Dhanteras 2020

Dhanteras 2020 :अगर आप धनतेरस पर सोना और चांदी नहीं खरीद सकते हैं, तो लायें ये पांच चीजे, मां लक्ष्मी अपार संपत्ति से भर देंगी घर

Dhanteras 2020 : अगर आप धनतेरस पर सोना और चांदी नहीं खरीद सकते हैं, तो लायें ये पांच चीजे, मां लक्ष्मी अपार संपत्ति से भर देंगी घर

धनतेरस पर्व 2020: हर साल कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी पर धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है। इस दिन धनवंतरी जयंती भी मनाई जाती है। धनवंतरी जयंती यानी धनतेरस पर धातु की वस्तुएं खरीदने की प्रथा है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन सोने और चांदी की चीजें खरीदने से घर में धन और संपत्ति और सुख-समृद्धि बढ़ती है।

लेकिन अगर आपके पास सोने और चांदी जैसी महंगी चीजें खरीदने की क्षमता नहीं है, तो घबराएं नहीं। आज आपको उन वस्तुओं के बारे में बताया जा रहा है, जिनका खरीदारी में उतना ही लाभ है, जितना सोना और चांदी खरीदना। ये बातें इस प्रकार हैं।

ये भी देखे :- Baba Ka Dhaba : बाबा के खाते में 40 लाख से अधिक, कई अमीर होने की कहानी में आए कई मोड़

पीतल: धनतेरस के दिन पीतल की वस्तु खरीदने से उतना ही लाभ मिलता है जितना कि सोना और चांदी। पीतल धातु को सोने और चांदी के बाद सबसे शुभ माना जाता है। धनतेरस पर पीपल की वस्तुएं खरीदकर भी आप देवी लक्ष्मी को प्रसन्न कर सकते हैं।

धनिया: धनतेरस पर धनिया खरीदना भी बहुत शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि धनिया धन में वृद्धि करता है। धनतेरस के दिन धनिया लाया जाता है और माँ लक्ष्मी को अर्पित किया जाता है और पूजा की जाती है। इसके कुछ दानों को गमले में बोएं। यदि धनिया के पौधे उगते हैं, तो पूरे वर्ष घर की सुख-समृद्धि बढ़ती है।

झाड़ू: झाड़ू को देवी लक्ष्मी का रूप माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि धनतेरस पर झाड़ू लाने से मां लक्ष्मी घर में प्रवेश करती हैं। कहा जाता है कि धनतेरस पर झाड़ू लाना मां लक्ष्मी को घर लाने के समान है। घर की गंदगी को झाड़ू से साफ किया जाता है, यानी इससे घर की सारी नकारात्मकता दूर होती है। इसका महत्व सोने और चांदी की तरह है।

अक्षत : धनतेरस के दिन घर में चावल या चावल लाना चाहिए। शास्त्रों में कहा गया है कि धान / चावल को अनाज के बीच सबसे शुभ माना जाता है। अक्षत का अर्थ है धन में अनंत वृद्धि। शास्त्रों में बताया गया है कि धनतेरस पर धान या चावल खरीदने से धन, वैभव और ऐश्वर्य में अनंत वृद्धि होती है। धान या चावल लाना सोने को खरीदने के समान है।

जौ: जैसा कि किंवदंती में कहा गया है। वह जौ कनक के समान है। धनतेरस पर जौ खरीदना सोना खरीदने के समान ही परिणाम देता है। धनतेरस के दिन चावल खरीदना और लाना सबसे शुभ माना जाता है।

ये भी देखे :- आदिवासी समाज की अनूठी परंपरा: मृत्यु के बाद, मठ पर स्कूटर, जीप कलश, बैलगाड़ी जैसी मूर्तियां बनाई जाती हैं क्योंकि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *