Diesel Car

Diesel Car: 10 साल पुरानी डीजल कारों में इलेक्ट्रिक किट लगाना कितना आसान, यहां पढ़ें पूरी जानकारी

Diesel Car: 10 साल पुरानी डीजल कारों में इलेक्ट्रिक किट लगाना कितना आसान, यहां पढ़ें पूरी जानकारी

डीजल कार को इलेक्ट्रिक में बदलें दिल्ली सरकार ने 10 साल पुरानी डीजल कारों (Diesel Car) में इलेक्ट्रिक किट लगाने की इजाजत दे दी है। लेकिन सवाल यह है कि ऐसी किट की कीमत क्या है और इसे लगाना आसान है या मुश्किल।

Convert Diesel Car to Electric: दिल्ली सरकार के 10 साल पुरानी डीजल कारों में इलेक्ट्रिक किट लगाने के फैसले से इनके मालिकों को काफी राहत मिली है. लेकिन सवाल यह है कि ऐसी किट की कीमत क्या है और इसे लगाना आसान है या मुश्किल। फिलहाल इलेक्ट्रिक किट लगाने का काम परिवहन विभाग द्वारा इन किट निर्माताओं को पैनल में शामिल करने के बाद ही शुरू होगा। वहीं इस तरह की किट को अलग-अलग कारों से लगाने और प्रमाणित करने की प्रक्रिया काफी लंबी होती है। लेकिन क्या यह सब कार मालिक के लिए कुछ मायने रखता है? इलेक्ट्रिक कार के रूप में तब्दील की गई ऐसी कार की जांच करते समय हम पता लगाएंगे कि पूरी प्रक्रिया कैसी है।

यह भी पढ़े:- मात्र 64 रुपये में 280km चलेगी यह Motorcycle, जानिए क्या है खासियत

किट बदलने में ज्यादा दिक्कत नहीं है

पुणे की नॉर्थवे मोटरस्पोर्ट ऐसी कारों में electric kits लगाने का काम करती है। यह कंपनी डिजायर जैसी लोकप्रिय कारों के लिए किट मुहैया कराती है। कंपनी ने कहा कि डीजल कार में इलेक्ट्रिक किट लगाना कोई जटिल काम नहीं है। यह काफी आसान है। हम इंजन को हटाते हैं और इलेक्ट्रिक किट स्थापित करते हैं। इस दौरान कार में कुछ जरूरी कंपोनेंट लगे रहते हैं। इसके अलावा कार के विभिन्न हिस्सों जैसे इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर या गियरबॉक्स पर इस प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं किया गया है। हालांकि, ऐसी रूपांतरित कारों की सीमा के संबंध में एक प्रश्न हो सकता है।

5 लाख रुपये तक का खर्च आ सकता है

अब यह ऐसी कारों की रेंज और किट लगाने की लागत के बारे में है। कंपनी का कहना है कि कनवर्ट की गई कारों में आपको 200 से 250 किमी की रेंज मिल सकती है। यह रेंज TATA Tigor के बराबर है। दूसरी ओर, जब हमने किट को लगाने की लागत की जांच की, तो कंपनी ने कहा कि इस तरह की किट को स्थापित करने में आमतौर पर 5 लाख रुपये तक का खर्च आता है। ऐसे में कार मालिक को यह तय करना होगा कि वह इस रकम को पुरानी कार की मरम्मत में लगाना चाहेगा या फिर पुरानी कार को बेचकर नई कार खरीदना चाहेगा।

सर्विस और चार्जिंग सबसे बड़ी समस्या

इसके अलावा ऐसी कारों को लेकर एक और अहम सवाल उठता है। सवाल यह है कि इलेक्ट्रिक किट लगने के बाद ऐसी कारों का चार्जिंग नेटवर्क और सर्विसिंग कहां होगी। इन सवालों के जवाब भविष्य में नियम स्पष्ट होने के बाद ही मिलेंगे। ऐसे में आप भी हमारे साथ रहें। जल्द ही हम आपको इससे जुड़ी और जानकारी देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *