MSP

पीएम मोदी ने सदन में कहा- किसानों को गुमराह करना सही नहीं है, MSP है MSP था और MSP रहेगा

पीएम मोदी ने सदन में कहा- किसानों को गुमराह करना सही नहीं है, MSP है MSP था और MSP रहेगा

BIG NEWS :- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को किसान आंदोलन पर बोलते हुए कहा कि पंजाब के किसानों को गुमराह करना सही नहीं है। 84 दंगों के आँसू और दर्द अभी भी भुलाए नहीं जा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को सिखों पर गर्व है, वे देश का गौरव हैं।

ये भी देखे :- अब लॉटरी से शराब (Alcohol) की दुकानों की नीलामी नहीं होगी, हर कोई बोली लगा सकता है

पीएम मोदी ने कहा कि MSP  कृषि कानून के नाम पर गुमराह आंदोलनकारियों और आंदोलनकारियों की पहचान करना और उनसे बचना आवश्यक है। पीएम मोदी ने कहा कि हमने अपनी नीतियों में मिलावट नहीं की है, हमने अच्छे के लिए कदम उठाए हैं। पीएम मोदी ने कहा कि सदन में केवल किसान आंदोलन पर चर्चा हो रही है, लेकिन किसानों के आंदोलन क्यों हो रहे हैं, यह नहीं बताया जा रहा है।

राज्यसभा में बोलते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि किसान आंदोलन पर केवल राजनीति की जा रही है, कोई भी किसानों की बुनियादी सुविधाओं पर चर्चा क्यों नहीं कर रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि यह हमें तय करना है कि हम समस्या का हिस्सा बनना चाहते हैं या समाधान का माध्यम। पीएम मोदी ने कहा कि सदन में किसान आंदोलन को लेकर बहुत चर्चा हुई है। आंदोलन के संबंध में जो अधिकतम समय बताया गया था।

ये भी देखे :- LIC की इस विशेष नीति में 1300 रुपये लागू करें, आपको पूरे 63 लाख मिलेंगे, आप भी जानिए कैसे

हर किसी को इस बात पर चुप रहना चाहिए कि आंदोलन किस बारे में है। जो मूल बात है, उस पर भी चर्चा होती तो अच्छा होता। उन्होंने कहा कि कृषि की मूल समस्या क्या है, इसकी जड़ कहां है। पीएम मोदी ने कहा कि   जब भी कोई नई चीज होती है तो भ्रम होता है लेकिन इस पर गहन विचार होना चाहिए और हंगामा नहीं होना चाहिए।

ये भी देखे:- 40 करोड़ ग्राहकों के लिए SBI ने किया बड़ा ऐलान, आपके खाते के लिए आसान बने नियम

 

पूर्व पीएम देवेगौड़ा ने कृषि कानून की तारीफ की

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पूर्व पीएम देवेगौड़ा ने सरकार के प्रयासों की सराहना की और कई सुझाव भी दिए। आज मैं पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण जी के बारे में बात करना चाहता हूं। वह हमेशा छोटे किसानों की दयनीय स्थिति से चिंतित थे। पीएम मोदी ने सदन में चौधरी चरण सिंह के बयान को पढ़ा, ‘अगर किसानों की भावना को लिया जाए, तो 33 प्रतिशत किसान जिनके पास 2 बीघा से कम जमीन है,

18 प्रतिशत जो किसान कहलाते हैं, उनके पास 2-4 बीघा जमीन है, चाहे वह कितनी भी मेहनत करे, वह अपनी जमीन पर नहीं गुजर सकता। ‘ पीएम मोदी ने कहा कि वर्तमान में, जिनके पास 1 हेक्टेयर से कम भूमि है 68 प्रतिशत किसान हैं, 86 प्रतिशत किसानों के पास 2 हेक्टेयर से कम भूमि है, हमें 12 करोड़ किसानों को अपनी योजनाओं के केंद्र में रखना होगा।

ये भी देखे :- करीब 33 लाख अयोग्य किसानों को मिला PM-Kisan का पैसा, जानिए 8 वीं किस्त कब जारी होगी

विपक्ष यू-टर्न क्यों ले रहा है

प्रधानमंत्री ने कहा कि शरद पवार सहित कई कांग्रेस नेताओं ने कृषि सुधारों के बारे में बात की थी। शरद पवार ने अभी भी सुधारों का विरोध नहीं किया, हमने वही किया जो उन्हें पसंद आया और आगे भी जारी रहेगा। पीएम मोदी ने कहा कि आज विपक्ष यू-टर्न ले रहा है क्योंकि राजनीति हावी है लेकिन राजनीति में विचारों की मौत नहीं होनी चाहिए और सुधार खत्म नहीं होने चाहिए। पीएम मोदी ने सदन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान को पढ़ा, ‘हमारी सोच यह है कि बड़ा बाजार लाने में क्या रुकावट है, हमारी कोशिश किसान को उपज बेचने की अनुमति देना है।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि मनमोहन सिंह ने जो कहा कि मोदी को आज करना है, कृपया गर्व करें। पीएम मोदी ने कहा कि दूध मजदूरों, पशुपालकों को खुली छूट है। कोई भी जानवर उठा सकता है, दूध उत्पादन में कोई बंधन नहीं है, इसलिए किसानों को यह छूट नहीं दी जाती है।

ये भी देखे :- RBI डिजिटल भुगतान, बैंकिंग और वित्त कंपनियों की शिकायतों के लिए एक नंबर की घोषणा

देश को आगे बढ़ने के लिए पीछे नहीं ले जा सकते

प्रधानमंत्री ने कहा कि   किसानों के साथ बातचीत चल रही है। अगर हमें आगे बढ़ना है, तो देश को पीछे नहीं ले जाया जा सकता है। किसानों की आय बढ़ाने पर भी हमारा विशेष ध्यान है। एमएसपी था और रहेगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *