Baba Ramdev

शेयरधारकों से मांगी मंजूरी: योग गुरु Baba Ramdev बने रूचि सोया के बोर्ड में डायरेक्टर, छोटे भाई राम भरत होंगे मैनेजिंग डायरेक्टर

शेयरधारकों से मांगी मंजूरी: योग गुरु Baba Ramdev बने रूचि सोया के बोर्ड में डायरेक्टर, छोटे भाई राम भरत होंगे मैनेजिंग डायरेक्टर

  • पतंजलि समूह ने पिछले साल ही रुचि सोया का अधिग्रहण किया था
  • आचार्य बालकृष्ण को फिर से रूचि सोया का अध्यक्ष बनाया गया

योग गुरु बाबा रामदेव, उनके छोटे भाई राम भरत और आचार्य बालकृष्ण खाद्य तेल बनाने वाली कंपनी रूचि सोया के बोर्ड में शामिल होंगे। पतंजलि आयुर्वेद ने हाल ही में रूचि सोया का अधिग्रहण किया। रूचि सोया इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने शेयरधारकों को नोटिस भेजकर कंपनी में प्रबंध निदेशक (एमडी) के पद पर राम भारत की नियुक्ति के लिए मंजूरी मांगी है।

नोटिस में कहा गया- नए प्रबंधन को बोर्ड नियुक्त करने का अधिकार मिला

पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट, पतंजलि ट्रांसपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड और पतंजलि ग्राम इंडस्ट्रीज के कंसोर्टियम ने पिछले साल दिवालिया प्रक्रिया के जरिए रूचि सोया का अधिग्रहण किया था। रूचि सोया ने नोटिस में कहा है कि नए प्रबंधन को बोर्ड नियुक्त करने का अधिकार मिल गया है। नोटिस के अनुसार, राम भरत को 19 अगस्त 2020 को कंपनी के निदेशक मंडल की बैठक में प्रबंध निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। यह नियुक्ति 19 अगस्त 2020 से 17 दिसंबर 2022 तक हुई थी। उनके पूरे समय के निदेशक का पद प्रबंध निदेशक में बदल दिया गया था। उनकी नियुक्ति को अब शेयरधारकों की मंजूरी मिल रही है।

ये भी देखे : Mann Ki Baat Live: पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा – देवी अन्नपूर्णा की प्रतिमा भारत वापस आ रही, कनाडा का शुक्रिया

राम भरत को 1 रुपये वार्षिक वेतन मिलेगा

नोटिस के अनुसार, एक प्रबंध निदेशक के रूप में, राम भरत को प्रति वर्ष 1 रुपये का वेतन दिया जाएगा। इसके अलावा, आचार्य बालकृष्ण को कंपनी के अध्यक्ष के रूप में फिर से नियुक्त किया गया है। उन्हें प्रति वर्ष 1 रुपये का वेतन भी दिया जाएगा। नोटिस में बाबा रामदेव को कंपनी के बोर्ड में निदेशक के पद पर नियुक्त करने की मंजूरी मांगी गई है। इसके अलावा, गिरीश कुमार आहूजा, ज्ञान सुधा मिश्रा और तेजेंद्र मोहन भाशिन ने भी कंपनी में स्वतंत्र निदेशकों के पद पर नियुक्ति के लिए मंजूरी मांगी है। ये भी देखे: WhatsApp मैसेज में इस लिंक पर क्लिक करने की न करे भूलें, सरकार ने चेतावनी जारी की 

4350 करोड़ का अधिग्रहण किया गया था

पिछले साल, बाबा रामदेव ने पतंजलि आयुर्वेद में 4350 करोड़ रुपये में रूचि सोया का अधिग्रहण किया। इसने पतंजलि को रूचि सोया के खाद्य तेल संयंत्र और इसके महाकोश-रूचि गोल्ड जैसे सोयाबीन ब्रांड का अधिग्रहण करने में मदद की है। दिसंबर 2017 में, नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) ने ऋण वसूली के लिए रूचि सोया के खिलाफ एक दिवालिया प्रक्रिया का आदेश दिया

ये भी देखे :-भारत के ई-कॉमर्स क्षेत्र ने पिछले साल की तुलना में त्योहारी सीजन में 65 प्रतिशत अधिक बिक्री की, Flipkart ने अमेज़ॅन को पछाड़ा

पतंजलि ने अडानी ग्रुप को हराया और रूचि सोया को खरीदा

4350 करोड़ रुपये में, पतंजलि समूह ने लेनदारों को 4235 करोड़ रुपये का भुगतान करने की पेशकश की, जबकि 115 करोड़ रुपये पूंजीगत व्यय और रूचि सोया की कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं पर खर्च किए गए। पतंजलि ने अदानी विल्मर को हराकर रूचि सोया को खरीदा था। अडानी विल्मर खाद्य तेल ब्रांड फॉर्च्यून ब्रांड की मूल कंपनी है

प्रमोटर एफपीओ के माध्यम से रूचि सोया में हिस्सेदारी कम करेंगे

पतंजलि ग्रुप रूचि सोया में फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर (एफपीओ) के जरिए अपनी हिस्सेदारी घटाएगा। कंपनी का कहना है कि सेबी के नियमों के अनुसार, प्रमोटरों को जून 2021 तक 10% हिस्सेदारी और 36 महीनों में 25% हिस्सेदारी घटानी होगी। वर्तमान में प्रमोटरों के पास 98.90% और पब्लिक के पास 1.10% है। जबकि बाजार नियामक सेबी के नियमों के अनुसार, कंपनी में कम से कम 25% हिस्सेदारी सार्वजनिक होनी चाहिए। ये भी देखे:- Love Jihad : यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने धर्मांतरण के बिल को मंजूरी दे दी, जिसे आज से लागू कर दिया गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *