Monday, April 15, 2024
a

HomeदेशMP: एक ऐसा गांव, जहां अभी तक नहीं पहुंचा कोरोना, ग्रामीण अपना...

MP: एक ऐसा गांव, जहां अभी तक नहीं पहुंचा कोरोना, ग्रामीण अपना रहे ये तरीका

MP: एक ऐसा गांव, जहां अभी तक नहीं पहुंचा कोरोना, ग्रामीण अपना रहे ये तरीका

पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है। चारों तरफ हाहाकार मच गया है। अगर अस्पताल में बेड नहीं हैं, तो लोग ऑक्सीजन की कमी के कारण परेशान हो रहे हैं। अगर लोगों को ऑक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ रहा है, तो कई रोगियों को अस्पताल में जगह नहीं मिल रही है। कोरोना के इस बढ़ते संक्रमण के बीच एक खास खबर सामने आई है जो काफी खास है। MP  आगर-मालवा में आम लोगों की जागरूकता के कारण, पूरे गाँव में कोई भी कोरोना संक्रमित नहीं था।

2020 में, कोरोना ने न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में तेजी से अपना प्रभाव दिखाया था। पूरी दुनिया में तालाबंदी हुई और भारत भी इससे अछूता नहीं रहा। लेकिन अब कुछ राहत के बाद कोरोना की दूसरी लहर आ गई है। ऐसे में देश भर में व्यवस्था चरमरा गई है। ऐसे में आम लोगों का जागरूक होना बहुत जरूरी है। MP – आगर मालवा में आधा दर्जन से अधिक गाँव हैं जो जागरूकता के महत्व की गवाही दे रहे हैं।

ये भी देखे:- SBI ने खाताधारकों को किया अलर्ट! यदि यह QR Code स्कैन किया है तो खाता खाली हो जाएगा

MP – आगर-मालवा के लोगों की जागरूकता का परिणाम है कि कोरोना के पहले दिन से आज तक, कोई भी व्यक्ति इन गांवों में कोरोना सकारात्मक नहीं हुआ है। इसके पीछे ग्रामीणों की इच्छाशक्ति और इच्छा शक्ति है कि ग्रामीण मिलकर गांव को सुरक्षित रखें। गाँव की महिलाओं ने अपने घरों के सामने सैनिटाइज़र, पानी की बाल्टी और साबुन रखा है। अगर परिवार का कोई भी व्यक्ति गाँव में आता है या अपने खेत से आता है, तो सबसे पहले वे घर के बाहर रखे साबुन से अपने हाथ-पैर धोते हैं। तभी घर में घुसता है। इस काम में महिलाएं अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं। इसी तरह की तस्वीर दूसरे गाँव में भी पाई गई है।

हर कोई गांव के अंदर की गई व्यवस्था की तारीफ कर रहा है। यही नहीं, गाँव के युवाओं ने अपनी टीम बनाई है और यह उस टीम का काम है कि जो कोई भी उनके गाँव में प्रवेश कर रहा है, भले ही उनके गाँव में कोई भी हो, उनकी पहले जाँच की जाती है। पहले यह देखा जाता है कि गाँव में प्रवेश करने वाला व्यक्ति कैसा महसूस कर रहा है। वह कहां से आ रहा है कौन साथ आ रहा है? इस सब जांच के बाद, उसके हाथ को साफ कर दिया जाता है और फिर उसे गाँव के अंदर प्रवेश मिलता है। किसी भी बाहरी व्यक्ति को गाँव में प्रवेश करने से रोकने के लिए गाँव की सड़क पर बैरिगेट लगाए गए हैं जहाँ जवान ड्यूटी करते हैं। गाँव में गठित प्रत्येक टीम के दो युवा चार घंटे के लिए ड्यूटी देते हैं और गाँव की सुरक्षा करते हैं।

ये भी देखे:- राज्यों के पास स्टॉक नहीं है, 1 मई से 18+ उम्र के लोगों को Vaccination लगने पर ग्रहण

सीओडीएस रानाडा का कहना है कि ग्रामीणों की ऐसी पहल वास्तव में सराहनीय है। यहां के बुजुर्ग, लेकिन बच्चे भी अपनी जागरूकता को प्रस्तुत करने में पीछे नहीं हैं। अगर हम इस बीमारी से लड़ना चाहते हैं, तो हम सभी को अपने स्तर पर सावधानी बरतनी होगी। ग्रामीणों की जागरूकता के कारण, इन गांवों में पहले दिन से एक भी व्यक्ति संक्रमित नहीं हुआ है।

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments