Big News

Tikri Border (टिकरी बॉर्डर) पर किसान ने फांसी लगाईं , सुसाइड नोट पर लिखा- तारीख पर तारीख दे रही सरकार

Tikri Border (टिकरी बॉर्डर) पर किसान ने फांसी लगाईं , सुसाइड नोट पर लिखा- तारीख पर तारीख दे रही सरकार

न्यूज़ डेस्क:- हरियाणा के बहादुरगढ़ में तीन कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार से नाराज एक किसान ने फांसी लगा ली। किसान ने सेक्टर -9 बाईपास के पार्क में पेड़ से लटककर खुदकुशी कर ली। किसान की पहचान जींद में सिंघवाल गांव के कर्मबीर के रूप में की गई थी। मृतक कर्मबीर के पास से एक सुसाइड नोट मिला है।

सुसाइड नोट पर लिखा है कि सरकार तारीख पर तारीख दे रही है। न जाने ये काले कानून कब निरस्त हो जाएंगे। जब तक काले कानून रद्द नहीं होंगे, हम यहां से नहीं जाएंगे। उधर, पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए सिविल अस्पताल भेज दिया है। परिजनों के आने के बाद उनके बयान दर्ज किए जाएंगे।

ये भी देखे:- इस योजना में LPG कनेक्शन मुफ्त में उपलब्ध होगा और 1600 रुपये में, जानिए कि आप कैसे लाभ उठा सकते हैं

दो और किसानों की मौत

टिक्की सीमा पर ही दो और किसानों की मौत की सूचना है। एक किसान पंजाब के संगरूर का था और दूसरा मोगा जिले का। हालांकि मौत के कारण की अभी पुष्टि नहीं हुई है। अनुमान लगाया जा रहा है कि दोनों की मौत हार्ट अटैक के कारण हुई है। मरने वालों में एक 60 का और दूसरा 70 का था।

मानसा और जींद के किसानों ने अपनी जान गंवाई

पंजाब के एक किसान की नए गाँव के चौक के पास बस की चपेट में आने से मौत हो गई, जबकि जींद जिले के एक किसान को दिल का दौरा पड़ने की आशंका थी। पुलिस ने दोनों के शव उनके परिजनों को सौंप दिए हैं।

पंजाब के मानसा जिले के ग्राम बाघरा के रहने वाले किसान बबली सिंह सीमा पर आंदोलन में शामिल थे। वह बहादुरगढ़ बाईपास पर नयागांव चौक के पास किसानों के जत्थे में रह रहे थे। 2 फरवरी को वह आंदोलन में भाग लेने के लिए बहादुरगढ़ आए।

ये भी देखे:- REET Exam के लेवल फर्स्ट में B.Ed धारकों को शामिल करने के निर्देश

शुक्रवार दोपहर को बबली अपने साथी किसान मेजर सिंह के साथ लंगर लेने जा रही थी। जब वे नयागांव चौक के पास सड़क पार कर रहे थे, तो वे बादली से आ रही बस में फंस गए। घटना में वह गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे इलाज के लिए बहादुरगढ़ के सिविल अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

जींद के गांव मोहनगढ़ के किसान रणधीर सिंह की अचानक तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। बताया गया है कि रणधीर सिंह तीन सप्ताह तक टिकी सीमा पर लगभग हर दिन किसानों की बैठक में भाग लेते थे। रणधीर सिंह की मौत का सही कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है। दिल का दौरा पड़ने की भविष्यवाणी की।

ये भी देखे:- फोटो को PAN Card में इस तरह बदला जा सकता है, अपनाएं ये प्रोसेस..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *