नवीनतम जमा कैप, नक्शा कचरा, आधार कार्ड, जनाधार कार्ड, बैंक पासबुक, पासपोर्ट आकार का रंगीन फोटो, सहमति देने वाले किसानों का शपथ पत्र, पटवारी द्वारा राजस्व विभाग का प्रमाण पत्र आदि ले जाएं और राज किसान साथी पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करें। कर दो।

जिसका लाभ नहीं मिलेगा

किसी भी ट्रस्ट/समाज/स्कूल/कॉलेज/मंदिर/धार्मिक संस्थान आदि को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।
राजस्थान तारबंदी सब्सिडी योजना का लाभ सभी वर्ग के किसानों को दिया जायेगा। वर्ष 2021-22 के लिए यह योजना सामुदायिक आधार पर कम से कम 3 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करते हुए कम से कम 3 किसानों को लाभान्वित करेगी।

प्रति किसान 400 रनिंग मीटर की सीमा तक अनुदान देय होगा और यदि खेत की परिधि 400 मीटर से अधिक है, तो किसान को शेष दूरी में स्वयं बाड़ लगाना होगा। क्योंकि आवश्यक क्षेत्र में पूरी फेंसिंग सुनिश्चित करने के बाद ही अनुदान राशि किसान को उपलब्ध कराई जाएगी।

यह भी पढ़े :-  Raipur – छत्तीसगढ़ गोबर खरीदने वाला और गोबर खरीदी को लाभ में बदलने वाला पहला राज्य : Bhupesh Baghel

अधिक से अधिक किसानों को लाभान्वित करने के लिए संबंधित सहायक निदेशक कृषि (विस्तार)/उप निदेशक कृषि (विस्तार) जिला परिषद या उनके द्वारा नामित अधिकारी द्वारा खेतों की स्थिति के आधार पर परिधि का उचित निर्धारण किया जायेगा.

किसान द्वारा फेंसिंग के समय खेत की स्थिति के आधार पर उचित खाका बनाकर अति आवश्यक पक्ष में प्राथमिकता के आधार पर करवाएं। एक किसान को खेत के उस तरफ दोबारा बाड़ नहीं लगवाना चाहिए जहां दूसरे किसान को पहले ही विभागीय अनुदान मिल चुका हो या खुद से। परिधि के किसानों द्वारा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि केबल का सही उपयोग हो रहा है।

परिधि के निर्धारण के बाद प्रशासनिक स्वीकृति जारी की जाएगी और उसके बाद निर्धारित परिधि में कोई परिवर्तन नहीं किया जाएगा। एक किसान को खेत की लंबाई के अनुसार परिधि पर बाड़ लगाने के लिए 400 रनिंग मीटर की सीमा तक अनुदान दिया जाएगा।

यह भी पढ़े :- तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए गहलोत सरकार (Gehlot government) ने लगाई कई पाबंदियां, जानें पूरी गाइडलाइंस

Leave a Reply

Your email address will not be published.