Black fungus

हवा में रहता है Black fungus, देशभर के डॉक्टरों ने दी गाइडलाइंस- कैसे करें पहचान, बचाव और इलाज 

हवा में रहता है Black fungus, देशभर के डॉक्टरों ने दी गाइडलाइंस- कैसे करें पहचान, बचाव और इलाज 

देश के कई राज्यों में Mucaramicosis (Black Fungus) एक नई त्रासदी बनकर उभरा है। हर दिन इसके नए मामले चिंता पैदा करते हैं। ऐसे में हम थोड़ी सावधानी बरतकर इस फंगस से खुद को बचा सकते हैं। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की ओर से जारी एडवाइजरी आपके बहुत काम आ सकती है। आइए जानते हैं कि काला कवक क्या है, इसके लक्षण क्या हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है।

ये भी देखे:- LPG से जुड़ा कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो सरकार से मिलेगी मदद, यहां जानिए पूरी जानकारी 

हवा में होता है काला फंगस

मुचरामिकिस एक फंगल संक्रमण है। यह उन लोगों को प्रभावित करता है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता किसी बीमारी या उसके उपचार के कारण कमजोर हो जाती है। यह कवक हवा में मौजूद होता है और ऐसे लोगों को संक्रमित करता है।

लक्षणों को पहचानें

आंखों और नाक के आसपास दर्द या लाली
बुखार
सरदर्द
खांसी
सांस लेने में परेशानी
उल्टी में खून
मानसिक भ्रम की स्थिति

ये भी देखे :-  नाम, पता और जन्मतिथि को Aadhaar में बदलने के लिए ये दस्तावेज काम आएंगे, लिस्ट चेक करें

वे अधिक असुरक्षित हैं

जिन्हें अनियंत्रित मधुमेह है
स्टेरॉयड लेना
लंबे समय से ICU में हैं
किसी प्रकार का प्रत्यारोपण
वोरिकोनाज़ोल थेरेपी ली जाती है (एंटीफंगल उपचार)

हम कैसे रक्षा कर सकते हैं

अगर आप धूल भरे कंस्ट्रक्शन साइट पर जाते हैं तो मास्क जरूर पहनें।
बागवानी या मिट्टी का काम करते समय जूते, फुल पैंट-शर्ट और दस्ताने पहनें।
व्यक्तिगत स्वच्छता का ध्यान रखें। प्रतिदिन अच्छा स्नान करें।

इन बातों को न करें नज़रअंदाज़
(अगर कोरोना, डायबिटीज और इम्यूनोसप्रेसेंट का इलाज चल रहा है)

नाक जाम हो जाती है या नाक से काला या खूनी पदार्थ निकलता है।
गाल की हड्डी में दर्द होता है।
नाक/तालु पर कालापन होना चाहिए।
दांत दर्द, दांत दर्द, जबड़े की समस्या।
त्वचा पर घाव, बुखार, दर्द या धुंधलापन, खून का थक्का जम गया है।
सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ।

ये भी देखे :- अब घर बैठे covicelf से करें corona की जांच, जानिए आप इसका इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं

इन बातों का रखें ध्यान

रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करें।
मधुमेह के मरीजों को कोविड के ठीक होने के बाद ब्लड ग्लूकोज पर नजर रखनी चाहिए।
डॉक्टर की सलाह पर ही स्टेरॉयड लें। इनका सही समय, सही खुराक और सही समय पर उपयोग करें।

ऑक्सीजन थैरेपी के लिए स्वच्छ और जीवाणुरहित पानी का ही प्रयोग करें।
एंटीबायोटिक्स और एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल समझदारी से करना चाहिए।

ये गलतियां न करें

काले फंगस के लक्षणों को नजरअंदाज न करें।
अगर नाक बंद है तो इसे साइनसाइटिस न समझें, खासकर अगर आप हाई रिस्क कैटेगरी में हैं।
डॉक्टर की सलाह पर KOH स्टेनिंग और माइक्रोस्कोपी, कल्चर, MALDI-TOF की जांच करवाएं।
इलाज में देरी न करें, पहले लक्षण दिखते ही सतर्क हो जाएं।

स्थिति को कैसे संभालें (डॉक्टर की देखरेख में)

मधुमेह और मधुमेह कीटोएसिडोसिस को नियंत्रित करते हैं।
यदि रोगी स्टेरॉयड ले रहा है, तो उन्हें रोकने के लिए उन्हें धीरे-धीरे कम करें।
इम्यूनोमॉड्यूलेटिंग दवाओं को बंद कर दें।
पहले से ऐंटिफंगल दवाएं न लें।
रेडियो-इमेजिंग के साथ मॉनिटर।

ये भी देखे :-  ये भी देखे:- सरकार ने WhatsApp को दी चेतावनी, कहा- पॉलिसी वापस लें, वरना उठा सकते हैं कड़े कदम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *