Thursday, December 8, 2022
HomeUncategorizedRajasthan: भांजे का मायरा (Mayra) भरने के लिये 2 बोरों में पैसे...

Rajasthan: भांजे का मायरा (Mayra) भरने के लिये 2 बोरों में पैसे भरकर पहुंचे 3 मामा, नोट गिनने में लगे कई घंटे

Rajasthan: भांजे का मायरा (Mayra) भरने के लिये 2 बोरों में पैसे भरकर पहुंचे 3 मामा, नोट गिनने में लगे कई घंटे

Nagaur Latest Update News: राजस्थान के नागौर जिले में तीन भाइयों ने अपने भतीजे की शादी में अनोखा मायरा (Mayra) यानी चावल भरा. ये तीनों भाई प्लास्टिक की दो थैलियों में नोट भरकर अपनी भाभी के ससुराल लाए। मायरे की रस्म के दौरान जब मकर राशि के लोग और

अपनी अनूठी मायरा (Mayra) के लिए मशहूर राजस्थान के नागौर जिले (Nagaur District)  में एक बार फिर एक खास मायरा भर गया है. इस मिथक की हर तरफ चर्चा हो रही है। नागौर जिले में एक किसान परिवार के 3 भाई अपने भतीजे की शादी में दो बोरी नोट लेकर पहुंचे. इसके लिए किसान परिवार ढाई साल से पैसे जमा कर रहा था। रविवार की रात उसने मायरे में एक टोकरी (खारी) में 10-10 रुपये के नोट रखे। मायरे में कुल साढ़े छह लाख रुपये भरे गए। यहां पैसे गिनने में पंचों को 3 घंटे लग गए। नागौर जिले के देशवाल गांव में यह अनोखा मायरा भरा गया है। ये मायरा सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बनी हुई है.

यह भी पढ़े:- भारत में 1 लीटर पेट्रोल में 46 KM का Mileage, नई कार हुई लॉन्च, गाड़ी में 7 सीटों के साथ आएगा पूरा परिवार

इस शादी में मायर की रस्म अनोखे तरीके से निभाई गई। इधर, खेती-बाड़ी से गुजारा करने वाले तीन भाई भाभी की ससुराल से नोटों से भरे प्लास्टिक के दो बैग लेकर अपने भतीजे की शादी में पहुंचे. फिर खेती में इस्तेमाल होने वाली खरी (टोकरी) में नोटों को खाली करके रिश्तेदारों और समाज के पांच-पटेलों की उपस्थिति में भर दिया। प्लास्टिक की बोरियों में सभी नोट 10-10 रुपये के थे। शादी में कुल छह लाख रुपये भरे गए। इसके अलावा मायरे में सोने-चांदी के आभूषण भी उपहार स्वरूप दिए जाते थे।

तीन भाइयों से भरी बहन का ये अनोखा मायरा

नागौर जिले के देशवाल गांव निवासी सीपू देवी पुत्र हिम्मतराम की रविवार को शादी हुई थी. इस शादी में सीपू देवी के 3 भाई मायरा को लेकर आए थे। डेगाना निवासी रामनिवास जाट, कानाराम जाट और शैतानराम जाट ने मायरा को अपनी बहन सीपू देवी के अनोखे अंदाज में भर दिया। तीनों भाई प्लास्टिक की बोरियों में भरकर मायरे में भरने के लिए पैसे लाए थे।

नोट गिनने में 3 घंटे लगे

कट्टों के साथ नोटों को खारा में डालने के बाद मायरे में मौजूद आठों मकर राशि के लोगों ने सभी नोटों को गिनना शुरू कर दिया. करीब 3 घंटे तक चली गिनती के बाद खरी में कुल 6.15 लाख रुपये गिने गए। इस दौरान शादी में मौजूद लोग बैठकर इंतजार करते रहे कि खरी में कितनी राशि डाली गई.

जायल का मायरा है प्रसिद्ध

राजस्थान में भतीजे या भतीजे की शादी में मामा अपनी बहन का मायरा भरते हैं। यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। महिलाएं मायरा के बारे में लोक गीतों में भी गाती हैं, जो मुगल शासन के दौरान खिन्याला और जायल के जाटों द्वारा लिच्छमा गुजरी को अपनी बहन मानकर भर दिया गया था। इसलिए नागौर का मायरा बहुत प्रसिद्ध है।

यह भी पढ़े :-  खुशखबरी : ग्राहकों के खाते में ट्रांसफर हुए 237 रुपये!, रसोई Gas Cylinder पर फिर शुरू हुई सब्सिडी

किंवदंती भी है

कहा जाता है कि यहां धर्मराम जाट और गोपाल राम जाट मुगल शासन के दौरान सम्राट के लिए कर वसूल करते थे और उन्हें दिल्ली के दरबार में जमा करते थे। इस दौरान एक बार जब वह टैक्स जमा करके दिल्ली जा रहे थे तो रास्ते में लिच्छमा गुजरी को रोते हुए देखा। उन्होंने बताया था कि उनका कोई भाई नहीं है और अब मायरा को उनके बच्चों की शादी में कौन लाएगा? इस पर धर्मराम और गोपाल राम लिच्छमा गुजरी के भाई बन गए और मायरा को कर संग्रह के सभी धन और सामग्री से भर दिया। बादशाह ने उन दोनों को दण्ड देने की बजाय सब कुछ माफ भी कर दिया था। तब से मायरा लोक गीत खियाला के जाटों द्वारा गाए जाते हैं।

यह भी पढ़े :- आम जनता को बड़ा झटका! रेडीमेड कपड़े और जूते खरीदना होगा महंगा, GST की दरें 5 से 12 फीसदी तक बढ़ेंगी

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments