Tuesday, July 23, 2024
a

Homeटेक ज्ञानPNB ग्राहक सावधान- आपके खाते से संबंधित 3 नियम बदलने जा रहे...

PNB ग्राहक सावधान- आपके खाते से संबंधित 3 नियम बदलने जा रहे हैं, आप धन वापस नहीं ले पाएंगे

PNB ग्राहक सावधान- आपके खाते से संबंधित 3 नियम बदलने जा रहे हैं, आप धन वापस नहीं ले पाएंगे

News Desk :- PNB यानी पंजाब नेशनल बैंक ने तीन नियमों को बदलने का फैसला किया है। बैंक द्वारा जारी बयान के अनुसार, 31 मार्च 2021 के बाद, बैंक ने पुराने IFSC को MICR कोड में बदलने का फैसला किया है। इसका मतलब है कि ये कोड 31 मार्च 2021 के बाद काम करना बंद कर देंगे। आइए जानते हैं इससे जुड़ी सभी बातें

ये भी देखे :Amazon ने बियानी के लिए कारावास की मांग की,Reliance-Future डील के खिलाफ कदम बढ़ाएं

PNB ने तीन नियम बदलने का फैसला किया

(1) पुराने एटीएम काम नहीं करेंगे

PNB की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि 1 फरवरी 2021 से पीएनबी ग्राहक ईएमवी एटीएम मशीनों से पैसा नहीं निकाल पाएंगे। अगर एटीएम से पैसे निकालते समय कार्ड कुछ सेकंड के लिए एटीएम के अंदर बंद हो जाता है, तो यह एक ईएमवी एटीएम है। अगर कार्ड स्वैप करके पैसे निकाले जाते हैं, तो यह एक गैर-ईएमवी एटीएम है। इन एटीएम में, कार्ड के डेटा को एक चुंबकीय पट्टी के माध्यम से पढ़ा जाता है।

(2) PNB का परिवर्तित IFSC कोड

PNB-Punjab National Bank के अनुसार, पुराने IFSC कोड को बदल दिया गया है। ये कोड 31 मार्च 2021 के बाद काम नहीं करेंगे। यदि कोई पुराने कोड का उपयोग करता है तो धन हस्तांतरित नहीं किया जाएगा।

ऑनलाइन लेन-देन के लिए किसी को बैंक का IFSC यानी भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड और बैंक खाता संख्या के साथ जोड़ना होगा। भारत में बैंकों की संख्या बहुत बड़ी है और इस स्थिति में सभी बैंकों की शाखाओं को याद नहीं किया जा सकता है।

इसीलिए RBI ने इस समस्या को दूर करने के लिए सभी बैंक शाखाओं को एक कोड दिया है। बैंक की किसी भी शाखा को उस कोड के माध्यम से ट्रैक किया जा सकता है।

IFSC कोड 11 अंको का होता है। IFSC कोड में शुरुआती चार अक्षर बैंक का नाम दर्शाते हैं। इलेक्ट्रॉनिक भुगतान के दौरान IFSC कोड का उपयोग किया जाता है।

IFSC कोड का इस्तेमाल नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (NEFT) और रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) के लिए किया जा सकता है।

IFSC कोड खोजने के कई तरीके हैं। आप वेबसाइट, बैंक खाते और चेक बुक के माध्यम से IFSC कोड का पता लगा सकते हैं। कोई भी व्यक्ति संबंधित बैंक की वेबसाइट पर जाकर IFSC कोड पा सकता है।

इसके अलावा, बैंक खाता पासबुक के पहले पृष्ठ पर, आपके पास खाता संख्या, पता, शाखा कोड, IFSC कोड और खाता धारक का नाम जैसी जानकारी होगी।

आप चेकबुक के माध्यम से IFSC कोड का भी पता लगा सकते हैं। एक चेकबुक में, IFSC कोड ऊपर लिखा गया है, कुछ में यह नीचे की ओर लिखा गया है।

(3) परिवर्तित PNB MICR कोड

बैंक का कहना है कि पुराने MICR कोड अब नहीं चलेगा। आपको बता दें कि ओबीसी, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का पीएनबी में विलय हो गया है। अब इन दोनों बैंकों का अस्तित्व समाप्त हो गया है। इन दोनों बैंकों के ग्राहक पीएनबी में शिफ्ट हो गए हैं। इसीलिए नियम बदल गए हैं।

ये भी देखे :- Gmail के बारे में Google के नए नियम, जो नहीं मानते हैं तो  खाता बंद हो जाएगा, सच्चाई जानें

MICR कोड मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकॉग्निशन है। जैसा कि आप इसके नाम से समझ सकते हैं।

यह चरित्र मान्यता पर आधारित होता। इसका उपयोग बैंक की चेक बुक पर किया जाता है। अक्सर आपने चेक पर MICR कोड लिखा देखा है।

MICR कोड चेक पर चुंबकीय स्याही से मुद्रित किया जाता है। यह मुख्य रूप से सुरक्षा बारकोड की तरह लेनदेन की सुरक्षा के लिए उपयोग किया जाता है।

MICRcode 9 अंकों का है। प्रत्येक बैंक शाखा का अपना विशिष्ट MICR कोड होता है। MICR कोड के 9 अंकों में पहले 3 अंक शहर का नाम दर्शाते हैं। बैंक का नाम अगले 3 अंकों में दिया गया है और अंतिम 3 अंक बैंक शाखा के बारे में हैं।

ये भी देखे :- राजस्थान में पेट्रोल (petrol) 100 रुपए के पार, व्यापारियों ने लगाया वैट कम

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments