Twitter

RSS नेताओं के हैंडल पर कार्रवाई, एक्शन की आहट के बीच Twitter ने वापस किया वेंकैया का ब्लू टिक

RSS नेताओं के हैंडल पर कार्रवाई, एक्शन की आहट के बीच Twitter ने वापस किया वेंकैया का ब्लू टिक

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के निजी Twitter अकाउंट पर ब्लू टिक वापस आ गया है। इससे पहले, ट्विटर ने स्पष्ट किया था कि लंबे समय तक अकाउंट लॉग इन नहीं होने के कारण ब्लू टिक हटा दिया गया था। वहीं, सूत्रों का कहना है कि सरकार भी ट्विटर के खिलाफ कार्रवाई के मूड में है।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के निजी ट्विटर अकाउंट को फिर से ‘सत्यापित’ किया गया है। शनिवार सुबह उनके खाते से ‘ब्लू टिक’ हटा दिया गया। ब्लू टिक हटाने के बाद ट्विटर इंडिया ने कहा कि लंबे समय से अकाउंट लॉग इन नहीं होने के कारण ऐसा हुआ है। हालांकि, वेरिफिकेशन हटाने के चंद घंटे बाद ही ट्विटर ने उनके अकाउंट का ब्लू टिक वापस कर दिया है। इस बीच सूत्रों का कहना है कि सरकार उपराष्ट्रपति समेत कई आरएसएस नेताओं के खातों से ब्लू टिक हटाने से नाराज है और कहा जा रहा है कि सरकार ट्विटर के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है.

ये भी देखे:- सरकार (Government) की इस योजना में प्रतिदिन 7 रुपये जमा करें और हर महीने 5,000 रुपये प्राप्त करें, साथ ही टैक्स में छूट, जानिए क्या है योजना?

सूत्रों के मुताबिक आईटी मंत्रालय इसे ट्विटर की ‘गलत मंशा’ मान रहा है और इसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की तैयारी कर रहा है। सूत्र बताते हैं कि आईटी मंत्रालय आज ट्विटर पर एक नोटिस भेजकर पूछेगा कि उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को बिना बताए उनके ट्विटर अकाउंट से ब्लू टिक कैसे हटा दिया गया। यह भारत के संवैधानिक पद की अवमानना ​​है।

दरअसल, शनिवार सुबह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू @MVenkaiahNaidu के निजी ट्विटर हैंडल से ‘ब्लू टिक’ हटा दिया गया। ब्लू टिक से ही अकाउंट के वेरिफिकेशन का पता चलता है। हालांकि, उपराष्ट्रपति के ट्विटर हैंडल @VPSecretariat से ब्लू टिक नहीं हटाया गया। हालांकि, एक घंटे बाद फिर से उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के ट्विटर अकाउंट पर ब्लू टिक आ गया है।

इस पूरे मामले पर ट्विटर इंडिया ने सफाई दी थी कि ”खाते को काफी समय से लॉग इन नहीं किया गया था, जिसके चलते ब्लू टिक हटा दिया गया था.” हालांकि अभी तक आरएसएस के तमाम बड़े नेताओं सुरेश जोशी, सुरेश सोनी और अरुण कुमार के Twitter अकाउंट वेरिफाई नहीं हुए हैं.

हालांकि देखा जाए तो कुछ Twitter अकाउंट ऐसे भी हैं जो कई सालों से एक्टिव नहीं हैं, फिर भी उन पर ब्लू टिक लगा है। मसलन, पूर्व वित्त मंत्री और दिवंगत बीजेपी नेता अरुण जेटली के ट्विटर अकाउंट से आखिरी ट्वीट 7 अगस्त 2019 को किया गया था, लेकिन उनका अकाउंट अभी भी वेरिफाइड है.

ये भी देखे:- मुफ्त राशन पाने के लिए घर बैठे बनवाएं Ration Card, जानिए ऑनलाइन आवेदन करने की पूरी प्रक्रिया

वहीं, Twitter के नियम कहते हैं कि पिछले 6 महीनों में लॉग इन करना जरूरी है, तभी इसे एक्टिव अकाउंट माना जाएगा। हालांकि, यह जरूरी नहीं है कि आप ट्वीट करें, रिट्वीट करें, लाइन करें, फॉलो करें, अनफॉलो करें। लेकिन अकाउंट को एक्टिव रखने के लिए 6 महीने में एक बार लॉग इन करना जरूरी है और प्रोफाइल को अपडेट रखना जरूरी है। लाइव टीवी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *