School

जितनी पढ़ाई, उतना पैसा: निजी स्कूल (School) उतनी ही शुल्क लेंगे, जितना कोर्स पूरा कराया

जितनी पढ़ाई, उतना पैसा: निजी स्कूल (School) उतनी ही शुल्क लेंगे, जितना कोर्स पूरा कराया

अब सीबीएसई स्कूल 70% और राजस्थान बोर्ड स्कूल 60% शुल्क ले सकेंगे। राजस्थान के निजी स्कूलों के फोरम और सरकार द्वारा गुरुवार को सहमति देने के बाद यह निर्णय लिया गया। इसके साथ ही मंच के दो सदस्यों ने अनशन समाप्त कर दिया। हालांकि, मंच ने कहा कि जब तक सहमति पत्र और भावना का पालन नहीं किया जाता है, तब तक हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

इसका मतलब है कि ऑनलाइन कक्षाएं बंद रहेंगी। इससे पहले फोरम का एक प्रतिनिधिमंडल शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा के आवास पर पहुंचा। लंबा संवाद हुआ। आरटीई भुगतान, पहली दिसंबर से 9 वीं -12 वीं तक स्कूल खोलने सहित कई मांगों पर सरकार ने सकारात्मक रुख दिखाया है। इस शुल्क को लेकर मामला सामने आया कि मामला अभी अदालत में लंबित है।

ये भी देखे :- जयपुर के Mall (मॉल) में बेटियां सुरक्षित नहीं, चेंजिंग रूम में खींचा लड़की का अश्लील फोटो

यूडी टैक्स भी माफ किया जाएगा

सरकार नगर निगम द्वारा यूडी टैक्स (शहरी कर) से निजी शिक्षण संस्थानों को छूट देने की सकारात्मक मांग पर भी विचार कर रही है। शिक्षा विभाग इस आशय का एक प्रस्ताव स्थानीय निकाय को भेजेगा जहां से इसकी स्वीकृति जारी की जाएगी।

बिजली का बिल भी घरेलू श्रेणी का है

इसके साथ ही, निजी स्कूलों ने अवकाश की अवधि के दौरान उन्हें निजी श्रेणी में मानते हुए निजी स्कूलों को छूट देने की मांग की है। शिक्षा मंत्री डोटासरा ने इसके लिए सहमति दे दी है लेकिन इस मामले को ऊर्जा विभाग को भी भेजा जाएगा। जहां से स्वीकृति जारी की जाएगी। फिलहाल, सरकार इसके लिए सहमत हो गई है।

ये भी देखे : Rajasthan में स्कूल, कॉलेज और सभी शैक्षणिक संस्थान 30 नवंबर तक बंद रहेंगे

शीघ्र आदेश जारी किए जाएं

आंदोलन की शुरुआत निजी स्कूलों के साथ-साथ निजी स्कूलों के फोरम ने की थी। विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों और निजी स्कूल संगठनों ने मिलकर इस आंदोलन में भाग लिया। PAPA के संयोजक गिरिराज खैरीवाल ने कहा कि राज्य भर के निजी स्कूल पहली बार एक मंच पर आए। उन्होंने कहा कि सरकार को आज पहुंची सहमति पर जल्द ही आदेश जारी करना चाहिए।

कोर्स की फीस ली जा सकती है

निजी स्कूलों के साथ बातचीत सौहार्दपूर्ण थी। बोर्ड से संबंधित समस्याओं के समाधान के लिए बोर्ड के अधिकारियों से बात की गई। फीस से संबंधित मामला अदालत में विचाराधीन है।

-गोविंद डोटासरा, शिक्षा मंत्री

ये भी देखे : पूरे परिवार के लिए PVC आधार कार्ड बनवाएं, मोबाइल से ही होगा काम, जानें पूरी प्रक्रिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.