Friday, February 23, 2024
a

HomeUncategorizedअसिस्टेंट प्रोफेसर के लिए PhD की अनिवार्यता खत्म, कोरोना से सिर्फ इसी...

असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए PhD की अनिवार्यता खत्म, कोरोना से सिर्फ इसी साल मिली राहत

असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए PhD की अनिवार्यता खत्म, कोरोना से सिर्फ इसी साल मिली राहत

सरकार ने केंद्रीय विश्वविद्यालयों में सहायक प्रोफेसर के पद पर नियुक्ति के लिए पीएचडी की अनिवार्यता समाप्त कर दी है। इस फैसले का फायदा यह होगा कि अब बिना PhD डिग्री वाले छात्र भी इस पद के लिए आवेदन कर सकेंगे।

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में सहायक प्रोफेसर के पद पर नियुक्ति के लिए पीएचडी की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई है। यानी अब बिना PhD डिग्री वाले छात्र भी इस पद के लिए आवेदन कर सकेंगे। यह राहत ऐसे समय में दी गई है जब विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। हालांकि यह राहत सिर्फ इसी सत्र के लिए दी गई है। असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए नेट (नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट) के साथ-साथ पीएचडी भी जरूरी है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत में यह जानकारी दी. साथ ही बताया कि कोरोना संकट के चलते छात्रों ने इसमें उनसे राहत की मांग की थी. उन्होंने कहा कि दो साल से चल रहे कोरोना संकट के चलते उनकी PhD पूरी नहीं हो पाई है. उन्होंने कहा कि छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है. उन्हें यह राहत सिर्फ इसी सत्र के लिए दी गई है।

यह भी पढ़े:-  EV Charger: लॉन्च हुआ दुनिया का सबसे तेज इलेक्ट्रिक कार चार्जर, तीन मिनट में मिलेगी 100 किमी की रेंज

प्रधान ने बताया कि केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों को भरने की प्रक्रिया तेज गति से चल रही है. अधिकांश विश्वविद्यालयों में रिक्त पदों को भरने के लिए रिक्त पदों को हटा दिया गया है। बाकी यूनिवर्सिटी भी जल्द ही इसकी तैयारी कर रही है। वह शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने की पूरी प्रक्रिया पर नजर रखे हुए है. इस बारे में अधिकारियों से लगातार अपडेट मिल रहे हैं। वर्तमान में देश भर के केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के करीब 6,300 पद खाली हैं।

हाल ही में शिक्षा एवं कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया था कि देश के युवाओं के कौशल विकास में पैसा कमाना भी एक नया मंत्र होगा. इसके लिए इसी सत्र से देश के 5000 शैक्षणिक और प्रशिक्षण संस्थानों में पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया जाएगा। केंद्रीय मंत्री ने बताया था कि सरकार ने देशभर के शैक्षणिक संस्थानों में कौशल विकास का पायलट प्रोजेक्ट शुरू करने का फैसला किया है. इसके तहत अध्ययनरत छात्रों के साथ-साथ पढ़ाई छोड़ चुके युवाओं को भी कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

यह भी पढ़े:- घर या दुकान के बाहर ‘Free’ में लगवाएं चार्जिंग स्टेशन, कमाएं पैसा!

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments