Sunday, June 23, 2024
a

Homeराज्य शहरराजस्थानBig News कई बार शिकायत करने के बाद भी खनन विभाग मौन...

Big News कई बार शिकायत करने के बाद भी खनन विभाग मौन , चरागाह भूमि से बजरी का गोरखधंधा

Big News कई बार शिकायत करने के बाद भी खनन विभाग मौन , चरागाह भूमि से बजरी का गोरखधंधा

बागडोली/बोंली – भले ही सुप्रीम कोर्ट के सख्त आदेश हो, लेकिन क्षेत्र में खनन विभाग की मौन स्वीकृति से अवैध बजरी दोहन कर निर्गमन करने का गोरखधंधा धड़ल्ले से चल रहा है। अब तो चरागाह भूमि में भी बजरी का अवैध स्टॉक किया जाकर बजरी की कालाबाजारी जोरों पर है। लेकिन राजस्व विभाग ऐसे चुप्पी साधे मौन बैठा हुआ है। जैसे उसे इसकी कोई कानोकान खबर ही नहीं है।

मामला है बागडोली क्षेत्र चारागाह भूमि व बंधावल स्थित वन विभाग भूमि का। भूमाफिया प्रशासनिक मिलीभगत व अनदेखी से सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की चरागाह पर कब्जा करके इस कदर धज्जियां उड़ा रहे हैं, जिससे लगता है कि यह सब गोरखधंधा प्रशासनिक मिलीभगत से मौन स्वीकृति के साथ संभवतया हो रहा है।

ये भी देखे :-भीनमाल। किसानों का हित चिन्तन सिर्फ BJP सरकारों ने ही किया – गजेंद्र सिंह शेखावत

Big News
फाइल फोटो

– इस तरह से होती है योजना –

बजरी माफिया बनास नदी से रोजाना बजरी का दोहन कर चरागाह भूमि में लाकर स्टॉक करते है। फिर यहां से इस बजरी को बेचने का मौका देखकर धंधा करते है।
सूचना पर कहीं भी खाली कर देते है

-कोई भी कार्यवाही होने से पहले ही माफियाओं को मिल जाती है जानकारी-

बजरी माफियाओं का नेटवर्क इतना मजबूत है कि उन्हें तुरन्त प्रशासन की कार्यवाही की सूचना मिल जाती है, ऐसे में वह कहीं भी बजरी स्टॉक को खाली करके अपना वाहन कही खडा कर देते है। जिससे बीच रास्ते में बजरी खाली कर देने पर कई जगह आवाजाही प्रभावित हो जाती है। बागडोली से बहनोली के रास्ते पर ऐसे बजरी के मुख्य रास्ते पर हो रखे कई ढेर देखे जा

ये भी पढ़े:- Modi Governmen किसानों को 2000 रुपये दे रही है, इस तरह से आवेदन करें

-शर्मसार करता सिस्टम का रवैय्या-

बजरी खनन पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की पालना करने की बजाय प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारी की मौन स्वीकृति देखी जा रही है। इन्होंने बजरी खनन रोकने के लिए एक भी निर्गमन रास्ते को बंद नहीं करवाया है और न हीं किसी के विरूद्ध कोईकार्यवाही की है। अगर इसकी राय स्तर पर जांच की जाए तो बड़ा गोरखधंधा सामने आ सकता है। दूध का दूध पानी का पानी हो सकता हैं।

Big News
फाइल फोटो

-नदी पेटे में कोई कार्यवाही नहीं-

बनास नदी पेटे से प्रशासन ने आज तक कोई कार्यवाही नहीं की है, यदि बनास पेटे में जाकर सख्त कार्यवाही की जाए तो अवैध बजरी परिवहन की संभावना ही खत्म हो जाए। लेकिन विभाग आदेशों के तहत नाममात्र की रास्ते में मिलने वाहनों पर कार्यवाही करके चुप्पी साधे मौन बैठा हुआ है।

ये भी पढ़े:- 2024 में इंसान फिर से चाँद पर आएगा, US Government ने $ 28 बिलियन की मंजूरी दी

-दिखावटी तौर पर भरता है कार्यवाही का दंभ-

प्रशासन कुछ नाम मात्र की कभी कभी कार्यवाही कर इस अवैध गोरखधंधे पर अंकुश लगाने का दंभ भरता है, लेकिन चरागाह भूमि पर होने वाले स्टॉक को जानकारी देने के बाद भी जब्त नहीं करना प्रशासन की मिलीभगत को स्पष्ट करता दिखा है। बजरी माफिया प्रशासनिक मिलीभगत से बेलगाम हुए है। खनन विभाग के अधिकारीयों को 2-3 दिनों तक चरागाह में बजरी स्टॉक किए जाने की सूचना दी जा चुकी है, लेकिन कोई भी कोईकार्यवाही नहीं हुई है। जिससे कहीं न कहीं प्रशासन की इसमें मौन स्वीकृति सामने नजर आती है।

रिपोर्टर – आशाराम मीना- बागड़ोली

ये भी पढ़े:- Ram Mandir निर्माण: 70 एकड़ के परिसर से सटी जमीन की मापी पूरी हो गई है, पुलिस विभाग आवंटित किया जाएगा

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments