KVPY Fellowship

KVPY Fellowship – 12 वीं पास छात्रों के लिए केंद्र सरकार की इस योजना में हर महीने 5-7 हजार रुपये मिलेंगे

KVPY Fellowship – 12 वीं पास छात्रों के लिए केंद्र सरकार की इस योजना में हर महीने 5-7 हजार रुपये मिलेंगे

NEWS DESK :- इस योजना के तहत पंजीकरण करने वाले 12 वीं पास छात्रों को विज्ञान में करियर बनाने के लिए 5 से 7 हजार रुपये प्रति माह फैलोशिप (KVPY Fellowship) दिया जाएगा। छात्रों के उज्ज्वल भविष्य के लिए, केंद्र सरकार ने एक और योजना शुरू की है। 12 वीं पास छात्र जो इस योजना (KVPY Fellowship) के तहत पंजीकृत हैं, उन्हें विज्ञान में करियर बनाने के लिए प्रति माह 5 से 7 हजार रुपये की फेलोशिप दी जाएगी।

ये भी देखे :- 5000 रुपये महीने की Pension सिर्फ 210 रुपये जमा करने पर मिलेगी, जानिए कैसे आप अटल पेंशन योजना का लाभ उठा सकते हैं

केंद्र सरकार की यह योजना स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय स्तर पर विज्ञान से संबंधित छात्रों के लिए है। इस योजना के तहत, 11 वीं, 12 वीं कक्षा और स्नातक करने वाले छात्रों को फेलोशिप की पेशकश की जाती है। यही कारण है कि इस योजना (KVPY फैलोशिप) को Promotion किशोर वैज्ञानिक संवर्धन योजना ’नाम दिया गया है।

5-7 हजार रुपये मिलेंगे

इस फेलोशिप योजना में आवेदन करने वाले छात्रों को विज्ञान के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए वित्तीय सहायता दी जाएगी। ‘किशोर वैज्ञानिक संवर्धन योजना’ फैलोशिप (KVPY फैलोशिप) पिछले दो दशकों से छात्रों को विज्ञान में करियर बनाने में मदद कर रही है। इस योजना के तहत, छात्रों को प्रति माह 5 हजार रुपये और 7 हजार रुपये की दो अलग-अलग फैलोशिप दी जाती है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए, छात्रों को फेलोशिप के लिए आवेदन करना होगा।

ये भी देखे :- अब Digital Payment में कोई दिक्कत नहीं होगी! बैंकों ने मिलकर यह बड़ा फैसला लिया

इस तरह केवीपीवाई फेलोशिप में आवेदन करना है

इस योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट kvpy.iisc.ernet.in पर जाना होगा। यहां होम पेज पर एप्लिकेशन के सेक्शन में जाकर। K. Vp y ‘2020 परीक्षा के लिए आवेदन’ के लिंक पर क्लिक करें। अब आपको ‘पंजीकरण और आवेदन लॉगिन के लिए यहां क्लिक करें’ पर क्लिक करके आवेदन करना होगा।

ये भी देखे :- इस तरह, नवजात शिशु का  Aadhaar Card बनाएं, जानें कि किन दस्तावेजों की जरूरत होगी

टेस्ट दो चरणों में आयोजित किया जाएगा

यह योजना 1999 में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा शुरू की गई थी। परियोजना का मुख्य उद्देश्य देश भर में विज्ञान के क्षेत्र में छिपी प्रतिभा का पता लगाना है, ताकि देश का भविष्य, छात्रों का भविष्य सुधरे। राष्ट्रीय स्तर पर छात्रों के चयन के लिए इस योजना के तहत एक उच्च स्तरीय प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाएगी। यह परीक्षण दो चरणों में आयोजित किया जाता है। पहला ऑनलाइन एप्टीट्यूड टेस्ट है। चयनित होने के बाद, साक्षात्कार होता है।

ये भी देखे :- अगर आपके घर में Car है, तो यह खबर जरूर पढ़ लें, 1 अप्रैल से 80 हजार से ज्यादा वाहन डंप होंगे 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *