CM Gehlot

जनता के पास CM Gehlot की पहुंच होगी, नए ई-मेल पर संदेश, शिकायत और सुझाव भेजने में सक्षम होंगे

जनता के पास CM Gehlot की पहुंच होगी, नए ई-मेल पर संदेश, शिकायत और सुझाव भेजने में सक्षम होंगे

जयपुर: जनता की पहुँच राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) तक होगी। जी हां, अब लोग नए ई-मेल के जरिए सीएम गहलोत (CM Gehlot)  तक पहुंच सकते हैं। आपको बता दें कि संवेदनशील, पारदर्शी और जवाबदेह शासन की दिशा में, सीएम गहलोत अब अपने संदेश, शिकायत या सुझाव और पहुंच को बता सकेंगे। सीएम गहलोत के निर्देश पर एक नया ईमेल आईडी [email protected] बनाया गया है। इससे भेजे गए ई-मेल सीधे मुख्यमंत्री तक पहुंच जाएंगे।

समस्याओं से मुख्यमंत्री को अवगत कराया जाएगा:

सीएम गहलोत (CM Gehlot) के लिए जनता की पहुँच को आसान और मजबूत बनाने के उद्देश्य से इस नई ई-मेल आईडी को भेजने पर, राज्य के लोग गंभीर आपराधिक मामलों और किसी भी अन्याय संबंधी शिकायतों के बारे में व्यक्तिगत संदेश भेज सकेंगे और मुख्यमंत्री को अवगत करा सकेंगे। दूसरी समस्याएं। । इन मामलों, शिकायतों और समस्याओं पर मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा त्वरित कार्रवाई सुनिश्चित करने का प्रयास किया जाएगा।

ये भी देखे: FAUG को तीन दिनों में 1 मिलियन से अधिक पंजीकरण मिले – nCore गेमिंग

कोरोना के कारण, अब नियमित जनसुनवाई संभव नहीं है:

कोरोना महामारी के कारण, लोग अपने संदेश, शिकायतों और सुझावों को व्यक्त करने के लिए व्यक्तिगत रूप से मुख्यमंत्री से मिलने में सक्षम नहीं हैं। इसके अलावा, संक्रमण के प्रसार और सामाजिक गड़बड़ी के खतरे को ध्यान में रखते हुए, मुख्यमंत्री के निवास पर नियमित रूप से सार्वजनिक सुनवाई भी संभव नहीं है। इस तरह, यह पहल आम आदमी की मुख्यमंत्री तक आसान पहुँच सुनिश्चित करने के उद्देश्य से की गई है।

ये भी देखे: Raipur : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 4 दिसम्बर को जशपुर जिले को देंगे 792 करोड़ रूपए के 196 विकास कार्याें की सौगात

तकनीकी नवाचारों के माध्यम से जन सुनवाई सुनिश्चित करना:

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने हमेशा सुशासन के संकल्प को साकार करने के उद्देश्य से आम आदमी की प्रभावी सुनवाई सुनिश्चित करने का प्रयास किया है। अपने पिछले दोनों कार्यकालों के साथ, मुख्यमंत्री अपने राज्य के आवास पर ही सार्वजनिक सुनवाई कर रहे हैं, लेकिन कोविद -19 महामारी के इस चरण में, जन सुनवाई संभव नहीं है। इसे देखते हुए, उन्होंने तकनीकी नवाचारों के माध्यम से सार्वजनिक सुनवाई सुनिश्चित करने का प्रयास किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *