Monday, April 15, 2024
a

Homeहटके ख़बरेOK हर कोई बोलता है, लेकिन क्या आप इसका फुल फॉर्म जानते...

OK हर कोई बोलता है, लेकिन क्या आप इसका फुल फॉर्म जानते हैं? जानिए ये रोचक तथ्य

OK हर कोई बोलता है, लेकिन क्या आप इसका फुल फॉर्म जानते हैं? जानिए ये रोचक तथ्य

अंग्रेजी भाषा में OK सबसे आम शब्दों में से एक है। इसे स्वीकृति, समझौते, अनुमोदन जैसी कई चीजों में उपयोग किया जाता है। कहा जाता है कि यह शब्द 182 साल पहले शुरू हुआ था, लेकिन इसकी उत्पत्ति को लेकर हमेशा विवाद रहा है।

अक्सर लोग OK कहकर किसी बात का जवाब देते हैं। चाहे आपके दोस्त हों, ऑफिस में आपका बॉस या कोई और, दो अक्षरों का यह शब्द सबसे ज्यादा हम किसी के साथ बातचीत के दौरान इस्तेमाल करते हैं। चाहे हम सहमत हों या किसी से असहमत। जब आपको अच्छा बोलना है या किसी बात पर सहमत होना है, तो आप ठीक कहते हैं। ये दो अक्षर एक पूर्ण वाक्य की तरह काम करते हैं और एक आम बोलचाल की भाषा बन गए हैं, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि हम में से अधिकांश को पता नहीं है कि ओके का पूर्ण रूप क्या है। आज हम आपको बताएंगे कि आखिर ओके का मतलब क्या है।

OK 182 साल पहले शुरू किया गया था

अंग्रेजी भाषा में OK सबसे आम शब्दों में से एक है। इसे स्वीकृति, समझौते, अनुमोदन जैसी कई चीजों में उपयोग किया जाता है। ओके का अर्थ है ‘ओला कल्ला’। यह एक ग्रीक शब्द है, जिसका अर्थ है ‘Olla Kalla’। OK शब्द का जन्म 182 साल पहले हुआ था। इसकी शुरुआत अमेरिकी पत्रकार चार्ल्स गॉर्डन ग्रीन (Charles Gordon Greene) के कार्यालय से हुई। वर्ष 1839 में, लेखक ने जानबूझकर शब्दों को बदल दिया और चंचल सार का उपयोग किया।

जैसे आज हम LOLZ, OMG, या NBD बोलते हैं। ओके का पहली बार “Oll Korrect” के अपघटन के रूप में उपयोग किया गया था। यह व्याकरण पर एक व्यंग्य लेख था और इसे वर्ष 1839 में बोस्टन मॉर्निंग पोस्ट में चित्रित किया गया था। इस प्रवृत्ति ने बाद में ओडब्ल्यू जैसे शब्दों का भी इस्तेमाल किया। इसका मतलब “oll wright” या all right भी था।

ये भी देखे:- Gmail के बारे में Google के नए नियम, जो नहीं मानते हैं तो  खाता बंद हो जाएगा, सच्चाई जानें

अमेरिकी चुनाव की कहानी

इसके बाद OK को चुनावी नारे के रूप में इस्तेमाल किया गया। वर्ष 1840 में, जब अमेरिकी राष्ट्रपति मार्टिन Van Buren के री- इलेक्‍शन कैम्‍पेन में ओके शब्द का इस्तेमाल किया गया, तो यह पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया। दरअसल, न्यूयॉर्क के किंडरहुक में पैदा हुए Van Buren का उपनाम “Old Kinderhook” था। उनके समर्थकों ने चुनाव अभियानों के दौरान रैलियों में “ओके” का इस्तेमाल किया और पूरे देश में “ओके क्लब” बनाए। उसके बाद ओके एक डबल मीनिंग शब्द बन गया गया। पुराना किंडरहुक भी और All Correct भी।

OK से जुड़े कुछ और तथ्य

Huffpost की एक रिपोर्ट के अनुसार, पहले कहा गया था कि OK चॉक्टाव (Choctaw) शब्द से आया है, जो एक अमेरिकी मूल भारतीय जनजाति है। यह भी दावा किया गया है कि यह अफ्रीका की वोलोफ भाषा से लिया गया है। OK के बारे में कई अलग-अलग तर्क हैं। इसकी उत्पत्ति को लेकर हमेशा से विवाद रहा है। इस रिपोर्ट में Smithsonian मैगजीन के एक लेख का उल्लेख किया गया है जिसमें OK के बारे में जानकारी दी गई है।

ये भी देखे:- PM Kisan: इन किसानों को इस योजना का लाभ नहीं मिलता है, जानिए क्या हैं इससे जुड़े नियम

स्मिथसोनियन (Smithsonian) पत्रिका के लेख के अनुसार, OK  शब्द की उत्पत्ति 19 वीं शताब्दी की शुरुआत में हुई थी। एक रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ओके शब्द का इस्तेमाल ‘“Oll Korrect” के लिए किया गया था, लेकिन इस शब्द को बदलकर “Oll Korrect” कर दिया गया। जिसके बाद यह शब्द AC की जगह ओके हो गया। तदनुसार, ओके का अर्थ है ‘All Correct’, जिसे बदलकर “Oll Korrect” कर दिया गया है। यह भी कहा जाता है कि सही शब्द Okay है और लोग OK का गलत इस्तेमाल करते हैं।

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments