Omicron

Omicron से बचाव का कवच : अगले साल से ली जाएगी तीसरी खुराक, सबसे पहले ऐसे लोगों के टीकाकरण पर है समझौता

Omicron से बचाव का कवच : अगले साल से ली जाएगी तीसरी खुराक, सबसे पहले ऐसे लोगों के टीकाकरण पर है समझौता

राष्ट्रीय तकनीकी टीकाकरण सलाहकार समिति और केंद्र सरकार के अधिकार प्राप्त समूह के बीच कोरोना टीकाकरण से संबंधित अतिरिक्त खुराक को लेकर समझौता हो गया है। हालांकि, इस अतिरिक्त खुराक को मंजूरी मिलने के बाद भी, कई बाधाओं को दूर करना है।

तीसरी यानि कोरोना वैक्सीन की अतिरिक्त खुराक को लेकर चर्चा चल रही है। Omicron फॉर्म से बचने के लिए विदेशों में भी इसका टीकाकरण शुरू हो गया है, लेकिन भारत में भी अगले साल से स्वास्थ्य कर्मियों और उच्च जोखिम वाली आबादी को अतिरिक्त खुराक देने का फैसला किया गया है, जिसकी आधिकारिक घोषणा होनी बाकी है।

यह भी देखे:- 12 लाख रुपये से कम की है ये Electric Car, करीब 50 पैसे में चलेगी 1 Km

चूंकि इस फैसले के बाद भी कई बाधाओं को पार करने की जरूरत है। इसलिए कहीं न कहीं सरकार इंतजार कर रही है। जहां ओमाइक्रोन वैरिएंट एक चरण में अलग होने की प्रतीक्षा कर रहा है। वहीं, कोविशील्ड और कोवोक्सिन पर शुरू हुई पढ़ाई के नतीजे भी आने बाकी हैं.

राष्ट्रीय तकनीकी टीकाकरण सलाहकार समिति से जुड़े एक वरिष्ठ चिकित्सक ने कहा कि लगभग सभी विशेषज्ञ वैक्सीन की अतिरिक्त खुराक देने पर सहमत हो गए हैं, लेकिन अभी इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती क्योंकि हमारे पास तीसरी खुराक के बारे में कुछ भी नहीं है.

यह भी देखे| सिर्फ 37 हजार देकर घर ले जाएं लंबा माइलेज देने वाली Maruti Alto 800, EMI बस इतनी होगी

यूके में कोविशील्ड वैक्सीन का परीक्षण किया जा चुका है, लेकिन भारत में इसका परीक्षण किया जाना बाकी है। Covaxin के लिए अतिरिक्त खुराक पर भी काम किया जा रहा है, लेकिन इसके लिए Omicron वेरिएंट को अलग करना बहुत जरूरी है। यह काम नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी), पुणे के वैज्ञानिक कर रहे हैं।

इस प्रक्रिया में दो से तीन सप्ताह का समय लगता है। ऐसे में विशेषज्ञ अभी भी एनआईवी से इसकी खबर का इंतजार कर रहे हैं। वरिष्ठ डॉक्टर ने कहा कि देश में करीब 40 करोड़ स्वास्थ्यकर्मी और उच्च जोखिम वाली आबादी हैं, जिन्हें अतिरिक्त खुराक के लिए चुना गया है.

यह भी देखे| 1.5 लाख की Sports Bike लगती है कार जैसी सुविधाएं, लेकिन कीमत है सिर्फ 77500

नियमों और वैक्सीन की मंजूरी पर फैसला अलग

एम्पावर्ड ग्रुप के एक अधिकारी ने कहा कि एक अतिरिक्त खुराक आहार तैयार करना और वैक्सीन की मंजूरी दो अलग-अलग विषय हैं। डॉ. वीके पॉल की अध्यक्षता में गठित राष्ट्रीय तकनीकी प्रतिरक्षण सलाहकार समिति और टीकाकरण समिति नियम बनाने का काम कर रही है।

पिछले 24 घंटे में 7447 संक्रमित

देश में एक दिन में 7447 लोग संक्रमित पाए गए हैं। 391 की मौत हो चुकी है। वहीं, 7886 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं। एक्टिव केस 86,415 हैं।

यह भी पढ़िए| महज 30 दिनों में इस Car की धुआंधार मांग से हिला बाजार, कम बजट में प्रीमियम फीचर्स के साथ देती है 26 kmpl का माइलेज

डब्ल्यूएचओ ने कोवैक्स के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारतीय सीरम संस्थान में बनी अमेरिकी कंपनी नोवावैक्स की वैक्सीन कोवावैक्स को कोरोना मरीजों पर आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही इस टीके को संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक वैक्सीन आपूर्ति कार्यक्रम में भी शामिल किया जा सकता है, जो दुनिया भर के गरीब देशों को टीके पहुंचाता है।

कोवावैक्स टीएम के नाम से मशहूर यह टीका डब्ल्यूएचओ की हरी झंडी पाने वाला नौवां टीका है। इस निर्णय के साथ, अब कोवावैक्स टीएम के साथ टीकाकरण करने वाले भी उन देशों की यात्रा कर सकेंगे जिन्होंने केवल डब्ल्यूएचओ प्रमाणित टीकों की यात्रा की अनुमति दी है। इस टीके को बनाए रखना बहुत आसान है और इसे केवल रेफ्रिजरेटर की मदद से ही लंबे समय तक रखा जा सकता है। इस फीचर के साथ यह वैक्सीन गरीब देशों के लिए बड़ी राहत साबित होगी।

यह भी देखे  1 लाख से कम में 31 kmpl माइलेज वाली Maruti Alto खरीदें, EMI प्लान के साथ 7 दिन की मनी बैक गारंटी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *