Big News

Big News :- कक्षा 6 और 7 के छात्रों की परीक्षा नहीं होगी, आठवीं कक्षा के छात्रों को बढ़ावा देने की मांग

Big News :- कक्षा 6 और 7 के छात्रों की परीक्षा नहीं होगी, आठवीं कक्षा के छात्रों को प्रमोट  देने की मांग 

शिक्षा विभाग ने कोविद के बढ़ते प्रकोप के कारण राज्य में छठी और सातवीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों को बढ़ावा देने का फैसला किया है। इन दोनों वर्गों के छात्रों की परीक्षा नहीं ली जाएगी। शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं। तदनुसार, कार्यक्रम के मूल्यांकन के आधार पर मुस्कान को बढ़ावा दिया जाएगा।

ये भी देखे :- Paytm यूजर्स के लिए खुशखबरी, एक क्लिक पर मिलेगा 2 लाख तक का लोन

यह ध्यान देने योग्य है कि कोविद को देखते हुए, राज्य के कई शहरों में आंशिक रूप से तालाबंदी है, साथ ही सरकार ने 19 अप्रैल तक नौवीं कक्षा तक के सरकारी और निजी स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है। इन स्कूलों में 15 अप्रैल से कक्षा छठी और सातवीं की परीक्षाएं शुरू होनी थीं। स्कूल बंद होने के बाद से लगातार इन दोनों कक्षाओं की परीक्षाओं के संचालन पर संदेह था। शिक्षक संगठन यह भी मांग कर रहे थे कि परीक्षाओं को रद्द किया जाए और छात्रों को पदोन्नत किया जाए। शिक्षा विभाग द्वारा लिए गए निर्णय के बाद पहली से सातवीं कक्षा के छात्र परीक्षा दिए बिना अगली कक्षा में आएंगे।

ये भी देखे : बेटी की शादी की टेंशन (daughter’s marriage) अब छू मंतर , जल्दी कीजिए ये काम, आपको मिलेंगे 27 लाख

अब 9 वीं और 11 वीं की परीक्षा पर संदेह है

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि राज्य में कक्षा 9 और 11 की परीक्षाएं 22 अप्रैल से 3 मई के बीच होनी हैं। सरकार ने नौवीं कक्षा के छात्रों के लिए 19 अप्रैल तक के लिए प्रतिबंधित कर दिया है। केवल 10 वीं से 12 वीं तक के छात्र आ रहे हैं। विद्यालय। यदि कोविद को 19 अप्रैल तक नियंत्रित नहीं किया जाता है, तो इन परीक्षाओं को आयोजित करना भी बहुत कठिन है। उसी तरह, स्कूल बंद होने और ऐसे दिन की छुट्टी के बाद 22 अप्रैल को स्कूलों के लिए सीधी परीक्षा आयोजित करना आसान नहीं होगा। ऐसे में इन दोनों कक्षाओं की परीक्षा को लेकर संशय बना हुआ है।

सरकार को आठवीं कक्षा के छात्रों को भी बढ़ावा देना चाहिए

कोविद के मद्देनजर आठवीं कक्षा के छात्रों को भी बढ़ावा देने के लिए शिक्षक संगठनों की बढ़ती मांग है। शिक्षक संगठनों का कहना है कि छात्र वैसे भी आठवीं कक्षा में फेल नहीं होते हैं। जैसे-जैसे कोविद के मामले बढ़ रहे हैं, बेहतर होगा कि सरकार 8 वीं बोर्ड परीक्षा देने के बजाय छात्रों को बढ़ावा दे। राजस्थान प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ के राज्य मंत्री अंजनी कुमार, शिक्षक संघ प्राथमिक माध्यमिक शिक्षक संघ RESTA राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष मोहर सिंह सलावद और जिला शिक्षक संघ राजस्थान शिक्षक संघ राधाकृष्णन कैलाश चंद सैन, राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और के मद्देनजर कोविद के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह के बढ़ते प्रकोप ने आठवीं कक्षा के छात्रों को बढ़ावा देने के लिए डोटासरा की मांग की है।

ये भी देखे :- आम आदमी के लिए बड़ी खबर – 50 लीटर पेट्रोल (petrol) मुफ्त में मिलेगा, अगर आप वाहन का टैंक भरने की सोच रहे हैं, तो तुरंत करें ये काम

 दसवीं और 12 वीं की बोर्ड परीक्षाएं 6 मई से

आपको बता दें कि राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 10 वीं और 12 वीं की परीक्षाएं 6 मई से शुरू होंगी। राजस्थान बोर्ड ने परीक्षा की डेटशीट जारी कर दी है। परीक्षा कार्यक्रम के अनुसार, 12 वीं की परीक्षाएं 29 मई तक और 10 मई की 25 मई तक चलेंगी। 10 वीं वोकेशनल और प्रवेश परीक्षाएं भी 6 मई से 27 मई तक आयोजित की जाएंगी। सभी परीक्षाएं सुबह 8.30 से 11.45 के बीच होंगी। इन दोनों कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षाएं अभी भी जारी हैं।

ये भी देखे :- राजस्थान सरकार का फैसला: बाल विवाह (child marriage) को रोकने के लिए शादी के कार्ड पर दूल्हा और दुल्हन की जन्मतिथि लिखेंगे 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *