MODI

MODI सरकार इन 6 कंपनियों को बंद करेगी, कभी बड़ा नाम और कारोबार किया था

MODI सरकार इन 6 कंपनियों को बंद करेगी, कभी बड़ा नाम और कारोबार किया था

केंद्र सरकार स्कूटर इंडिया सहित छह सरकारी कंपनियों को बंद करने पर विचार कर रही है। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि 20 केंद्रीय कंपनियों और उनकी इकाइयों में हिस्सेदारी बेचने की प्रक्रिया विभिन्न चरणों में है, जबकि छह कंपनियों को बंद करने पर विचार किया जा रहा है।

सरकार जिन कंपनियों को बंद करने पर विचार कर रही है, उनमें स्कूटर्स इंडिया, हिंदुस्तान फ्लोरोकार्बन लिमिटेड, भारत पंप्स एंड कंप्रेशर्स लिमिटेड, हिंदुस्तान प्रीफैब, हिंदुस्तान न्यूजप्रिंट और कर्नाटक एंटीबायोटिक एंड फार्मास्युटिकल लिमिटेड शामिल हैं।

ये भी देखे :-Jaya Bachchan पर कंगना का पलटवार – अभिषेक फांसी लगा लेते तब भी, क्या आप यही बोलती ?

लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में, ठाकुर ने कहा कि सरकार ने 2016 के बाद से 34 कंपनियों में रणनीतिक विनिवेश को मंजूरी दे दी है, जो विनिवेश के लिए एनआईटीआईयोग के मानदंडों पर आधारित है। इनमें से आठ में विनिवेश प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। छह और को बंद करने पर विचार चल रहा है, जबकि 20 में विनिवेश की प्रक्रिया विभिन्न चरणों में है।

ये भी देखें:-हाथ से लकड़ी का BICYCLE बनाने लगा विदेशों से आ रहे खरीददार

MODI
file photo PTI

इन कंपनियों में विनिवेश की प्रक्रिया जारी है

प्रोजेक्ट एंड डेवलपमेंट इंडिया लिमिटेड, इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट (इंडिया) लिमिटेड, ब्रिज एंड रूफ सीओ इंडिया लिमिटेड, सीमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड, फेरो स्क्रैप कॉर्पोरेशन लिमिटेड, एनडीएमसी के नगरनार स्टील प्लांट की प्रक्रिया है। चालू।

इसके अलावा, अलॉय स्टील प्लांट दुर्गापुर, सेलम स्टील प्लांट, सेल की भद्रावती यूनिट, पवन हंस, एयर इंडिया और इसकी पांच सहायक कंपनियों और एक संयुक्त उद्यम में रणनीतिक विनिवेश की प्रक्रिया भी चल रही है।

साथ ही, HLL लाइफ केयर लिमिटेड, इंडियन मेडिसिन एंड फार्मास्युटिकल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, भारतीय पर्यटन विकास निगम, हिंदुस्तान एंटीबायोटिक्स, बंगाल केमिकल एंड फार्मास्यूटिकल्स, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (नुमालीगढ़ रिफाइनरी को छोड़कर), शिपिंग कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया, कंटेनर कॉर्पोरेशन की विभिन्न इकाइयाँ भारत में, नील इस्पात निगम लिमिटेड में रणनीतिक विनिवेश भी होगा।

ये भी पढ़े :- चीन PM Modi, राष्ट्रपति और CJI सहित 10 हजार भारतीयों की जासूसी कर रहा

इन कंपनियों की बिक्री पूरी हो गई

ठाकुर के अनुसार, एचपीसीएल, आरईसी, हॉस्पिटल सर्विसेज कंसल्टेंसी, नेशनल प्रोजेक्ट कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन, ड्रेजिंग कॉर्पोरेशन, टीएचडीएस इंडिया लिमिटेड, नॉर्थ ईस्टर्न इलेक्ट्रिक पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड और कामराजार पोर्ट की रणनीतिक बिक्री पूरी हो चुकी है।

News Source: agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *