Ujjwala-yojana

उज्ज्वला योजना (Ujjwala scheme) के सिलिंडर तक पहुंच रहे होटल, हो रहा है व्यावसायिक उपयोग

उज्ज्वला योजना (Ujjwala scheme) के सिलिंडर तक पहुंच रहे होटल, हो रहा है व्यावसायिक उपयोग 

सरकार ने एक तरफ उज्ज्वला योजना के तहत बीपीएल धारकों को धुएं से निजात दिलाने के लिए मुफ्त गैस चूल्हा और सिलेंडर दिया है। पहली बार मुझे एजेंसी की ओर से मुफ्त गैस से भरा सिलेंडर मिला। इसके बाद से बीपीएल धारक गैस भरने के लिए नहीं पहुंच रहे हैं। दरअसल, गैस के बढ़े दाम लोगों को एलपीजी से दूर कर रहे हैं। लोग फिर से लकड़ी और उपला की ओर लौटने लगे हैं।

ये भी देखे :- 21 जून से सभी वयस्कों के लिए मुफ्त कोविड -19 वैक्सीन (Vaccine) : आप सभी को पता होना चाहिए

इस समय जिले में गैस का रिफिलिंग चार्ज 910 रुपये है। ऐसे में लोगों को गैस भरने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जबकि सब्सिडी के नाम पर खाते में करीब 70 रुपये ही आ रहे हैं. इससे लोग उज्ज्वला योजना के तहत मिलने वाले गैस सिलेंडर को नहीं उठा रहे हैं। इसका फायदा होटल व्यवसायी उठा रहे हैं। वह खुद बीपीएल कार्डधारकों के नाम से गैस सिलेंडर उठा रहा है और अंधाधुंध व्यावसायिक इस्तेमाल कर रहा है। जबकि सरकार ने व्यावसायिक उपयोग के लिए 19 किलो का गैस सिलेंडर निर्धारित किया है। लेकिन कमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमत ज्यादा होने और सब्सिडी नहीं मिलने के कारण वे उज्ज्वला योजना के तहत उपलब्ध गैस सिलेंडर ले रहे हैं।

छोटे बाजारों में भी दुर्व्यवहार

ऐसे में घरेलू उपयोग एलपीजी का अंधाधुंध दुरूपयोग हो रहा है। जिला मुख्यालय से लेकर छोटे बाजारों तक, बड़े होटलों से लेकर चाय-नाश्ते की दुकानों तक घरेलू रसोई गैस का अंधाधुंध इस्तेमाल हो रहा है. जांच के अभाव में होटल व चाय-नाश्ते की दुकानें बेधड़क घरेलू गैस का प्रयोग कर रही हैं। सरकारी व्यवस्था के तहत घरेलू उपयोग के लिए 5 किलो और 14.2 किलो का गैस सिलेंडर है। जबकि 19 किलो का गैस सिलेंडर व्यावसायिक उपयोग के लिए है। जिस पर शासन स्तर से किसी प्रकार की कोई सब्सिडी नहीं है। इसलिए व्यवसायिक सिलेंडर की जगह होटल व्यवसायी और चाय-नाश्ते की दुकानें घरेलू सिलेंडर का अवैध रूप से उपयोग कर रही हैं। थोड़े और पैसे देने पर होटल व्यवसायियों और चाय-नाश्ते की दुकान पर घरेलू गैस आसानी से उपलब्ध हो जाती है।

ये भी  देखे : https://ainrajasthan.com/central-government-is-giving-2-lakh-rupees-sitting-at-home-this-work-will-have-to-be-done-before-june-30/

महंगे सिलेंडर नहीं खरीद पा रहे लाभार्थी

एजेंसी मालिकों का कहना है कि जिले में उज्ज्वला के 20-30 फीसदी हितग्राही ही गैस रिफिल करवा रहे हैं। यह घोटाला उज्ज्वला योजना के तहत गरीबों को दिए गए कनेक्शन के कारण चल रहा है। उज्ज्वला योजना के अधिकांश लाभार्थी एजेंसी से गैस नहीं लेते हैं। होटल और चाय के नाश्ते की दुकानों को उनके कार्ड पर कुछ रुपये के लेनदेन के साथ गैस सिलेंडर प्रदान किए जाते हैं। कुछ होटल और चाय-नाश्ते की दुकानें दिखावा करने और घरेलू गैस सिलेंडर से कारोबार करने के लिए 19 किलो का सिलेंडर दुकान के सामने रख देती हैं।’

ये भी  देखे : https://ainrajasthan.com/cbse-evaluation-2021-how-will-the-marksheet-be-made-12th-marking-criteria-will-come-soon/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *