Kangana

Kangana के बयानों को बताया व्यर्थ-संयम से बात चित करनी चाहिए थी

आवाज़ इंडिया न्यूज़ ।Kangana रनौत दफ्तर तोड़फोड़ मामले में शुक्रवार को बॉम्बे हाई कोर्ट का फैसला आ गया है, फैसलें में कि तोड़फोड़ में हुए नुकसान का मूल्यांकन होने के बाद BMC से हर्जाने की राशि कंगना को देने की बात कही है, हलाकि अभी तक फैसला कंगना के पक्ष में है,

लेकिन कोर्ट ने कंगना के बयानों को भी गैरजिम्मेदाराना बताया है कोर्ट ने कहा, “हम यह स्पष्ट करते हैं कि हम कंगना द्वारा दिए गए बयानों को स्वीकार नहीं करते हैं, उसे संयम बरतना चाहिए था, लेकिन मुख्य मुद्दा दफ्तर में हुई तोड़फोड़ है न कि उसका ट्वीट।

ये भी देखे: Google आपके एंड्रॉइड स्मार्टफोन की हर हरकत पर नज़र रखता है, जानिए इसे कैसे ब्लॉक किया जाए, ये है स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस

“हालांकि कंगना इस बीच कोर्ट से अपने पक्ष में मिले फैसले के बाद अपनी पीठ थपथपाती नजर आईं उन्होंने कोर्ट के फैसले वाली खबर को ट्वीट करते हुए खुद का गुणगान करती नज़र आई है अपने आप को हीरो बताया है।

ये भी देखे :- भारत इस मामले में चीन को हरा सकता है, Maruti के चेयरमैन ने बताई योजना

ये भी देखे :- 1 जनवरी 2021 से, आपका Mobile Number 10 के बजाय 11 अंकों का होगा, ऐसा है नया नियम

 भी देखे :- सांसदों के लिए नए फ्लैटों का उद्घाटन करेंगे PM Modi, मिलेगी ये शानदार सुविधाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *