Monday, February 26, 2024
a

HomeUncategorizedRakesh Tikait ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी, अगर मजबूरन आंदोलन खत्म...

Rakesh Tikait ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी, अगर मजबूरन आंदोलन खत्म किया गया तो भाजपा नेताओं को गांवों में एंट्री नहीं मिलेगी

Rakesh Tikait ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी, अगर मजबूरन आंदोलन खत्म किया गया तो भाजपा नेताओं को गांवों में एंट्री नहीं मिलेगी

पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों के आंदोलनकारी तीन कृषि कानूनों के खिलाफ कुंडली सीमा पर बैठना जारी रखते हैं। यहां तक ​​कि कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ते खतरे और प्रभाव के बीच, संयुक्ता किसान मोर्चा चार महीने से चल रहे धरना  प्रदर्शनों से पीछे हटने को तैयार नहीं है।

आलम यह है कि दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश में कोरोना वायरस का संक्रमण बेकाबू है, Rakesh Tikait लेकिन किसान नेता आंदोलन जारी रखने पर अड़े हैं। तालाबंदी की स्थिति में भी किसान आंदोलन को जारी रखने का ऐलान करने वाले किसान नेता ऐसे बयान दे रहे हैं कि लगता नहीं कि अगले कुछ महीनों में धरना-प्रदर्शन खत्म होने वाला है।

ये भी देखे :- हो के मजबूर मुझे उसने बुलाया होगा :- जब पुष्पा ने दीपू के लिए लॉकडाउन (Lockdown) में बीस रुपये के नोट पर लिखा 

इस बीच, बुधवार को कुंडली सीमा पर पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता, राकेश टिकैत (भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता) ने कहा कि सरकार जबरन आंदोलन खत्म नहीं कर सकती। उन्होंने चेतावनी दी कि केंद्र सरकार को यह नहीं सोचना चाहिए कि लोगों को धरने पर दबाव डालकर घर भेजा जाएगा। अगर केंद्र सरकार बाध्य होती है, तो किसी भी भाजपा नेता को गांवों में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि तालाबंदी के बावजूद आंदोलन नहीं रुकेगा। राकेश टिकैत बुधवार को राय के एक ढाबे पर बोल रहे थे।

उधर, भाकियू नेता गुरनाम सिंह चादुनी ने ढाबा मालिक रामसिंह राणा को धरने पर आरओ पानी और आटा उपलब्ध कराने के लिए धन्यवाद दिया। गुरनाम सिंह चादुनी ने कहा कि केंद्र सरकार ईडी के माध्यम से नोटिस भेजती है जो भी आंदोलन में मदद करेगा।

ये भी देखे :- दिल्ली उच्च न्यायालय के केंद्र को निर्देश :- भीख माँगना, उधार लेना या चोरी करना, लेकिन ऑक्सीजन (oxygen) लाना, हम रोगियों को मरते हुए नहीं देख सकते।

यहां यह बता दें कि दिल्ली-एनसीआर (टिकरी, सिंघू, शाहजहांपुर और गाजीपुर) की चार सीमाओं पर किसानों की हड़ताल पिछले साल 28 नवंबर से चल रही है। किसान प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं का कहना है कि जब तक तीन केंद्रीय कृषि कानून पूरी तरह से वापस नहीं ले लिए जाते, तब तक आंदोलन खत्म करने का सवाल ही नहीं है।

ये भी देखे:- PNB अपने लाखों ग्राहकों को विशेष सुविधा दे रहा है, अब घर से मिनटों में सभी काम निपट जाएंगे

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments