Friday, February 23, 2024
a

HomeदेशCar Care Tips: ये चार गलतियां खराब कर देती हैं कार का...

Car Care Tips: ये चार गलतियां खराब कर देती हैं कार का क्लच, माइलेज में कमी के साथ बढ़ेगी मेंटेनेंस कॉस्ट

Car Care Tips: ये चार गलतियां खराब कर देती हैं कार का क्लच, माइलेज में कमी के साथ बढ़ेगी मेंटेनेंस कॉस्ट

भारतीय Car बाजार में इन दिनों ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कारों की मांग बढ़ रही है। आसान सफर के लिए लोग क्लचलेस कारों को तरजीह दे रहे हैं। इसके फायदे भी हैं। लेकिन मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारें भी खूब बिकती हैं। कार चलाना सीखते समय, केवल मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारें ही अधिक प्रचलित हैं। इसके अलावा देश में ज्यादातर लोगों के पास इस समय मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारें हैं। क्लच की खराबी या बर्नआउट को आमतौर पर मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारों में एक बड़ी समस्या के रूप में देखा जाता है। यहां हम आपको ड्राइविंग के दौरान की जाने वाली चार सामान्य गलतियों के बारे में बताएंगे, जिससे Car का क्लच जल जाता है, साथ ही आपकी कार का माइलेज भी कम होने लगता है। इन गलतियों को नियंत्रित कर आप न सिर्फ अपनी कार की क्लच प्लेट की लाइफ बढ़ा सकते हैं, बल्कि कार का माइलेज भी बढ़ा सकते हैं और मेंटेनेंस का खर्चा भी कम हो जाएगा।

अधिक ऊंचा पर क्लच और एक्सेलेरेटर का अत्यधिक उपयोग

चढ़ाई के दौरान अक्सर लोग कार के ब्रेक लगाने के बजाय क्लच और एक्सेलेरेटर का इस्तेमाल करते हैं। इससे कार का क्लच तेजी से गर्म होने लगता है। कई बार क्लच भी खराब हो जाता है। अधिक ऊंचाई पर क्लच और एक्सेलेरेटर का अत्यधिक उपयोग क्लच के जीवन पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है, जिससे यह जल्दी खराब हो जाता है। वास्तव में क्लच Car को पीछे की ओर लुढ़कने से रोकने के लिए ट्रांसमिशन को अधिक शक्ति हस्तांतरित करता है, लेकिन पूरी प्रक्रिया में बहुत अधिक गर्मी उत्पन्न होती है, जिससे क्लच के खराब होने और आग लगने की संभावना बढ़ जाती है।

ये भी देखे :– अब टीवी के रिमोट से मिलेगी निजात, गूगल (Google) का यह ऐप है कमाल

क्लच की त्वरित रिहाई

क्लच को छोड़ना एक कला है जो अनुभव के साथ आती है। दरअसल हर दूसरी कार के क्लच में अलग बाइट प्वाइंट होता है। ऐसे में बिना एक्सीलरेटर दिए उस बाइट प्वाइंट पर पहुंचकर कार को झटका लगने लगता है. इससे क्लच ज़्यादा गरम हो जाता है और क्लच जल्दी खराब हो जाता है। सीधे शब्दों में कहें, क्लच एक प्रेशर प्लेट है जो इंजन की शक्ति को ट्रांसमिशन में स्थानांतरित करता है। इंजन चालू होने पर इंजन चक्का हमेशा घूमता रहता है। जब कार रुक जाती है और क्लच न्यूट्रल में होता है, तो ट्रांसमिशन और इंजन फ्लाईव्हील दोनों डिस्कनेक्ट हो जाते हैं।

जब पहला गियर लगा होता है और क्लच को धीरे-धीरे छोड़ा जाता है, तो क्लच प्लेट्स जुड़ जाती हैं, जो बदले में ट्रांसमिशन को आगे बढ़ाती है और कार को आगे बढ़ाती है। यदि क्लच बहुत जल्दी छोड़ दिया जाता है, तो ट्रांसमिशन, जो स्थिर है, विपरीत बल लागू करेगा और क्लच सामान्य उपयोग की तुलना में अधिक तेज़ी से सक्रिय होगा। क्लच को बहुत जल्दी छोड़ने से ट्रांसमिशन को गंभीर नुकसान हो सकता है। इससे आग लगने का भी खतरा रहता है।

ये भी  देखे :-  Aadhar card से लिंक मोबाइल नंबर भूल गए हैं तो ऐसें अपडेट करे, ये आसान तरीका आपकी मदद करेगा

ट्रैफिक जाम में क्लच पकड़ना

बहुत से लोग भारी ट्रैफिक के दौरान हल्के क्लच के साथ लंबे समय तक गाड़ी चलाते हैं। इससे क्लच पर काफी दबाव पड़ता है। ऐसे में बेहतर होगा कि जब तक आपको पर्याप्त जगह न मिल जाए, तब तक अपनी कार को न हिलाएं। यह भी ध्यान दें कि अगर वाहन 20 सेकंड के लिए आगे नहीं बढ़ने वाला है, तो उसे न्यूट्रल पर रखें। क्लच पेडल को लंबे समय तक दबाने से क्लच की बॉल बेयरिंग खराब हो सकती है। हालांकि, भले ही बेयरिंग को बदला जा सकता है, इसके लिए पूरे सेट-अप को फिर से निकालने की आवश्यकता होगी। अक्सर ट्रैफिक में इस लापरवाही से लोगों के चंगुल जल जाते हैं.

ये भी पढ़े:- इन 5 योजनाओं में निवेश करें ! मुनाफा दोगुना होगा, tax की भी बचत होगी
मृत पेडल
ड्राइवर के लिए यह याद रखना बहुत जरूरी है कि अगर आपकी कार में डेड पेडल नहीं है तो आपको क्लच को डेड पेडल नहीं मानना ​​चाहिए। ज्यादातर कारों में डेड पेडल उपलब्ध नहीं होता है। इस वजह से कई कार चालक अपने बाएं पैर को क्लच पर आराम के लिए रखते हैं। यानी वे इसे डेड पेडल की तरह इस्तेमाल करते हैं। लेकिन थोड़े से दबाव के कारण क्लच आंशिक रूप से काम करता रहता है, जिससे कार का माइलेज कम हो जाता है। और अगर आप इसे लंबे समय तक करते हैं, तो क्लच खराब हो जाता है।

ये भी देखे :-  Google Pay, Paytm और PhonePe को  मिलेगी जबरदस्त टक्कर, आ रहा है नया OnePlus भुगतान ऐप

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments