Indian Railways

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने बढ़ाया किराया: ट्रेन के यात्रियों को बड़ा झटका, जानिए कितना पड़ेगा जेब पर असर

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने बढ़ाया किराया: ट्रेन के यात्रियों को बड़ा झटका, जानिए कितना पड़ेगा जेब पर असर

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने यात्री ट्रेनों के किराए में वृद्धि की है। बढ़ी हुई बढ़त की जानकारी देने के साथ ही रेलवे ने कहा कि पहले से ही यात्री को हर यात्रा में बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है। टिकटों पर बड़ी रकम जाती है।

भारतीय रेलवे ने यात्री ट्रेनों के किराए में वृद्धि की है। रेलवे की ओर से जारी बयान के अनुसार, छोटी दूरी की ट्रेनों का किराया बढ़ा दिया गया है। रेलवे का किराया बढ़ाने के पीछे तर्क यह है कि कोरोनोवायरस के खतरे को ध्यान में रखते हुए धरने को बढ़ाया गया है ताकि अधिक लोग ट्रेनों में न चढ़ें। रेलवे द्वारा बढ़े किराये का असर 30-40 किमी तक यात्रा करने वाले यात्रियों पर पड़ेगा।

रेलवे (Indian Railways) ने बताया कि बढ़े हुए किराए से केवल 3 प्रतिशत ट्रेनें प्रभावित होंगी। भारतीय रेलवे ने कहा, द्विभाजन का प्रकोप अभी भी मौजूद है और वास्तव में कुछ राज्यों में स्थिति बिगड़ रही है। इसलिए बढ़ी हुई बढ़त को रेलवे की सक्रियता के रूप में देखा जाना चाहिए ताकि ट्रेनों में भीड़भाड़ को रोका जा सके और विभाजन को फैलने से रोका जा सके। रेलवे के अनुसार, ‘पहले से ही यात्री को हर यात्रा में बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है। टिकट की जोरदार सिफारिश की जाती है। ‘

ये भी देखे:- अब ‘आयुष्मान कार्ड’ (Ayushman cards) होगा मुफ्त, कहां और कैसे पाएं 5 लाख का बीमा

कैसे होगा किराया

रेलवे के अनुसार, बढ़ी हुई कीमतें एक ही दूरी के लिए चलने वाली मेल / एक्सप्रेस ट्रेनों के किराए के आधार पर तय की गई हैं। यानी अब यात्रियों को छोटी यात्रा के लिए भी मेल / एक्सप्रेस के बराबर किराया देना होगा। ऐसी स्थिति में 30 से 40 किलोमीटर की यात्रा करने वाले जासूसों को अब अधिक किराया देना होगा। बता दें कि कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए भारतीय रेलवे को 22 मार्च 2020 को ट्रेनों का परिचालन रोकना पड़ा था।

भारतीय रेलवे (Indian Railways) लगातार चरणों में यात्री ट्रेनों की संख्या बढ़ा रही है। विभाजन के चुनौतीपूर्ण समय के दौरान, भारतीय रेलवे ने लगभग 65 प्रतिशत मेल / एक्सप्रेस ट्रेनों और 90 प्रतिशत से अधिक उपनगरीय सेवाओं का संचालन किया, जो कि लॉकडाउन से पहले की तुलना में अधिक थी।

ये भी देखे:- आम आदमी को बड़ा झटका, आज फिर बढ़े गैस सिलेंडर (Gas Cylinder) के दाम, 3 महीने में 200 रुपए तक, जानिए नई दरें

वर्तमान में कुल 1250 मेल / एक्सप्रेस, 5350 उपनगरीय ट्रेन सेवाएं और 326 से अधिक यात्री ट्रेनें प्रतिदिन चल रही हैं और कम दूरी की यात्री रेलगाड़ियों की संख्या कुल ट्रेनों के 3 प्रतिशत से बहुत कम है। रेलवे द्विभाजन की चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के समय में ट्रेनें चला रहा है। लोगों के लाभ के लिए कम यात्रियों के बावजूद कई ट्रेनें चलाई जा रही हैं।

ट्रेनों और ट्रेनों में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए, विभाजन से पहले के समय की तुलना में यात्री ट्रेनों का किराया थोड़ा बढ़ाया गया है और इसके संरक्षण पर कड़ी नजर रखी जा रही है।

ये भी देखे :- जहां से आप Gmail भेज रहे हैं, वहां आईपी एड्रेस से लेकर लोकेशन तक जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *