Monday, April 15, 2024
a

Homeटेक ज्ञानWhatsApp पर तीन रेड टिक? नहीं, सरकार आपके मैसेज, कॉल रिकॉर्ड नहीं...

WhatsApp पर तीन रेड टिक? नहीं, सरकार आपके मैसेज, कॉल रिकॉर्ड नहीं कर रही है

WhatsApp पर तीन रेड टिक? नहीं, सरकार आपके मैसेज, कॉल रिकॉर्ड नहीं कर रही है

नए आईटी नियम 26 मई से लागू होने थे, जिसकी घोषणा 25 फरवरी को की गई थी। लेकिन सोशल मीडिया कंपनियों ने इसे लागू नहीं किया है।

फेसबुक, WhatsApp और ट्विटर पर नए आईटी नियमों को लेकर सोशल मीडिया कंपनियों पर तरह-तरह के फर्जी मैसेज वायरल हो रहे हैं। एक मैसेज में दावा किया जा रहा है कि आईटी के नए नियम लागू होने के बाद आपके सभी व्हाट्सएप कॉल रिकॉर्ड हो जाएंगे और आपकी सभी गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी।

इतना ही नहीं, यह भी दावा किया जा रहा है कि फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी ने एक नया टिक सिस्टम लागू किया है। दो ब्लू टिक और एक रेड टिक का मतलब होगा कि सरकार कार्रवाई कर सकती है, जबकि तीन रेड टिक का मतलब होगा कि सरकार ने अदालती कार्रवाई शुरू कर दी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये सभी दावे फर्जी हैं। आईटी के नए नियमों में ऐसा कुछ नहीं है।

पिछले साल भी तीन रेड टिक का ऐसा ही मैसेज वायरल हुआ था। तब भी इसे खारिज कर दिया गया था। वायरल फॉरवर्ड मैसेज में कहा गया है कि एक बार नए नियम लागू होने के बाद सभी कॉल रिकॉर्ड की जाएंगी और सोशल मीडिया अकाउंट्स पर भी नजर रखी जाएगी। यहां तक ​​कहा जा रहा है कि अगर कोई यूजर्स सरकार के खिलाफ या किसी धार्मिक मुद्दे पर नेगेटिव मैसेज शेयर करता है तो उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा. ये सारे दावे गलत हैं।

ये भी देखे:- निक जोनस ने किया प्रियंका को Kiss,फिर ठीक करने लगे गाउन, वीडियो वायरल

जानिए क्या है आईटी की नई गाइडलाइंस

नए आईटी नियम 26 मई से लागू होने थे, जिनकी घोषणा 25 फरवरी को की गई थी। लेकिन सोशल मीडिया कंपनियों ने इसे लागू नहीं किया है। नई गाइडलाइंस के मुताबिक सभी सोशल मीडिया कंपनियों को अपने प्लेटफॉर्म पर किसी पोस्ट की शिकायत पर कार्रवाई करनी होगी. इसके तहत कंपनियों को तीन अधिकारी (मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल संपर्क व्यक्ति और निवासी स्नातक अधिकारी) नियुक्त करने होते हैं।

ये अधिकारी केवल भारत के निवासी होने चाहिए। उनका संपर्क नंबर सोशल मीडिया वेबसाइट और ऐप पर अनिवार्य है। ताकि लोग शिकायत कर सकें। इतना ही नहीं, इन अधिकारियों को शिकायत को अपडेट करने के लिए 15 दिन की समय सीमा भी तय की गई है। साथ ही स्टाफ को इस पूरे सिस्टम पर नजर रखने को कहा गया है.

ये भी देखे:- सर्जरी के बाद पुरुष बनी यह मशहूर अभिनेत्री (Actress), 6 पैक एब्स में शेयर करें फोटो

इसके अलावा अगर कोई गलत/फर्जी पोस्ट वायरल हो रही है तो सरकार कंपनी से उसके ओरिजिनेटर के बारे में पूछ सकती है। यानी सरकार पूछ सकती है कि उस पोस्ट को पहले किसने शेयर किया. इस नियम को लेकर सरकार और कंपनियों के बीच विवाद है। WhatsApp का कहना है कि यह नियम एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन को तोड़ देगा और लोगों के निजता के अधिकार को कमजोर करेगा।

ये भी देखे:- Google ने जोड़ा नया बटन, Gmail से सीधे गूगल फोटोज में सेव कर सकेंगे फोटो

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments