Marwar-Ratan Award मारवाड़-रतन अवार्ड विजेता बोले – ” राजस्थानी नै संवैधानिक मान्यता मिळै तो गंगा न्हावूं “

0
93
Marwar-Ratan Award
Photo by Reporter

Marwar-Ratan Award मारवाड़-रतन अवार्ड विजेता बोले –
” राजस्थानी नै संवैधानिक मान्यता मिळै तो गंगा न्हावूं “
मातृभाषा शब्द-साधना के लिए सुथार को मारवाड़-रतन अवार्ड


राजस्थानी रचनाकार भंवरलाल सुथार को प्रदेश का प्रतिष्ठित साहित्यिक अवार्ड ‘ पद्मश्री सीताराम लाळस Marwar-Ratan Award मारवाड़-रतन अवार्ड ‘ की घोषणा होने से राजस्थानी साहित्य जगत में खुशी री लहर छा गई । असल में साहित्य जगत में जब अचानक किसी ऐसे रचनाकार को कोई प्रतिष्ठित पुरस्कार की घोषणा हो जाये जो जीवनभर नि:स्वार्थ एवं समर्पित भाव से सतत साहित्य-साधना करते रहे मगर कभी भी पुरस्कार के लिए कोई प्रयास नहीं किया हो ।

मगर उस सृजनधर्मी रचनाकार के लिए अचानक किसी बड़े पुरस्कार की घोषणा हो जाये तो सच में सम्पूर्ण साहित्य जगत के लिए गर्व की बात होती है । ऐसे निष्पक्ष और ऐतिहासिक निर्णय समाज और साहित्य जगत में बहुत ही सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते है ।

ऐसा ही एक अनूठा उदाहरण इस बार मेहरानगढ म्यूजियम ट्रस्ट द्वारा Marwar-Ratan Award ‘ मारवाड़-रतन अवार्ड ‘ की घोषणा में देखा गया कि राजस्थानी भाषा-साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए निर्णायक मंडल द्वारा श्री भंवरलाल सुथार का चयन किया गया। इसके लिए श्री सुथार ने कभी सोचा ही नहीं कि उनकी साहित्य साधना के लिए उन्हें ‘ पद्मश्री सीताराम लाळस Marwar-Ratan Award मारवाड़-रतन अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा। असल में श्री भंवरलाल सुथार विगत चालीस वर्षो से लगातार संकल्पित होकर समर्पित भाव से राजस्थानी भाषा साहित्य की सेवा कर रहे है । मगर इन्होंने कभी भी इस बात का दिखावा नहीं किया।


श्री भंवरलाल सुथार का जन्म 4 जनवरी 1958 को राजस्थान के जालोर जिला अंतर्गत सेसावा गांव में हुआ था । राजस्थानी भाषा-साहित्य जगत में एक प्रतिष्ठित कवि, निबंधकार अर कोशकार के रूप में आपकी खास पहचान है । इन्होंने राजस्थानी के ख्यातनाम कोशकार पद्मश्री (डॉ.) सीताराम लाळस, ख्यातनाम कवि डॉ. नारायणसिंह भाटी एवं डॉ. महेन्द्रसिंह नगर के सान्निध्य में आप बहुत महत्वपूर्ण एवं उल्लेखनीय साहित्यिक कार्य किया । सरलता एवं सादगी के पर्याय भंवरलाल सुथार विपरित परिस्थितियों में जीवनभर अपनी मातृ भाषा की सेवा करते रहे मगर मुसीबतों को देख कर कभी भी हार नहीं मानी ।

अपने आत्मबल एवं सच्ची निष्ठा से हमेशा आगे बढते रहे । परिणाम स्वरूप आज राजस्थानी साहित्य जगत में अपनी उज्जवल पहचान बनाई । राजस्थानी साहित्य में निबंध संग्रह – ‘ चित मंडिया चितराम ’ काव्य संग्रह – ‘ कोराना-काळ ’ तथा ‘ कमठै आळी कांमणी ’ इनकी महत्वपूर्ण मौलिक प्रकाशित कृतियां हैं । इसी कड़ी में संपादन की दृष्टि से राजस्थानी – हिंदी – अंग्रेजी कोश, रसीलेराज, ममतामयी मूरत, एक साधक की साधना के सोपान तथा राजस्थानी- हिन्दी मुहावरा कोश जैसी महत्वपूर्ण पुस्तकों का सफलतापूर्वक संपादन किया । इनके महत्वपूर्ण एवं शोधपरक आलेख पिछले अनेक वर्षों से देश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे है ।

राजस्थानी संस्कृति की प्रतिमूरत श्री सुथार आज युवा पीढ़ी के लिए एक आदर्श तथा प्ररेणास्रोत व्यक्तित्व हैं जिनकी साहित्य-साधना एवं मायड़ भाषा रै प्रति समर्पण भाव पर सम्पूर्ण साहित्य जगत को बहुत गर्व है । अभी हाल ही मैं इनको राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी की साधारण सभा के सदस्य भी मनोनीत किया गया है ।

प्रदेश के इस प्रतिष्ठित Marwar-Ratan Award ‘ मारवाड़ रतन अवार्ड ‘ के अन्तर्गत ‘ पद्मश्री सीताराम लाळस Marwar-Ratan Award मारवाड़ रतन अवार्ड ‘ आगामी 12 मई को जोधपुर स्थापना दिवस पर एच.एच. महाराजा श्री गजसिंहजी द्वारा पच्चास हजार रुपए, प्रशस्ति-पत्र, श्रीफल एवं साहित्य भेंट कर यह अवार्ड प्रदान किया जायेगा ।

असल में भंवरलाल सुथार ने चालीस वर्ष पहले इस बात का संकल्प लिया कि वो जीवनभर अपनी मातृ भाषा-साहित्य की सेवा करेंगे जिसका पालन आज तक कर रहे है । राजस्थान-पत्रिका के इस साक्षात्कार के दरम्यान अपने दिल की बात व्यक्त करते हुए श्री भंवरलाल सुथार ने कहा कि – ‘ मन में अेक इज छैली इच्छा है कै म्हारै जीवता थकां म्हारी मायड़ भासा राजस्थानी नै संवैधानिक मान्यता रौ दरजौ मिळ जावै तो गंगा न्हावूं । म्हारौ जीवण सुफळ हुय जावै । ‘ वास्तव में अपनी माटी और लोक से जुड़े ऐसे अनूठे रचनाकारों की साहित्य-साधना पर समाज एव राष्ट्र को गर्व होना चाहिए ।

यह भी पढ़े:- PNB अपने लाखों ग्राहकों को सचेत किया! इस गलती को भूलकर भी न करें, बड़ा नुकसान होगा

यह भी पढ़े:- सिर्फ 3 लाख के बजट में यहां मिलेगी Hyundai i20, लोन के साथ गारंटी और वारंटी प्लान

यह भी पढ़े:- Bolero का नया अवतार देगा स्कॉर्पियो को कड़ी टक्कर, दमदार फीचर्स के साथ जल्द होने वाली है लॉन्च

यह भी पढ़े:- Mahindra Thar : पैनोरमिक सनरूफ के साथ भारत की पहली थार

यह भी पढ़िए | भारत में लॉन्च  Jeep Meridian SUV, मिलेंगे कई शानदार फीचर्स

यह भी पढ़े :- जबरदस्त अंदाज में होगी नई Mahindra Scorpio की एंट्री, इसी महीने लॉन्च होगी SUV

यह भी पढ़े:- 32 km/kg तक का शानदार माइलेज देती है ये शानदार CNG कारें, कीमत है 6 लाख रुपए से कम

यह भी पढ़े:- Maruti Alto 800 कार सिर्फ 50000 रुपये में घर ले जाये , जानिए कहां से और कैसे

यह भी पढ़े:- आसान ईएमआई के साथ 1.9 लाख रुपये में Maruti Swift खरीदें, 7 दिन की मनी बैक गारंटी

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़  के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप ShareChat पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Daily Hunt पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Koo पर फॉलो करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here