1 April

1 April से लागू हो सकती है नई सैलरी, जानिए प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों पर कितना होगा असर

1 April से लागू हो सकती है नई सैलरी, जानिए प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों पर कितना होगा असर

अगर यह बिल अगले महीने से लागू होता है, तो इससे नौकरीपेशा लोगों के घर का वेतन प्रभावित होगा और उन्हें कम राशि मिलेगी।

अगले महीने यानी 1 April से वेतन से जुड़े नियमों में बदलाव की संभावना है। अगर ये बदलाव लागू होते हैं तो हो सकता है कि आपके खाते में वेतन पहले की तुलना में कम हो। दरअसल, पिछले साल संसद में वेज बिल पर कोड पारित किया गया था। अब माना जा रहा है कि यह बिल 1 April  से लागू हो सकता है। अगर यह बिल लागू होता है, तो आइए जानते हैं कि निजी क्षेत्र के कर्मचारियों की जेब पर इसका क्या और कैसे असर पड़ेगा।

अगर यह बिल अगले महीने से लागू होता है, तो इससे नौकरीपेशा लोगों के घर का वेतन प्रभावित होगा और उन्हें कम राशि मिलेगी। नए बिल के अनुसार, वास्तव में कंपनियों को सीटीसी के मूल के रूप में 50 प्रतिशत और भत्ते के रूप में 50 प्रतिशत का भुगतान करना होगा। जिन कर्मचारियों का मूल वेतन पहले से 50 प्रतिशत है, वे नए बिल से प्रभावित नहीं होंगे। वहीं, जिनकी बेसिक सैलरी 30 से 40 प्रतिशत है, उनकी होम सैलरी कम हो जाएगी।

ये भी पढ़े:- राशन कार्ड धारकों के लिए Mera Ration App लॉन्च, अब किसी भी राज्य में राशन लेना आसान

नया वेतन संरचना क्या है

मान लीजिए एक महीने के लिए एक कामकाजी व्यक्ति का सीटीसी 10000 रुपये है, तो उसके वेतन का ढांचा क्या होगा। आइए समझते हैं।

यदि हम नियम से देखें तो वेतन का मूल भाग कम से कम 50 प्रतिशत और शेष 50 प्रतिशत रखना आवश्यक होगा। इसके बाद पीएफ में मूल का 12 फीसदी यानी 600 रुपए कट जाएगा। अगर कंपनी पांच प्रतिशत ग्रेच्युटी की राशि काटती है, तो पांच हजार रुपये के पांच प्रतिशत यानी 250 रुपये की कटौती की जाएगी। अब बची हुई मूल राशि 4150 रुपये है। ऐसी स्थिति में 10 हजार रुपये के व्यक्ति का ये हाथ वेतन 5000 + 4150 = 9150 रुपये होगा।

पुराना वेतन ढांचा

पुराने वेतन ढांचे के अनुसार, मूल 30 प्रतिशत 3000 रुपये और शेष 70 प्रतिशत भत्ता के रूप में दिया जाता है। मूल यानी 12 रुपए का 12 फीसदी पीएफ के रूप में काटा जाता है। अगर कंपनी ग्रेच्युटी की राशि में पांच फीसदी की कटौती करती है, तो 150 रुपये इसमें जाएंगे। इस तरह, इस व्यक्ति का वेतन 510 रुपये कम हो गया और मूल राशि 2490 रुपये बच गई। इस मामले में, उसके हाथ का वेतन 7000 + 2490 = 9490 होगा।

ये भी देखे: अपने प्रियजनों को आसानी से ट्रैक करें, WhatsApp का कमाल का फीच

नए बिल में भी ये प्रावधान

नए विधेयक में एक दिन में काम करने के लिए अधिकतम घंटे 12 घंटे या सप्ताह में 48 घंटे बढ़ाने का प्रस्ताव है। ऐसी स्थिति में, कर्मचारी को सप्ताह में चार दिन काम करना होगा। ओवरटाइम का नियम भी बदल दिया गया है। यदि कोई कर्मचारी निर्धारित समय से 15 से 30 मिनट ओवरटाइम करता है, तो उसे पूर्ण 30 मिनट का ओवरटाइम माना जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *