Monday, April 15, 2024
a

HomeदेशSBI और PNB में खाता है, तो सावधान रहें, सेविंग अकाउंट में...

SBI और PNB में खाता है, तो सावधान रहें, सेविंग अकाउंट में लग रहा है भारी चार्ज

SBI और PNB में खाता है, तो सावधान रहें, सेविंग अकाउंट में लग रहा है भारी चार्ज

NEWS DESK :- भारतीय स्टेट बैंक (SBI) और पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के खाताधारकों के लिए अच्छी खबर नहीं है। ये दोनों बैंक अपने खाताधारकों से बड़ी राशि वसूल रहे हैं। ये पैसा अलग-अलग चीजों के नाम पर इकट्ठा किया जा रहा है। इन दो बैंकों के अलावा, कई बैंक अपने खाताधारकों से कई तरह के शुल्क ले रहे हैं। यह राशि जीरो बैलेंस अकाउंट और बेसिक सेविंग अकाउंट पर एकत्रित की जा रही है। समाचार एजेंसी पीटीआई ने आईआईटी बॉम्बे के एक शोध के आधार पर कहा कि भारतीय स्टेट बैंक में एक बचत खाते के खाताधारकों को एक महीने में चौथे लेनदेन के बाद हर लेनदेन के लिए 17.70 रुपये का भुगतान करना पड़ता है।

ये भी देखे :- राजधानी जयपुर (Jaipur ) में रात के कर्फ्यू की अवधि को शाम 6 बजे तक बढ़ाने की तैयारी

यह शुल्क खाताधारकों पर भी बहुत भारी है और इसे कहीं से भी उचित नहीं ठहराया जा सकता है। अध्ययन में यह भी कहा गया है कि सेवा शुल्क लगाने से एसबीआई के लगभग 12 करोड़ मूल बचत बैंक जमा खाताधारकों से 2015-20 की अवधि के दौरान 300 करोड़ रुपये से अधिक का अनुचित संग्रह हुआ। इस बीच, पंजाब नेशनल बैंक ने 3.9 करोड़ खाताधारकों से 9.9 करोड़ रुपये कमाए हैं।

RBI नियमों का उल्लंघन

रिपोर्ट में कहा गया है “कुछ बैंक बचत खातों के संबंध में आरबीआई के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। विशेष रूप से राज्य के बैंक जहां सबसे अधिक बचत खाते उपलब्ध हैं। ये बैंक हर लेनदेन के लिए 17.70 रुपये तक का व्यापार कर रहे हैं यदि एक महीने में 4 से अधिक लेनदेन होते हैं। इसमें डिजिटल भुगतान भी शामिल है। ”IIT बॉम्बे के प्रोफेसर आशीष दास ने कहा कि इन सेवा शुल्क के माध्यम से, स्टेट बैंक ने 2015 से 2020 के बीच 12 करोड़ बचत खाता उपयोगकर्ताओं से 300 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की है। 2018 और 2019 के बीच 72 करोड़ रुपये और 158 करोड़ रुपये के बीच 2019 और 2020।

ये भी देखे :- PNB दे रही है महिलाओं को मुफ्त ट्रेनिंग, हर महीने कमाएंगे लाखों, कौन कर सकता है आवेदन?

रिजर्व बैंक का नियम क्या है

2013 में जारी भारतीय रिजर्व बैंक के दिशानिर्देशों के अनुसार, बचत खाताधारकों को एक महीने में चार से अधिक लेनदेन करने की अनुमति है। इसके लिए, बैंक अपने नियम बना सकते हैं लेकिन पैसे नहीं ले सकते। इसके अलावा, बैंक अपनी मर्जी के खाताधारकों को अन्य सेवाएं भी प्रदान कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। यदि एक महीने के भीतर चार से अधिक लेनदेन होते हैं, तो रिज़र्व बैंक उन्हें मूल्य वर्धित सेवा के रूप में देखता है।

ये भी देखे :- Big News :- कक्षा 6 और 7 के छात्रों की परीक्षा नहीं होगी, आठवीं कक्षा के छात्रों को प्रमोट  देने की मांग 

रिजर्व बैंक की लापरवाही के कारण खाताधारकों का नुकसान

आईआईटी बॉम्बे के अध्ययन में कहा गया है कि रिजर्व बैंक ने यह नहीं देखा कि कौन सा बैंक अपने दिशानिर्देशों का उल्लंघन कर रहा है। इस कारण से, आईडीबीआई बैंक ने डिजिटल भुगतान करने के लिए 20 रुपये का शुल्क भी लिया है। 10 से अधिक एटीएम ट्रांजेक्शन पर भी बैंक 40 रुपये चार्ज करता है। हालांकि, बाद में सरकार ने इस मामले पर सख्ती दिखाई और बैंकों से लोगों को पैसे लौटाने को कहा। इसके बावजूद, रिज़र्व बैंक को स्टेट बैंक के 17.70 रुपये चार्ज करने के नियमों को बदलने की आवश्यकता है।

ये भी देखे :- Paytm यूजर्स के लिए खुशखबरी, एक क्लिक पर मिलेगा 2 लाख तक का लोन

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments