Traffic Rules

 Traffic Rules: अब कम स्पीड में गाड़ी चलाने वालों के काटे जायेगे चालान

audio
Voiced by Amazon Polly
22 / 100

 Traffic Rules: अब कम स्पीड में गाड़ी चलाने वालों के काटे जायेगे चालान

Updated Traffic Rules: अब सरकार खुद चाहती है कि हाईवे पर वाहनों की रफ्तार तेज हो. ऐसा नहीं करने वालों पर जुर्माना भी लगाया जाएगा। यह चालान 500 रुपये से 2000 रुपये के बीच का होगा।

Updated Traffic Rules:रोड पर गाड़ी चलाते समय हमें इस बात का खास ख्याल रखना होता है कि कहीं चालान न कट जाए. सरकार की ओर से कई ऐसे नियम हैं जिनका पालन करना जरूरी है। आमतौर पर लोगों को तेजी से गाड़ी चलाने का खामियाजा भुगतना पड़ता है। लेकिन अब यह डर उन लोगों के लिए भी है जो धीमी गति से वाहन चलाते हैं। क्योंकि अब धीमी गति से वाहन चलाने पर भी चालान काटा जाता है।

इस हाईवे पर नहीं चलेगी ‘धीमी रफ्तार’

दरअसल अब सरकार खुद चाहती है कि हाईवे पर वाहनों की रफ्तार तेज हो. लेकिन ऐसा नहीं करने वालों का चालान भी काटा जाता है। यह चालान 500 रुपये से 2000 रुपये तक का हो सकता है। ऐसा ही दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर किया जाएगा। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे देश के टॉप क्लास हाईवे में से एक है।

चालान नियम क्या है?

आपको बता दें कि देश में ज्यादातर हादसे ओवरटेकिंग के दौरान होते हैं। ओवरटेक करते समय आपको अपने वाहन की गति का विशेष ध्यान रखना होगा। विशेष रूप से एकल सड़कों पर ओवरटेक करते समय चालकों को बहुत सावधान रहना पड़ता है। इसी तरह अब यदि आप एक्सप्रेस-वे पर गाड़ी चला रहे हैं तो ओवरटेक करते समय निर्धारित गति सीमा से कम वाहन चलाने पर भी आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है।

यह एक्सप्रेस-वे अक्सर जाम रहता है

गौरतलब है कि यह बेहतरीन हाईवे अभी भी पूरी तरह बनकर तैयार नहीं हुआ है। दिल्ली से मेरठ के रास्ते में गाजियाबाद के लालकुआं फ्लाईओवर के पास आज भी इस हाईवे पर निर्माण कार्य चल रहा है. गाजियाबाद से मेरठ जाते समय क्रासिंग रिपब्लिक सोसाइटी विजय नगर के सामने इस हाईवे पर अक्सर जाम की स्थिति देखी जा सकती है।

ओवरटेक करने से होते हैं हादसे

आपको बता दें कि दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस-वे पर गति सीमा 100 किमी प्रति घंटा और बड़े वाहनों के लिए गति सीमा 80 किमी प्रति घंटा है। NHAI के मुताबिक, ‘हाईवे और पेरिफेरल एक्सप्रेसवे पर ज्यादातर हादसे ओवरटेकिंग की वजह से होते हैं। इन पर नियंत्रण करना प्राधिकरण की प्राथमिकता है। इन मार्गों पर दुर्घटनाओं का दूसरा कारण यह है कि कुछ लापरवाह चालक प्राधिकरण द्वारा निर्धारित गति सीमा से कम गति से वाहन चलाते हैं। अब तक NHAI निर्धारित गति सीमा के भीतर ड्राइविंग को बढ़ावा देता था। लेकिन अब निर्धारित गति सीमा से कम पर ओवरटेक करने और वाहन न चलाने में सावधानी बरतने की जानकारी भी प्रचारित की जाएगी।

धीमी रफ्तार वालों का भी काटा जाएगा चालान

इन नए विज्ञापनों में यह भी उल्लेख किया जाएगा कि यदि चालक निर्धारित सीमा से कम गति से वाहन चलाते हुए पकड़े जाते हैं, तो उनका 500 से 2000 रुपये तक का चालान भी काटा जाएगा. जिस प्रकार निर्धारित गति से अधिक गति से वाहन चलाने वालों का चालान काटने का नियम है।

यह भी पढ़े:- PNB अपने लाखों ग्राहकों को सचेत किया! इस गलती को भूलकर भी न करें, बड़ा नुकसान होगा

यह भी पढ़े:- सिर्फ 3 लाख के बजट में यहां मिलेगी Hyundai i20, लोन के साथ गारंटी और वारंटी प्लान

यह भी पढ़े:- Bolero का नया अवतार देगा स्कॉर्पियो को कड़ी टक्कर, दमदार फीचर्स के साथ जल्द होने वाली है लॉन्च

यह भी पढ़े:- Mahindra Thar : पैनोरमिक सनरूफ के साथ भारत की पहली थार

यह भी पढ़िए | भारत में लॉन्च  Jeep Meridian SUV, मिलेंगे कई शानदार फीचर्स

यह भी पढ़े :- जबरदस्त अंदाज में होगी नई Mahindra Scorpio की एंट्री, इसी महीने लॉन्च होगी SUV

यह भी पढ़े:- 32 km/kg तक का शानदार माइलेज देती है ये शानदार CNG कारें, कीमत है 6 लाख रुपए से कम

यह भी पढ़े:- Maruti Alto 800 कार सिर्फ 50000 रुपये में घर ले जाये , जानिए कहां से और कैसे

यह भी पढ़े:- आसान ईएमआई के साथ 1.9 लाख रुपये में Maruti Swift खरीदें, 7 दिन की मनी बैक गारंटी

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़  के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप ShareChat पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Daily Hunt पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Koo पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.