Wednesday, April 24, 2024
a

Homeधर्म आस्थाRam Mandir पर आपका नाम भी दर्ज करे, देखें कैसे संभव होगा

Ram Mandir पर आपका नाम भी दर्ज करे, देखें कैसे संभव होगा

राम मंदिर (Ram Mandir) पर आपका नाम भी दर्ज किया जा सकता है, पढ़िए यह कैसे संभव होगा

न्यूज़ डेस्क :- श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के अनुसार, राम मंदिर का निर्माण 1000 वर्ष की आयु को देखते हुए किया जा रहा है। जो हवा, सूरज और पानी से कटाव का खामियाजा उठाने के लिए पत्थर की क्षमता पर आधारित होगा।

निर्माण कार्य में लार्सन एंड टुब्रो कंपनी, IIT के इंजीनियरों की तकनीकी सहायता भी ली जा रही है। 60 मीटर तक साइल परीक्षण और भूकंप रोधी माप भी किए गए हैं।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बुधवार को वीएचपी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राम मंदिर के निर्माण में लोहे के एक भी गांव का उपयोग नहीं किया जाएगा।

मंदिर निर्माण पीसीसी तकनीक पर आधारित होगा।

Ram Mandir
File Photo Ram Mandir

राम मंदिर का क्षेत्रफल लगभग तीन एकड़ होगा। लोड के आधार पर, 60, 40 और 20 मीटर गहरे खंभे लगाए जाएंगे। अब सारा काम विशेषज्ञों के हाथ में है। कोई जल्दी नहीं है।

 

IIT चेन्नई ने 263 फिट गहराई के मिट्टी के नमूने लिए हैं। भूकंप के प्रभाव को जानने के लिए 60 मीटर तक के साइल परीक्षण किया गया है।

भूकंप रोधी माप भी किए गए हैं। सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट और IIT चेन्नई संयुक्त रूप से परीक्षण कर रहे हैं।
मंदिर में लोहे का 1 ग्राम भी नहीं, जमीन में लोहे का उपयोग नहीं किया जाता है। मंदिर पीसीसी तकनीक पर आधारित होगा।

यह भी देखे :- इस वजह से सौम्या टंडन छोड़ रही हैं ‘Bhabi Ji Ghar Par Hain’

डेढ़ एकड़ में लगभग 1200 पोल छीलने होंगे और एक छीलने ढाई मीटर का होगा। इसके ऊपर मंदिर का आधार होगा। लोड के आधार पर, 60, 40 और 20 मीटर गहरे खंभे लगाए जाएंगे।

अब सारा काम विशेषज्ञों के हाथ में है। कोई जल्दी नहीं है मंदिर निर्माण में कम से कम 36 महीने लगेंगे। यह 36 से 40 महीने का हो सकता है, लेकिन 36 से कम नहीं। इतना धैर्य रखना पड़ेगा।

मंदिर के चारों ओर परिक्रमा होगी और इसके बाहर परकोटा होगा। मंदिर को जोड़ने के लिए कॉपर स्ट्रिप्स की आवश्यकता होगी। तांबे की लगभग 10,000 स्ट्रिप्स का उपयोग किया जाएगा, 18 इंच लंबा, 3 मिमी मोटा, 30 मिमी चौड़ा। लोग अपनी ओर से लिखकर अपने गाँव-इलाके भेजेंगे और उसे मंदिर में स्थापित करेंगे। इसमें जनता का सीधा योगदान होगा। इसके लिए 10,000 2-2 इंच की छड़ की भी आवश्यकता होती है।

यह भी देखे :- Government Jobs के लिए केवल एक भर्ती परीक्षा होगी

Ram Mandir
File Photo Ram Mandir

लोगों को अपनी ओर से लिखकर गाँव-इलाके भेजना चाहिए और मंदिर में लगाना चाहिए

मंदिर के चारों ओर परिक्रमा होगी और इसके बाहर परकोटा होगा। मंदिर को जोड़ने के लिए कॉपर स्ट्रिप्स की आवश्यकता होगी। तांबे की लगभग 10,000 स्ट्रिप्स का उपयोग किया जाएगा, 18 इंच लंबा, 3 मिमी मोटा, 30 मिमी चौड़ा। लोग अपनी ओर से लिखकर अपने गाँव-इलाके भेजेंगे और उसे मंदिर में स्थापित करेंगे। इसमें जनता का सीधा योगदान होगा। इसके लिए 10,000 2-2 इंच की छड़ की भी आवश्यकता होती है।

खुदाई की चीजों के लिए संग्रहालय बनाया जाएगा

चंपत राय ने कहा, अब तक की खुदाई में जो भी मिला है, हम उसे लोगों को दिखाई देंगे। जब आप 1991 के 12 फीट नीचे के स्तर पर जाते हैं, तो वहां एक प्राचीन शिवलिंग पाया गया है। परीक्षण पत्थर के 7 काले फ्रेम, कमल के फूल की कलश, स्तंभों पर गणपति और यक्ष-यक्षिणी की मूर्तियां मिली हैं। 12 से 15 टन पत्थरों के टुकड़े मिले हैं। उसके लिए एक संग्रहालय बनाना होगा।

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments