Jaipur

Jaipur की सड़कों पर नहीं दिखेगा एक भी भिखारी, सरकार ने दिए निर्देश

Jaipur की सड़कों पर नहीं दिखेगा एक भी भिखारी, सरकार ने दिए निर्देश

राजधानी जयपुर को भिखारियों से मुक्त करने के लिए सरकार के निर्देश पर अभिनव पहल (अभिनव पहल) की जा रही है। जयपुर शहर में करीब ढाई से तीन हजार भिखारियों (तीन हजार भिखारियों की पहचान) की पहचान की गई है।
राजधानी जयपुर को भिखारियों से मुक्त करने के लिए सरकार के निर्देश पर अभिनव पहल (अभिनव पहल) की जा रही है। जयपुर शहर में करीब ढाई से तीन हजार भिखारियों (तीन हजार भिखारियों की पहचान) की पहचान की गई है। जिसमें हर उम्र के भिखारी शामिल हैं।
राजधानी जयपुर में भिखारियों को मुख्यधारा में लाने का अभियान शुरू हो गया है. इसके लिए राजस्थान पुलिस, सामाजिक न्याय अधिकारिता विभाग और आरएसएलडीसी विभाग द्वारा जयपुर शहर में अभियान चलाया गया है।

यह भी पढ़े :-  नौकरी छोड़कर शुरू करें ये सुपरहिट बिजनेस (business ), हर महीने कमा रहे ₹2 लाख, 90 फीसदी मदद देगी सरकार

यह पूर्व पुलिस महानिदेशक भूपेंद्र यादव की देन थी, उनका विचार था सड़क पर खड़े भिखारियों को लाचार संभालना। इसके बाद सरकार ने भिखारियों की पहचान कर उन्हें मुख्यधारा से जोड़ने का काम शुरू किया.
जिसमें बेसहारा भिखारी बच्चों, युवाओं, विकलांगों, बूढ़ों को मुख्यधारा में लाने के लिए रेस्क्यू किया जाएगा. इन भिखारियों को रखने का कार्य अम्बेडकर छात्रावास मानसरोवर द्वारा तैयार की गई संस्था में किया जाएगा, जो कि जलुपुरा स्थित एक सार्थक मानव कुष्ठ आश्रम है।

जहां इन भिखारियों की काउंसलिंग की जाएगी। काउंसलिंग के बाद भिखारी की कैटेगरी तैयार की जाएगी। कैटेगरी के बाद यदि वह रोजगार करने के लिए सहमत होता है तो आरएसएलडीसी द्वारा रोजगार प्रशिक्षण आरएसएलडीसी द्वारा किया जाएगा।
अतीत में, 100 भिखारियों को सड़कों से बचाया जा रहा है और आरएसएलडीसी द्वारा प्रशिक्षित किया जा रहा है। RSLDC द्वारा प्रशिक्षित 20 से 30 भिखारी अब रोजगार में शामिल हो गए हैं। इस अभिनव पहल से अब भिखारियों और बेसहारा लोगों को सड़कों से मुख्यधारा से जोड़ने की शुरुआत हो गई है.

यह भी पढ़े :-  Jio के इस दो साल की वैलिडिटी वाले रिचार्ज प्लान Airtel-Vi से के पास भी नहीं है कोई तोड़, देखें पूरा प्लान
राजधानी जयपुर को भिखारियों से मुक्त कराने के लिए सरकार के निर्देश पर अभिनव पहल की जा रही है. जयपुर में भिखारियों की पहचान कर उन्हें मुख्यधारा से जोड़ने का काम किया जा रहा है. इसके लिए पहले जयपुर शहर में भिखारियों को समझाने का काम किया गया। जिन्हें समझाकर उनके घर भेज दिया गया।

गैर सरकारी संगठनों द्वारा रोजगार भी गैर सरकारी संगठनों द्वारा किया जाता था। अगर ये लोग अब भी भीख मांगते पाए जाते हैं या ऐसे गरीब लोगों के रहने-पीने की व्यवस्था नहीं है तो इनके खाने-पीने से लेकर सार्थक मानव संस्था में रहने तक की व्यवस्था की जाएगी। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा चलाए जा रहे अभियान के माध्यम से यदि बच्चा श्रेणी का है तो उसे बाल गृह से जोड़कर (शिक्षा को बाल गृह से लिंक करें) कार्य किया जाएगा। अगर कोई विकलांग व्यक्ति है तो उसे जामडोली में भर्ती कराया जाएगा। यदि कोई व्यक्ति वृद्ध या 60 वर्ष का है तो उसे जामडोली स्थित वृद्धाश्रम में प्रवेश दिया जाएगा।

यह भी पढ़े :- Ujjawala Yojana :- अगर ये पेपर पास हो जाते हैं तो मुफ्त में मिल सकता है LPG cylinder

इसके बावजूद अगर आपकी उम्र ज्यादा है तो भरतपुर में अपना घर रखने का काम करेंगे। इस अभियान के तहत जयपुर को भिखारी मुक्त बनाने का काम किया जाएगा। समाज में पुन: स्थापना और उसे रोजगार से जोड़ने का कार्य भी किया जाएगा।

यह भी पढ़े :- बुरी खबर! 1 नवंबर से इन 43 smartphones पर नहीं चलेगा WhatsApp, यहां देखें पूरी लिस्ट

प्रदेश सरकार की अभिनव पहल पर राजधानी जयपुर शहर को साधु मुक्त बनाने का प्रयास किया जा रहा है। भिखारियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आरएसएलडीसी द्वारा उन्हें प्रशिक्षण देकर रोजगार से जोड़कर समाज में स्थापित करने का कार्य किया जाएगा। भिखारियों को उनकी योग्यता के अनुसार रोजगार प्रशिक्षण देकर मुख्यधारा में लाया जाएगा। अधिकांश भिखारी नशे की लत से भी जुड़े हुए हैं (भिखारी भी नशे की लत से जुड़े हुए हैं), उन्हें नशीली दवाओं की लत में ले जाकर ठीक किया जाएगा। ताकि शहर में नशीले पदार्थों का कारोबार करने वालों पर भी अंकुश लगाया जा सके.

यह भी पढ़े :- Ujjawala Yojana :- अगर ये पेपर पास हो जाते हैं तो मुफ्त में मिल सकता है LPG cylinder

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *