10K

10K को 10K लिखा जाता है लेकिन 10T को क्यों नहीं? इसके पीछे दिलचस्प गणित

10K को 10K लिखा जाता है लेकिन 10T को क्यों नहीं? इसके पीछे दिलचस्प गणित

हम 10K को 10K लिखते हैं लेकिन 10T को क्यों नहीं? आप में से ज्यादातर लोगों ने कभी न कभी यह सवाल अपने मन में जरूर उठाया होगा, लेकिन इसका जवाब नहीं मिला होगा। तो आज हम आपको इसके पीछे के गणित के बारे में बताएंगे कि हम ‘T’ की जगह ‘K’ का इस्तेमाल क्यों करते हैं।

शॉर्ट फॉर्म का चलन पूरी दुनिया में इतना बढ़ गया है कि लोगों ने संख्या को संक्षेप में लिखना शुरू कर दिया है। अगर किसी को 10 हजार 10 मिलियन लिखने के लिए कहा जाता है, तो वह 10K और 10M लिखना पसंद करता है। हालांकि, यहां सवाल यह उठता है कि जब हम ‘एम’ का इस्तेमाल मिलियन के लिए करते हैं, तो हजार के लिए ‘टी’ क्यों नहीं? हम हजार के लिए ‘K’ का प्रयोग क्यों करते हैं? आइए जानते हैं क्या है इसके पीछे का गणित।

ये भी देखे :-  BMW स्कूट भारत में लॉन्च होने से पहले लगभग 100 बुकिंग हो चुकी है

‘क’ का प्रयोग क्यों किया जाता है?
रिपोर्ट्स के मुताबिक ‘क’ की कहानी की शुरुआत ग्रीक शब्द ‘चिलिओई’ से हुई, जिसका मतलब होता है हजार। इसका प्रयोग सर्वप्रथम ग्रीक में ‘हजार’ के लिए किया जाता है। बाइबिल में भी इसका उल्लेख है। ग्रीक के बाद फ्रांसीसियों ने भी इस शब्द को अपनाया, जो बाद में किलो हो गया। इसके बाद किलो को हजार में जोड़कर इस्तेमाल किया जाने लगा। जहां कहीं भी एक हजार से गुणा करना होता था, वहां किलो का उपयोग किया जाता था। जैसे १००० ग्राम बनाया हुआ किलोग्राम, १००० मीटर बनाया किलोमीटर, १००० लीटर बनाया किलोलीटर आदि। यानी किलो का उपयोग १००० के लिए किया जाता है। इस कारण किलो हजार का प्रतीक बन गया। इस मामले में, K का उपयोग केवल किलो के लिए किया जाता है। और इसीलिए जब भी हम 10 हजार लिखते हैं तो 10k लिखा जाता है और 50 हजार के लिए 50k लिखा जाता है।

ये भी देखे :-  मारुति (Maruti) कार की कीमत में बढ़ोतरी सितंबर 2021 – ऑल्टो, वैगनआर, ब्रेज़ा, अर्टिगा, ईईसीओ, एस प्रेसो

ओके को लेकर भी काफी कंफ्यूजन है
दरअसल, All Correct को संक्षेप में OK कहा जाता है। 23 मार्च 1839 को ओके शब्द पहली बार अमेरिकी अखबार बोस्टन मॉर्निंग पोस्ट में छपा था। ठीक का मतलब है सब सही। ऐसा माना जाता है कि उस समय पढ़े-लिखे लोगों में गलत स्पेलिंग लिखने का फैशन था और उन्होंने ऑल करेक्ट टू ऑल कोर्रेक्ट लिखा, जिसे बोस्टन मॉर्निंग पोस्ट ने ओके कर दिया। तब से लेकर आज तक हम सब ‘ओके’ ही कहते हैं।

ये भी देखे :- 27 हजार तक के फ्लैट डिस्काउंट के साथ 2 टन क्षमता का AC उपलब्ध, बिजली ही बचेगी

कैसे ‘भगवान आपके साथ रहें’ कैसे बने ‘अलविदा’
कुछ ऐसा ही गुड बॉय के साथ भी हुआ। गुड बाय गॉड बी विद यू वाक्यांश से बना है। 1700 के दशक की शुरुआत में बच्चों को सुलाने के लिए पहली बार नर्सरी वाक्यांश में बाय-बाय का इस्तेमाल लोरी के रूप में किया गया था, इसलिए इसके लिए बेबी टॉक शब्द का भी इस्तेमाल किया जाता है। अलविदा के कई मायने हैं। इस शब्द का प्रयोग क्रिकेट और गोल्फ में भी होता है। जहां तक ​​अलविदा की बात है तो यह ईश्वर से बना है कि आपके साथ रहे। बाद में भगवान अच्छे में बदल गए। इसका कारण शायद शुभ दिन, शुभ रात्रि जैसे वाक्यांशों का चलन है

ये भी देखे :- Ration Card :- काम की खबर! राशन कार्ड बनाना हुआ मुश्किल, अब नए सॉफ्टवेयर में यह दस्तावेज देना जरूरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *