Wednesday, April 24, 2024
a

Homeदेशभारतीय उपग्रह एस्ट्रोसैट Space में दुर्लभ खोज की, तीव्र पराबैंगनी किरण का...

भारतीय उपग्रह एस्ट्रोसैट Space में दुर्लभ खोज की, तीव्र पराबैंगनी किरण का पता लगाया

भारतीय उपग्रह एस्ट्रोसैट अंतरिक्ष (Space) में दुर्लभ खोज की, तीव्र पराबैंगनी किरण का पता लगाया

न्यूज़ डेस्क :- भारत का पहला मल्टी-वेवलेंथ उपग्रह है, जिसने आकाशगंगा से निकलने वाली तीव्र पराबैंगनी (यूवी) किरणों का पता लगाया है। वह आकाशगंगा पृथ्वी से 9.3 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर है।

पुणे स्थित इंटर-यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स (IUCAA) ने सोमवार को कहा कि इसकी अगुवाई में एक वैश्विक टीम ने यह उपलब्धि हासिल की है। उन्होंने कहा, “एस्ट्रोसैट, भारत का पहला बहु-तरंगदैर्ध्य उपग्रह है, जिसमें पांच अद्वितीय एक्स-रे और दूरबीन उपलब्ध हैं। वे एक साथ काम करते हैं। ‘

यह भी देखें:- Motorola G9 भारत में लॉन्च होगा, जानिए क्या खास होगा इस फोन में

एस्ट्रोसैट ने एक मजबूत पराबैंगनी किरण का पता लगाया है, जिसे AUDFS01 नामक एक आकाशगंगा से निकला है। यह पृथ्वी से 9.3 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर है। प्रकाश द्वारा एक वर्ष में तय की गई दूरी को प्रकाश वर्ष कहा जाता है, जो लगभग 95 ट्रिलियन किलोमीटर के बराबर है।

डॉ। कनक शाह ने तीव्र पराबैंगनी किरणों की खोज करने वाली वैश्विक टीम का नेतृत्व किया। वह IUCAA में एसोसिएट प्रोफेसर हैं। उनकी टीम का शोध 24 अगस्त को ‘नेचर एस्ट्रोनॉमी’ नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

Space
File Photo Space

यह भी देखें:- New Congress president: सोनिया गांधी के स्थान पर कौन होगा अध्यक्ष

आर्यभट्ट ऑब्जर्वेशन साइंस रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि कुछ छोटी आकाशगंगाएं मिल्की वे आकाशगंगा की तुलना में 10–100 गुना अधिक गति से नए तारे बनाती हैं। बता दें कि ब्रह्मांड की अरबों आकाशगंगाओं में बड़ी संख्या में छोटी आकाशगंगाएँ हैं जिनका द्रव्यमान मिल्की वे आकाशगंगाओं से 100 गुना कम है।

दो भारतीय दूरबीनों के माध्यम से, वैज्ञानिकों ने अपने अध्ययन में पाया कि इन आकाशगंगाओं का अजीब व्यवहार अव्यवस्थित हाइड्रोजन के वितरण और आकाशगंगाओं के बीच टकराव के कारण है।

Space
File Photo Space

यह भी देखें:- SBI के ग्राहकों के लिए खुशखबरी! कार्ड भूल गए तो ऐसे निकाले कैश

ARIES के वैज्ञानिकों का कहना है कि हाइड्रोजन किसी भी तारे के निर्माण के लिए एक आवश्यक तत्व है। बड़ी संख्या में तारों को बनाने के लिए आकाशगंगाओं को हाइड्रोजन के उच्च घनत्व की आवश्यकता होती है।

वैज्ञानिकों ने यह अध्ययन नैनीताल के पास 1.3 मीटर देवस्थल फास्ट ऑप्टिकल टेलीस्कोप और विशालकाय मेट्रूवे रेडियो टेलीस्कोप की मदद से किया। अध्ययन के निष्कर्षों को रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी, ब्रिटेन की रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी की मासिक सूचनाओं में प्रकाशित किया जाएगा।

यह भी देखें:- भारत ने चीन को दिया और झटका, Vande Bharat का ठेका रद्द

यह भी देखें:- Ram Mandir का निर्माण शुरू होता है, होटल खोलने की संभावनाओं की तलाश शुरू

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments