Google doodle:

Google doodle: ग्रेट गामा पहलवान का जन्मदिन मनाया गूगल डूडल ने

audio
Voiced by Amazon Polly

Google doodle:

ग्रेट गामा पहलवान का जन्मदिन मनाया गूगल डूडल ने

आइए जानते हैं गामा पहलवान कौन है और गूगल ने इनका जन्मदिन क्यों मनाया आवाज इंडिया के साथ

पहलवान वह शख्स है जिसने 50 वर्षों में एक भी मुकाबला नहीं हरा यह भारत के महानतम पहलवानों में से एक है गुलाम मोहम्मद बख्श बट की 144 में जयंती श्रद्धांजलि थी इन्हें ही गामा पहलवान दी ग्रेट गामा के नाम से जाना जाता है

यह भी पढ़े :- 2022 Mahindra Scorpio में मिलेगा XUV700 इंजन! जल्द ही पूरी तरह से नए अंदाज में लॉन्च किया जाएगा

आज गूगल ने कल आत्मा दी ग्रेट गामा पहलवान का जन्म 22 मई 1978 को पंजाब प्रांत के अमृतसर जिले में डूडल के जरिए 144 वां जन्मदिन मनाया डूडल ने उन्हें एक हाथ में गदा लिए हुए खड़े बताया है
गामा पहलवान का जन्म 22 मई 1978 को पंजाब के अमृतसर जिले के जब्बोंवाल गांव में हुआ था गामा जब 10 साल के तब एक प्रोफेशनल पहलवान की तरह 500 पुशअप और 500 दंड बैठक हर दिन किया करते थे 400 पहलवानों से टूर्नामेंट जीत लिया था वहीं से उनकी सफलता का परचम लहराया दी ग्रेट गामा पहलवान की लंबाई भी ज्यादा नहीं थी 5 फुट 7 इंच केवल वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप के बाद गांवों को टाइगर का दर्जा दिया गया है गामा एक ऐसे पहलवान थे जिन्हें प्रिंस ऑफ वेल्स मैं महान पहलवान के रूप में चांदी का गद्दा सम्मानित किया था गामा पहलवान की गिनती ऐसे पहलवानों में हैं जिन्होंने आज तक हार का मुंह नहीं देखा कैरियर में उन्होंने बड़े से बड़े खिताब हासिल किए हैं जिसमें 1910 में वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियनशिप का भारतीय संस्करण और 27 में वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप भी शामिल है गुलाम मोहम्मद के नाम के साथ उनको दी ग्रेट गामा का नाम अपने सभी अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में विजय होने पर मिला था

यह भी पढ़िए | भारत में लॉन्च  Jeep Meridian SUV, मिलेंगे कई शानदार फीचर्स

भारत में उनका कोई भी प्रतिस्पर्धा करने वाला पहलवान नहीं था जो भी पहलवान उनके खिलाफ प्रतिस्पर्धा में मैं भाग लेता वह या तो मैदान छोड़ देता या हार मान लेता गामा पहलवान ने 1902 में करीबन 12 किलो ग्राम के करीब का एक पत्थर उठाया जब उनकी करीब 20 साल की थी आज भी वह पत्थर बड़ौदा संग्रहालय में रखा हुआ है यह प्रदर्शित करता है कि उनके जैसा पहलवान कोई नहीं है उस पत्थर को मैं में रखने के लिए 25 से 30 लोगों की वह मशीनों की आवश्यकता पड़ी थी

गामा पहलवान के आहार में करीबन 10 लीटर दूध 6 से 7 मुर्गियां व अनगिनत मेवा बदाम आदि जो उसके आहार में प्रतिदिन काम आते थे

यह भी पढ़े:- 32 km/kg तक का शानदार माइलेज देती है ये शानदार CNG कारें, कीमत है 6 लाख रुपए से कम

यह भी पढ़े:- Maruti Alto 800 कार सिर्फ 50000 रुपये में घर ले जाये , जानिए कहां से और कैसे

यह भी पढ़े:- आसान ईएमआई के साथ 1.9 लाख रुपये में Maruti Swift खरीदें, 7 दिन की मनी बैक गारंटी

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़  के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप ShareChat पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Daily Hunt पर फॉलो करें
आवाज़ इंडिया न्यूज़ के समाचार ग्रुप Koo पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.