Monday, February 26, 2024
a

Homeटेक ज्ञान100 मिलियन क्रेडिट और डेबिट कार्ड डेटा लीक, Bitcoin (बिटकॉइन) के बदले...

100 मिलियन क्रेडिट और डेबिट कार्ड डेटा लीक, Bitcoin (बिटकॉइन) के बदले बेच रहे हैकर्स

100 मिलियन क्रेडिट और डेबिट कार्ड डेटा लीक, Bitcoin (बिटकॉइन) के बदले बेच रहे हैकर्स

न्यूज़ डेस्क:- डार्क वेब पर 10 करोड़ डेबिट और क्रेडिट कार्ड धारकों का डेटा लीक हो गया है। समाचार एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, यह दावा साइबर सुरक्षा शोधकर्ता राजशेखर राजहरिया ने किया है। लीक हुए डेटा में कार्ड धारक का पूरा नाम, फोन नंबर, ईमेल पता और कार्ड के पहले और अंतिम चार अंक शामिल हैं। बताया जा रहा है कि यह डेटा पेमेंट प्लेटफॉर्म Juspay से जुड़ा है। Juspay एक पेमेंट गेटवे है जो अमेज़ॅन, मेकमाईट्रिप और स्विगी सहित भारतीय और वैश्विक व्यापारियों के लिए लेनदेन की प्रक्रिया करता है।

हालांकि, बैंगलोर स्थित स्टार्टअप का कहना है कि साइबर हमले के दौरान किसी भी कार्ड नंबर या वित्तीय जानकारी से समझौता नहीं किया गया था और वास्तविक संख्या 100 मिलियन से बहुत कम है।

एक समाचार एजेंसी से बात करते हुए, एक कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, “18 अगस्त, 2020 को हमारे सर्वरों पर अनधिकृत हमलों का प्रयास किया गया था, जिन्हें रोक दिया गया था।” इस समय के दौरान कोई कार्ड नंबर, वित्तीय या लेनदेन डेटा लीक नहीं हुआ था। प्रवक्ता के अनुसार, कुछ गैर-गोपनीय डेटा, प्लेन टेक्स्ट ईमेल और फोन नंबर लीक हुए थे, लेकिन उनकी संख्या 100 मिलियन से बहुत कम है।

ये भी देखे:- 6 जनवरी से किराया बढ़ाने के लिए रेलवे ( railway) ,जानिए किस शहर के लिए कितना पैसा खर्च करना होगा

गूगल पर थोड़ी चूक हुई और 80 हजार का नुकसान हुआ, जानिए पूरा मामला

Bitcoin (बिटकॉइन) के बदले में बेचा जा रहा डेटा

राजाहरिया ने दावा किया है कि यह डेटा क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन के जरिए डार्क वेब पर बेचा जा रहा है। डेटा की कीमत का खुलासा नहीं किया गया था, हालांकि हैकर्स इसके लिए टेलीग्राम के माध्यम से संपर्क कर रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, यदि हैकर्स कार्ड फिंगरप्रिंट बनाने के लिए हैश एल्गोरिथ्म का उपयोग करने में सक्षम थे, तो वे नकाबपोश कार्ड नंबर को भी डिक्रिप्ट कर सकते थे। ऐसी स्थिति में सभी 10 करोड़ कार्ड धारकों के लिए खतरा है।

तो स्मार्टफोन की टूटी स्क्रीन 20 मिनट में खुद ठीक हो जाएगी

पहले लीक हुआ डेटा

आपको बता दें कि इसी तरह का मामला पिछले महीने सामने आया था जब 70 लाख भारतीय डेबिट और क्रेडिट कार्ड धारकों का डेटा डार्क वेब पर लीक हो गया था। डेटा लीक में यह भी बताया गया कि किस तरह का खाता है और मोबाइल अलर्ट चालू है या नहीं। रिपोर्ट के अनुसार, वह डेटा एक्सिस बैंक, भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल), केलॉग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और मैकिन्से एंड कंपनी के कुछ कर्मचारियों से संबंधित था।

Ashish Tiwari
Ashish Tiwarihttp://ainrajasthan.com
आवाज इंडिया न्यूज चैनल की शुरुआत 14 मई 2018 को श्री आशीष तिवारी द्वारा की गई थी। आवाज इंडिया न्यूज चैनल कम समय में देश में मुकाम हासिल कर चुका है। आज आवाज इन्डिया देश के 14 प्रदेशों में अपने 700 से ज्यादा सदस्यों के साथ बेहद जिम्मेदारी और निष्ठापूर्ण तरीके से कार्यरत है। जिन राज्यों में आवाज इंडिया न्यूज चैनल काम कर रहा है वह इस प्रकार हैं राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश, केरला, ओड़िशा और तेलंगाना। आवाज इंडिया न्यूज चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री आशीष तिवारी और डॉयरेक्टर श्रीमति सुरभि तिवारी हैं। श्री आशिष तिवारी ने राजस्थान यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र मे पोस्ट ग्रेजुएशन किया और पिछले 30 साल से न्यूज मीडिया इन्डस्ट्री से जुड़े हुए हैं। इस कार्यकाल में उन्हों ने देश की बड़ी बड़ी न्यूज एजेन्सीज और न्युज चैनल्स के साथ एक प्रभावी सदस्य की हैसियत से काम किया। अपने करियर के इस सफल और अदभुत तजुर्बे के आधार पर उन्होंने आवाज इंडिया न्यूज चैनल की नींव रखी और दो साल के कम समय में ही वह अपने चैनल के लिये न्यूज इन्डस्ट्री में एक अलग मकाम बनाने में कामयाब हुए हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments