News

News : पावली में करंट से किसान की हुई थी मौत, अंतिम संस्कार नही करने पर अड़े परिजन, देवल व देवासी की मध्यस्थता के बाद मामला सुलझा

News : पावली में करंट से किसान की हुई थी मौत, अंतिम संस्कार नही करने पर अड़े परिजन, देवल व देवासी की मध्यस्थता के बाद मामला सुलझा

भीनमाल के निकटवर्ती पावली गांव में नीजि बिजली कंपनी में कार्यरत नीजि विद्युतकर्मी की करंट से झुलसने से हुई मौत का मामला सामने आने के बाद एवं लोगों के विरोध को देखते हुए प्रशासन सतर्क हो गया था। परन्तु विधायक नारायणसिंह देवल एवं पूर्व उप मुख्य सचेतक रतन देवासी की समझाईश पर नाराज लोग मान गए और प्रशासन को राहत मिली है।

यह है मामला

आपको बताए देते है कि गत 7 नवंबर को पावली गांव निवासी चमनाराम पुत्र अखाराम चौधरी जो कि बिजली विभाग की एक नीजि कंपनी में नौकरी कर रहा था, विद्युत लाईन में आए फाल्ट को ठीक करने के लिए उसे पूरण गांव भेजा था, पीछे से लाईनमैन सुरेन्द्रसिंह व नटवरसिंह ने कनिष्ठ अभियंता के साथ सांठ गांठ कर बंद लाईन में विश्ुत प्रवाह शुरू कर दिया जिससे चमनाराम बुरी तरह झुलस गया। उसे ईलाज के लिए अहमदाबाद भेजा गया। गंभीर रूप से घायल चमनाराम का आपरेशन के बाद कल मौत हो गई। नाराज परिजनों ने डेड बाडी पावली के स्कूल में रख दी और पीडित परिजनों को राहत देने पर अंतिम संस्कार करने की मांग रखी।

ये भी देखे :- बिजली चोरों पर सख्ती: राजधानी में Launch हुई Vigilance App, बिजली चोरों पर रखी जाएगी Online नज़र

विधायक देवल व पूर्व विधायक देवासी पहुंचे मौके पर

आज सुबह घटना की जानकारी मिलने के बाद रानीवाड़ा विधायक नारायणसिंह देवल, पूर्व उप मुख्य सचेतक रतन देवासी, एसडीएम शेलेन्द्रसिंह, डिस्कॉम के अधीक्षण अभियंता, अधिशाषी अभियंता भरत देवड़ा सहित पुलिस विभाग के अधिकारियों का पावली में जमावडा हो गया। मामला गरम होने एवं अधिकारियों के पास ठोस विकल्प नही होने पर देवल व देवासी ने मिलकर ग्रामीणों से समझाईस कर सशर्त मांगों के साथ उन्हे संतुष्ट किया। प्राप्त जानकारी के अनुसार नीजि कंपनी मृतक के परिजनों को 5.50 लाख, 50 हजार स्टाफ देने की बात कही गई।

ये भी देखे : जल्द ही एंड्रॉइड के Text Messages एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड हो जाएंगे, Google  तैयारी कर रहा है

कलेक्टर ने किए जांच अधिकारी नियुक्त

साथ में पूरे प्रकरण की जांच के लिए जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने जसवंतपुरा एसडीएम शेलेन्द्रसिंह को जांच अधिकारी नियुक्त किया। पुलिससिया जांच के लिए प्रकरण की फाईल को सांचौर डिप्टी विरेन्द्रसिंह को भेजी गई है। साथ में कनिष्ठ अभियंता की भूमिका की जांच तक उसे अन्यंत्र लगाया गया है। बाद में परिजनों ने डेड बाडी को अंतिम संस्कार के लिए शमसान ले जाया गया है। इस तरह प्रशासन सहित बिजली महकमे को राहत मिली है।

भीनमाल। भरत सोनी की रिपोर्ट

ये भी देखे : Love Jihad : राजस्थान में भाजपा-कांग्रेस में बिखराव, शेखावत ने गहलोत के ट्वीट पर किया पलटवार

ये भी देखे: कांग्रेस (Congress) में ऐतिहासिक बदलाव, अब अध्यक्ष पद के लिए चुनाव डिजिटल माध्यम से होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *