Friday, February 23, 2024
a

HomeदेशBank of india का भी निजीकरण किया जाएगा, इन 4 बैंकों के...

Bank of india का भी निजीकरण किया जाएगा, इन 4 बैंकों के नाम शामिल हैं

Bank of india का भी निजीकरण किया जाएगा, इन 4 बैंकों के नाम शामिल हैं

सरकार ने बजट में चार बैंकों के निजीकरण की घोषणा की है, जिसके कारण लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा है कि वे कौन से सरकारी बैंक हैं, जिनकी सरकार निजीकरण करने जा रही है। लेकिन अब सूत्रों के मुताबिक पता चला है कि जिन चार बैंकों का सरकार निजीकरण करने जा रही है, उनमें बैंक ऑफ इंडिया भी शामिल है। इसके अलावा बैंक ऑफ महाराष्ट्र (BOM), इंडियन ओवरसीज बैंक (IOB) और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया भी शामिल हैं। 1 फरवरी को पेश किए गए बजट में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि सरकार दो छोटे बैंकों और एक बीमा कंपनी के निजीकरण का लक्ष्य बना रही है।

ये भी देखे :- मोदी सरकार 1 अप्रैल से कर्मचारियों के लिए नए नियम लागू करेगी, आपका वेतन PF और ग्रेच्युटी प्रभावित होगी

छोटे और मध्यम बैंकों का निजीकरण किया जाएगा

शीर्ष अधिकारियों का कहना है कि निजीकरण के पहले दौर में सरकार बैंकों के निजीकरण को लेकर बाजार और निवेशकों के मूड को भांपने के लिए मध्यम और छोटे बैंकों का चयन कर रही है। अधिकारियों के अनुसार, यदि निवेशकों का रुझान सही है, तो भविष्य में, सरकार अपेक्षाकृत कुछ बड़े बैंकों के निजीकरण पर भी विचार कर सकती है।

बीओआई वर्तमान में देश भर में लगभग 50,000 और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में 33,000 लोगों को रोजगार देता है। इसके अलावा, इंडियन ओवरसीज बैंक में भी लगभग 26,000 कर्मचारी हैं। बैंक ऑफ महाराष्ट्र में केवल 13,000 कर्मचारी कार्यरत हैं। इस संदर्भ में, बैंक ऑफ महाराष्ट्र के निजीकरण को अधिक समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। सरकारी सूत्रों के अनुसार, निजीकरण की प्रक्रिया में 6 महीने लग सकते हैं।

ये भी देखे:- Driving License बनाना इतना आसान, केवल इस दस्तावेज़ की आवश्यकता होगी

कर्मचारियों के सामने बेरोजगारी का खतरा

गौरतलब है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के वर्चस्व वाले भारत के बैंकिंग क्षेत्र में निजीकरण का निर्णय बड़ी संख्या में कर्मचारियों के कारण जोखिम भरा हो सकता है। ऐसे में कई कर्मचारियों के सामने बेरोजगार होने का खतरा बढ़ सकता है। यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रशासन ने दूसरे स्तरीय बैंकों के साथ निजीकरण शुरू करने का फैसला किया है। वर्तमान में, 4 बैंकों में से जिन्हें निजीकरण के लिए चुना गया है, 2 बिक्री अप्रैल से शुरू होने वाले वित्तीय वर्ष में की जाएगी।

ये भी देखे :-  प्रोब्लम खत्म : घर बैठे 1 फ़ोन नंबर पर 5 Aadhar Card जोड़ें, यह आसान तरीका है

सरकार SBI में हिस्सेदारी नहीं बेचेगी

साथ ही, सरकार ने यह भी संकेत दिया है कि वह देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक में अपनी अधिकांश हिस्सेदारी बरकरार रखेगी। SBI देश के ग्रामीण क्षेत्रों में ऋण संवितरण और नीतियों के कार्यान्वयन को बढ़ावा देने के लिए एक रणनीतिक बैंक के रूप में माना जाएगा।

इसके साथ ही, सरकार एनपीए के बोझ तले बैंकिंग प्रणाली में भारी बदलाव के तहत निजीकरण को भी बढ़ावा दे रही है। सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने 4 राज्य संचालित बैंकों के निजीकरण का मन बना लिया था, लेकिन बैंक कर्मचारी संगठनों के विरोध की संभावना के कारण, वर्तमान में केवल दो के निजीकरण पर काम करने की सलाह दी जाती है।

ये भी देखे:- SBI खाताधारकों के लिए बड़ी राहत, अब ये सभी सुविधाएं घर बैठे मिलेंगी, जानिए किन ग्राहकों को होगा फायदा

 

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments