Friday, February 23, 2024
a

Homeहटके ख़बरेयहां की महिलाएं (Women) साल में 5 दिन कपड़े नहीं पहनती हैं,...

यहां की महिलाएं (Women) साल में 5 दिन कपड़े नहीं पहनती हैं, पति को पत्नी से दूर रहना पड़ता है

यहां की महिलाएं (Women) साल में 5 दिन कपड़े नहीं पहनती हैं, पति को पत्नी से दूर रहना पड़ता है

दुनियाभर में कई ऐसे रिवाज हैं, जिनके बारे में जानने के बाद हर कोई दंग रह जाता है। भारत उन देशों में भी आता है जहां वर्षों से संस्कृति और परंपराओं का पालन किया जाता रहा है। आज भी कई जगहों पर पुरानी परंपराओं की मान्यताएं मानी जाती हैं।

दुनियाभर में कई ऐसे रिवाज हैं, जिनके बारे में जानने के बाद हर कोई दंग रह जाता है। भारत उन देशों में भी आता है जहां वर्षों से संस्कृति और परंपराओं का पालन किया जाता रहा है। आज भी कई जगहों पर पुरानी परंपराओं की मान्यताएं मानी जाती हैं। आज हम आपको एक ऐसी परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां हम एक अनोखी प्रथा का पालन कर रहे हैं।

ये भी पढ़े:- अगर आपके पास भी है Amazon ऐप तो आप जीत सकते हैं 15,000 रुपये! जानें घर बैठे कैसे आपको फायदा होगा

परंपरा सदियों से चली आ रही है

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी के पीनी गाँव में ऐसी ही एक प्रथा प्रचलित है; जिसमें पत्नी एक गाँव में पाँच दिनों तक बिना कपड़ों के रहती है। इन 5 दिनों में पति-पत्नी एक-दूसरे से बात और मजाक भी नहीं करते हैं। इस दौरान गाँव का कोई भी पुरुष शराब नहीं पीता है। सदियों से चली आ रही इस प्रथा को आज भी लोग मानते हैं।

यह परंपरा क्यों मनाई जाती है?

सावन के महीने के पांच दिनों में, पति-पत्नी को एक-दूसरे से दूर रहना पड़ता है और तबाही के कारण अलग-अलग तरीकों से देखा जाता है। कहा जाता है कि इस दौरान यहां की महिलाएं कपड़े नहीं पहनती हैं, बल्कि ऊन से बने पहाड़ी कपड़े पहनती हैं; पहनता है जिसे पटटू कहते हैं। रिपोर्ट्स और मान्यताओं की मानें तो इस परंपरा के पीछे भी एक कहानी है।

स्थानीय लोगों का मानना ​​है कि जब लाहुआ घोंड के प्रसिद्ध देवता पीनी गांव पहुंचे थे, उस समय कुछ राक्षसों ने उस पर कब्जा कर लिया था। यहां के लोग भादो संक्रांति को अगस्त के महीने में काला महीना भी कहते हैं। इस दिन, देव लहुआ घोड़ ने पिन्नी गांव में पैर रखा था और फिर यहां मौजूद राक्षसों को नष्ट कर दिया था। यह रिवाज उसके बाद ही शुरू किया गया था। तब से, यह रिवाज आज तक माना जा रहा है।

यह भी देखेCBSE Board 12th Exam 2021 Date: कब बोर्ड परीक्षा का नया शेड्यूल जारी किया जाएगा, तो संभावित तारीख देखें

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments