Wednesday, June 12, 2024
a

Homeलाइफस्टाइलनेस्ले (Nestle) ही नहीं, आपके पसंदीदा ब्रांड भी 'अनहेल्दी' खाने को लेकर...

नेस्ले (Nestle) ही नहीं, आपके पसंदीदा ब्रांड भी ‘अनहेल्दी’ खाने को लेकर विवादों में रहे हैं..जानें विवरण

नेस्ले (Nestle) ही नहीं, आपके पसंदीदा ब्रांड भी ‘अनहेल्दी’ खाने को लेकर विवादों में रहे हैं..जानें विवरण

नेस्ले (Nestle) का 60 फीसदी खाना खराब होता है और कंपनी ने खुद इस बात को स्वीकार किया है। दुनिया की सबसे बड़ी फूड एंड ड्रिंक कंपनियों में से एक नेस्ले इन दिनों विवादों में है। मैगी, किटकैट और नेस्कैफे बनाने वाली नेस्ले के पास 60 प्रतिशत भोजन अस्वास्थ्यकर होता है। कंपनी ने खुद इसे स्वीकार कर लिया है और अब अपने उत्पादों में पोषण मूल्य बढ़ाने के लिए एक नई रणनीति पर काम कर रही है। हालांकि यह विवाद सिर्फ नेस्ले तक ही सीमित नहीं है। इससे पहले भी कई ऐसी कंपनियां हैं जो हानिकारक खाने को लेकर विवादों में घिर चुकी हैं। तो आइए जानते हैं उनके बारे में-

मैगी में MSG

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने 2015 में मैगी पर प्रतिबंध लगा दिया था। यह प्रतिबंध इसलिए लगाया गया था क्योंकि परीक्षणों से पता चला था कि मैगी में अत्यधिक मात्रा में लेड था और इसके पैकेट पर ‘नो एडेड MSG’ लिखा हुआ था। उस समय, नेस्ले ने स्वाद बढ़ाने वाले मोनोसोडियम ग्लूटामेट की मात्रा का संकेत नहीं दिया था। हालांकि, विवादों में आने के बाद नेस्ले ने ‘नो एडेड एमएसजी’ के दावे को खारिज कर दिया। बाद में नेस्ले ने मैगी को फिर से बाजार में उतारा।

ये भी देखे:- कंपनी के दस्तावेज़ के अनुसार, Nestle के अधिकांश खाद्य उत्पाद अस्वस्थ हैं

दिल्ली स्थित एनजीओ सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (सीएसई) के एक अध्ययन से पता चला है कि पतंजलि, डाबर और झंडू सहित कई लोकप्रिय ब्रांडों द्वारा बेचे जाने वाले शहद में गन्ने, चावल, मक्का, चुकंदर से बने चीनी के उच्च स्तर हैं। मिलावट की गई। विक्रेताओं ने शहद वाली चीनी को ‘शुद्ध शहद’ के रूप में बेच दिया। बाद में जब इसकी जांच की गई तो 77 फीसदी शहद में चाशनी की मिलावट पाई गई। विशेष रूप से, जिन ब्रांडों ने उस समय परीक्षण पास नहीं किया था, उन्होंने अध्ययन के दावों का खंडन किया और अपने दावों पर जोर देने के लिए समाचार पत्रों में विस्तृत विज्ञापन भी दिए।

मदर डेयरी में डिटर्जेंट

2015 में मदर डेयरी के दूध के नमूनों में डिटर्जेंट मिला था। यह खुलासा उत्तर प्रदेश खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने किया। हालांकि मदर डेयरी ने पाउच में बेचे जाने वाले दूध में किसी तरह की मिलावट से इनकार किया है।

ये भी देखे:- LPG ग्राहकों के लिए बड़ी राहत, 122 रुपये तक घट गए दाम!

ब्रिटानिया में कार्सिनोजेन्स (Carcinogens)

2016 में, एक सीएसई परीक्षण में पाया गया कि ब्रिटानिया के पैक्ड ब्रेड, पाव और बन में पोटेशियम ब्रोमेट और आयोडेट होते हैं, जिन्हें स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक माना जाता है। अध्ययन में डोमिनोज, मैकडॉनल्ड्स और सबवे जैसे फास्ट फूड चेन में बन्स और पिज्जा बेस में रासायनिक अवशेष पाए गए। बाद में इसे बैन भी कर दिया गया।

ये भी देखे:- सिर्फ 5 हजार का निवेश कर 50 हजार कमाने का मौका! यह बिजनेस (Business) शुरू करें, सरकार भी करेगी मदद

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments